What Does Kaal Sarp Dosh Puja Cost In Ujjain And Trimbakeshwar?

Have you ever gone to the Ujjain and Trimbakeshwar temples to perform Kaal Sarp Dosh puja? What is Kaal Sarp dosh puja and how does it perform? What has the Kaal Sarp dosh puja cost in Ujjain and Trimbakeshwar? 

When the person will suffer from Kaal Sarp dosh and what does it affect the person with this dosh? Why does the Kaal Sarp dosh puja perform in Ujjain and Trimbakeshwar (Maharashtra) temples?

Let’s move to know about the Kaal Sarp Dosh puja cost and vidhi to perform this puja in detail. We will discuss the Kaal Sarp Dosh puja remedy and vidhi to perform the puja to get rid of this dosh.

Kaal Sarp Dosh occurs in a person’s life when all seven planets come from the Rahu and Ketu Rashi of the person. The followers believe that they are very averse to this Kaal Sarp dosh puja and find the pandit to get rid of this dosh. Pandit helps the followers to perform the “Kaal Sarp Dosh Puja”.

Kaal Sarp dosh puja has affected the natives as per their planet’s places for 50 years or their whole life. 

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

Due to Kaal Sarp Dosh puja, the person can face the problems such as

  • A person can hesitate at their work office or practice.
  • Mental stability and calmness.
  • Performance issue at Workplace.
  • Trust issues
  • Scarcity with the things.
  • Health issues.
  • Problems in career.
  • Mental anxiety.
  • Family issues.

What Is Kaal Sarp Dosh?

Kaal Sarp Dosh Puja Cost In Ujjain And Trimbyakeshwar

Kaal Sarp dosh can affect a person’s life for at least 50 years and it could be for their whole life. When the seven planets come between Rahu and Ketu then the person will suffer from Kaal Sarp Dosh. What are Rahu and Ketu Rashi so that person has to face the Kaal Sarp dosh? 

Rahu is the mouth of the snake and Ketu is the remaining part of the body of the snake. Rahu and Ketu are active in the form of a snake and absorb all the planets in a person’s kundali and make them asleep to distant the person from positive energy.

We can define the meaning of Kaal Sarp Dosh as Kaal means death time and Sarp means a snake where the native could face many problems related to their health, career, money, family, and marriage. The timeline of Kaal Sarp Dosh puja depends on the other planets’ places for how much time they will be disabled. 

The Kaal Sarp Dosh can influence a person for almost 50 years and in some circumstances, it can be extended during their whole life due to planets’ places as per astrology. There could be different types of Kaal Sarp Dosh puja and some of them are Karkotak Kaal Sarp Dosh and Ekdant and each type of dosha affects differently. 

For the nivaran of Kaal Sarp Dosh, pandits suggest performing the Kaal Sarp Dosh Puja with a right vidhi and samagri for the puja. Kaal Sarp Dosh Puja helps to get rid of this Dosh as it troubles most people. 

What Could Be Kaal Sarp Dosh Nivaran?

For the nivaran of Kaal Sarp dosh, an astrologer or pandit advises performing the Kaal Sarp Dosh puja so that Rahu and Ketu Rashi could be disabled and other planets would be active to make the person’s life better. 

However, the person could not find out the effects of Kaal Sarp Dosh in their kundali, it makes them miserable or happens to them when it comes to their path. The effects of Kaal Sarp Dosh vary from person to person due to the yogas’ presence in their kundali. 

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

Perhaps it is not possible to change the position of the demonic planets named Rahu and Ketu, but both the planets respect the god Guru Brihaspati, the demon master Shukracharya, and at some point in life if the influence of Jupiter and Venus increases with worship, or rituals.

If it goes, then the intensity of Kaal Sarp Dosh puja gets reduced to a great extent, and in such a situation the upliftment of man starts, thus it is possible that through worship and rituals it is possible to remove the defect called Kaal Sarp Dosh Puja.

It is not that Kaal Sarp Dosh is bad for all the natives. A final decision can be taken only based on which house the planets are located in various ascendants and zodiac signs are in the horoscope.

There have been many such persons with Kaal Sarp Yoga, who, despite facing many difficulties, reached high positions.

Kaal Sarp Dosh puja nivaran is only done by the Kaal Sarp Dosh puja by a good pandit which you can get only from 99Pandit.com. 99Pandit has a well-experienced and highly educated pandit who will help you with the nivaran of Kaal Sarp Dosh.

Once you have done the Kaal Sarp Dosh Puja you will be free from the other obstacles you are facing in your life due to Kaal Sarp Dosh.

What Is Kaal Sarp Dosh Puja?

Kaal Sarp Dosh Puja Cost In Ujjain And Trimbyakeshwar

What is Kaal Sarp Dosh Puja and what is the right way to do it? Can we do the Kaal Sarp Dosh puja itself or require a online pandit to do it?

As we already described above, when Rahu and Ketu come between the other planets then Kaal Sarp Dosh occurs, and to get rid of this Dosh, we perform Kaal Sarp Dosh puja.

Kaal Sarp Dosh affects a person severely with varied misfortunes as it is a dreaded horoscopic occurrence.

The terrible astrology known as Kaal Sarp Dosh puja has a significant effect on persons who have suffered numerous catastrophes. According to legend, those who are interested in past lives have incurred a number of bad karmas as a result of their actions.

According to the placement of the planet in the horoscope, Kaal Sarp Dosh typically has an impact on a person for 47 years, but it can also have longer-lasting or even permanent consequences.

Rahu is in the 3rd, 6th, or 11th house on the birth chart, and Rahu is in the 5th, 8th, or 12th house, therefore the effect of Kaal Sarp Dosh puja is controllable and brief.

It states that when all the planets gather in the horoscope, the Kaal Sarp Dosh does not get harmful effects. In the case of any person’s birth, if Rahu and Ketu faces are in the same direction, other planets will be by their side.

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

This period will be called serpent yoga (Kaal Sarp Dosh). If the other seven planets could get collected on the left side, the Kaal Sarp Dosh effect will be active and harmful. 

There are 12 types of Kaal Sarp Dosh whose effects vary from person to person. 

Why To Perform Kaal Sarp Dosh Puja?

Many people are aware of their Kaal Sarp dosh in Kundali but some of them give rise to their problems. 

To resolve the obstacles of your life you need to do the Kaal Sarp dosh puja in Ujjain and Trimya Keshwar as both temples are particularly significant to perform the Kaal Sarp Dosh puja. Do you want to know about the Kaal Sarp dosh puja cost in Ujjain and Trimbakeshwar

We will discuss the Kaal Sarp Dosh puja cost in Ujjain and Trimbakeshwar in the next paragraph so that you will get to know about the cost of Kaal Sarp Dosh puja.

As the Rahu and Ketu, both are defined as negative energy that also affects the person’s physical and mental health if he is associated with Kaal Sarp Dosh.

As soon as the native gets to know about his Kaal Sarp Dosh in Kundali he should perform the Kaal Sarp Dosh puja immediately.

There is also a myth that if someone killed a snake then it would be possible to enter the Kaal Sarp Dosh in person’s kundali among family members.

This is necessary to perform the Kaal Sarp Dosh puja whenever you get to know about the Kaal Sarp Dosh in your kundali.

If someone ignores the Kaal Sarp Dosh puja, there would be some difficulties a person could face. But performing the Kaal Sarp Dosh puja will give you the benefit for

  • Of good relations between the partners.
  • Stability of mind and good health.
  • Get away from negative energy.
  • Help to get good health and growth in a career.

Kaal Sarp Dosh has negative energies associated with it which also impact the person’s kundali with the effect on the physical, mental and unconscious state of a person.

What Is The Procedure To Perform Kaal Sarp Dosh Puja?

Kaal Sarp Dosh Puja for Kaal Sarp Shanti Puja cost is not too much, you can do the puja by yourself or also with the help of Pandit Ji. To resolve the obstacles of your life faster, Mahakaleshwar (Ujjain) or TrimbaKeshwar (Maharashtra) is the best place to have this Kaal Sarp Shanti Puja. 

A Pandit (Brahman) who is knowledgeable about and experienced in carrying out Kaal Sarp Dosh Puja through its entire procedure must execute the puja.

99Pandit has all kinds of specialists who can perform best in Kaal Sarp Dosh Puja and has a wealth of knowledge and experience in assisting people in removing this frightening dosh from their horoscope. By fostering harmony and tranquility in people’s lives, 99Pandit has made a name for itself in this field.

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

To perform the Kaal Sarp Dosh puja for Kaal Sarp Shanti puja cost, there we are going to explain the steps one by one and must read the steps for performing Kaal Sarp Dosh Puja.

  • The Kaal Sarp Dosh puja is required only for one day to be done.
  • The Kaal Sarp Dosh puja takes almost 2 hours to complete the vidhi and puja. It is mandatory to give food to the needed ones.
  • Now make a space to put Lord Ganesh, 1 Gold Naag, Matruka puja, and 1 silver murti of Rahu and Ketu, and then start to worship them.
  • Now after then worship the navgraha.
  • After navgrah puja, worship the Lord Shiv and do havan using Kala teel and Ghee.
  • To perform the puja people are required to wear traditional clothes like men are required to wear and women need to wear a saree.
  • Pregnant women could not sit in this puja and other women wash their hair before doing the puja.
  • Natives need to take a bath before performing the puja.
  • After the completion of the puja, people can also do Rudra Abhishek to finish the puja.
  • The person who lost his son will perform the pitru paksha puja and grandsons will not perform while their father is alive.

The mantra for Kaal Sarp Dosh puja and Kaal Sarp Shanti puja is 

नाग गायत्री मंत्र: ‘ॐ नवकुलाय विद्यमहे विषदंताय धीमहि तन्नो सर्प: प्रचोदयात्

Samagri Required For Kaal Sarp Puja

The list of items required for Kaal Sarp Dosh puja you need to have:

  • 1 Shreephal, 11 Supari
  • Cloves 10 Gram, Cardamom 10 Gram
  • 7 Paan Leaves 
  • Roli 100 Gram, 5 Mauli 
  • 11 Jan, Raw Milk 100 Gram
  • 100 gm Curd, Desi Ghee 
  • 50 gm Honey, Sugar 500 Gram
  • Dhoop and Agarbatti 
  • Kamal Gatta Rs 20, 
  • Cotton 1 Packet, Navgrah Samidha
  • Dry Coconut 
  • Yellow Cloth 25 Meter
  • Iron Bowl, 11 Mango Leaves 
  • Sabut Urad Dal 
  • Wooden Chowki 
  • 11 Bel Patri, Shivling 1
  • Snake 9

How To Perform Kaal Sarp Dosh Puja Cost In Ujjain?

Mahakaleshwar (Ujjain) is the best place to perform the Kaal Sarp Dosh puja as it is a place of Lord Bholenath. Ujjain city is located in the state of Madhya Pradesh, India.

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

The Mahakaleshwar temple is situated near the Shipra river and on the side of Rudra Sagar lake. This Jyotirlinga is one of the 12 Jyotirlinga of India and Swayambhu is the linga.

Performing the Kaal Sarp Shanti puja in this holy place will give the results very soon to help you get rid of all the problems you are facing.

If people have issues in their family, career, health issues, and married life, it means there is Kaal Sarp Dosh in their kundali. As Rahu and Ketu surround the other planets to make them asleep. 

Kaal Sarp Dosh puja in Ujjain does not cost much, you can simply go to Ujjain and perform the puja very well at the temple. Even the pandit or samagri for the puja you will get in Ujjain. Along with it, the cost of Kaal Sarp Dosh puja depends on the number of pandits involved in puja.

There are mainly three types of puja performed for the Kaal Sarp Dosh puja in Ujjain:

  1. Firstly you can perform the Kaal Sarp Dosh puja with a single pandit only which will cost up to 2100/- excluding puja samagri.
  2. Secondly, you can include 2 pandits for Kaal Sarp dosh puja where 1 pandit will perform the puja and 2nd pandit will chant the Rahu-Ketu mantra, this type of puja will cost up to 3100/-.
  3. And the third way involves 4 pandits for the Kaal Sarp Dosh puja where 1 pandit is for performing and the remaining 3 pandits will be for the Rahu-Ketu mantra, costing up to 5100/-.

This depends on you to select the puja type you want to perform as the samagri will be the same used for all the types. Just the difference in the results of puja. The 3rd way will give you the result in 15 days and the 2nd way will take 1 month to give the results. 

If in case you are unable to go physically to Ujjain to perform the Kaal Sarp Dosh puja you can do the puja online with the instructions of pandit Ji. The vidhi of the puja will be the same, we 99Pandit also provide E-puja (online puja) to those who are unable to come to Ujjain. 

There are 12 types of Kaal Sarp Dosh which have different effects on natives according to their planet’s position in kundali:

  • Anant Kaal Sarp Dosh
  • Kulik Kaal Sarp Dosh
  • Vasuki Kaal Sarp Dosh
  • Shankhpal Kaal Sarp Dosh
  • Padam Kaal Sarp Dosh
  • Maha Padam Kaal Sarp Dosh
  • Takshak Kaal Sarp Dosh
  • Karkotak Kaal Sarp Dosh
  • Shankachood Kaal Sarp Dosh
  • Ghatak Kaal Sarp Dosh
  • Vishdhar Kaal Sarp Dosh
  • Sheshnag Kaal Sarp Dosh

We need to perform the Kaal Sarp dosh puja in Ujjain when a person has the dosh in his kundali so this Kaal Sarp Shanti puja will be performed generally on Amavasya, Shravan somwar, or any other good day.

Kaal Sarp Dosh Puja Procedure In Ujjain

To perform the Kaal Sarp Dosh puja cost in Ujjain starts from a minimum of 2100/- to 28000/- depending on the number of pujas. The puja samagri will be brought by the pandit Ji. You can contact 99Pandits for the Kaal Sarp Dosh puja for a single day.

  • First, we will start the puja with Ganesh puja with punyavachanam.
  • Then do the matrika puja and ayushya mantra jaap.
  • Will do it then Nandi shradh with acharya varan.
  • Perform the pradhan mandal pujan and do pran pratishtha.
  • Do the puja of 9 naag and Rahu Kaal sarp puja.
  • Navagraha and Rudra puja.
  • At the end do havan and visarjan of things in Shipra river.

How To Perform Kaal Sarp Dosh Puja In TrimbaKeshwar?

Kaal Sarp Dosh Puja Cost In Ujjain And Trimbyakeshwar

Kaal Sarp dosh puja cost in Trimbakeshwar does not charge much. How to perform the Kaal Sarp Dosh puja in TrimbaKeshwar and find the pandit for puja samagri?

In the town of Trimbak, which is located in the Maharashtra province of India and is 28 kilometers from the city of Nashik, there is an old Hindu temple named Trimbakeshwar. It is one of the twelve Jyotirlingas and is hence dedicated to Lord Shiva.

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

The Godavari River, the longest river in peninsular India, has its source nearby. Hinduism considers the Godavari River, which rises from the Brahmagiri Mountains and empties into the sea close to Rajahmundry, to be blessed.

Hindus revere Kushavarta, a kund, as a sacred bathing location and consider it to be the river Godavari’s symbolic birthplace.

Kaal Sarp Dosh Puja Cost In TrimbaKeshwar

Charges for the Kaal Sarp Dosh puja in Trimba Keshwar would be different according to the places where people choose to perform.

  • If you choose to perform the puja outside the temple in a hall then it would charge Rs. 1100 for the Kaal Sarp Shanti puja.
  • If you select an AC hall then it will charge 1500/INR for the Kaal Sarp Dosh puja.
  • Wishing to perform the Kaal Sarp dosh puja inside the temple costs 2100/-.
  • The other charge to perform the Kaal Sarp dosh puja inside the temple is 2500/- for two different tickets in the temple.
  • There is a charge of 5100/INR for the Kaal Sarp Shanti puja to perform inside the temple with Rahu-Ketu Jaap. This type of pooja is called Kaal Sarp Dosh puja.

Therefore, the Kaal Sarp dosh puja in Trimbakeshwar does not cost too much. This puja can be afforded by middle-class or high-class people as well. 

Procedure For Kaal Sarp Dosh Puja In TrimbaKeshwar

The remarkable fact of TrimbaKeshwar Jyotirlingas is that its three faces personify Lord Brahma, Lord Vishnu, and Lord Rudra. And it takes only one day in TrimbaKeshwar for Kaal Sarp Dosh puja and takes a maximum of 6 hours to finish this puja.

  • A group of people will gather together to perform puja.
  • Natives are required to reach one day or before 6 am of the puja date.
  • The pandit Ji will be there to help you perform the puja.
  • Pandit Ji will carry the puja samagri, you do not need to carry anything.
  • The puja will be complete in 2-3 hrs.

Pandit For Kaal Sarp Dosh Puja In TrimbaKeshwar

99Pandit.com will help you to have a pandit or Book A Pandit Online for Kaal Sarp Shanti puja in Trimbakeshwar at a very effective price. 99Pandit will give 100% customer satisfaction and give you the best results immediately by doing Shanti or pooja vidhi. 

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit provides services for all types of puja like Kalsarp Pooja, Tripindi Shraddha, Narayan Nagbali, Nakshatra Shanti, Rudrabhishek, Laghurudra, Nav Chandi, Sat Chandi, Vastu Shanti, Pran Pratishtra, Maha Mritinjay Jaap, Grah Yadnya, Vivah Sanskar, Shrimad Maha Bhagwat Puran & other.

Having the services of 99Pandits you will get rid of all your issues and can create a bright or prosperous future.

Benefits Of Kaal Sarp Dosh Puja

It has the benefit that 9 species of snake bless the people if they perform Kaal Sarp Shanti puja. Along with the Kaal Sarp Dosh puja, if the Rahu-Ketu puja also is performed then it gives endless peace or opens doors of success.

Kaal Sarp Shanti puja also helps the natives to stay away from evil eyes and negative energy. This decreases the ill effects of the planets and leads to a professional life where the person will get respect in society. By worshiping the gold snake, the native will also get the dedication of Goddess Lakshmi.

  1. People motivate themselves and will be ready to take any risk in his/her life.
  2. This puja makes the person very sincere towards any activities.
  3. If the person does any approach or deeds then they will make a strong effort to come out of any issues in life.
  4. People can perform the Kaal Sarp Shanti puja at holy places like Ujjain or Trimbakeshwar.
  5. Families get their relations powerful and positive changes in life.

Upay To Overcome From Kaal Sarp Dosh

Upay To Overcome From Kaal Sarp Dosh

If you are not going to perform the Kaal Sarp Dosh puja for the Kaal Sarp Shanti puja, you can follow some remedies or supplies to overcome the Kaal Sarp dosh. 

  1. The First one is, chanting the mantra “Om Namah Shivay” which will give you the ability to overcome any difficulties that come in life due to Kaal Sarp Yog.
  2. The Second upay is chanting a Maha mritunjay mantra 108 times a day can diminish the adverse effects of this Dosha.
  3. Worshiping Lord Shiva by doing puja with milk and Abhishek can turn into good results in the native’s life by having Kaal Sarp Dosh.
  4. Worshiping Lord Nataraj can also help you to reduce the effect of Kaal Sarp dosh.
  5. Have a fast on Naag Panchami to reduce the Kaal Sarp dosh effect.
  6. Do a rigorous fast on Naag Panchami.

To remove the obstacles in your life that you are facing due to Kaal Sarp Dosh puja, you can contact 99Pandit where you will find the best solution for your needs.

Frequently Asked Question

Q. What is Kaal Sarp Dosh?

A.
When the seven planets come between Rahu and Ketu then the person will suffer from Kaal Sarp Dosh. Kaal Sarp dosh can affect a person’s life for at least 50 years and it could be for their whole life.

Q. What are the best places to perform Kaal Sarp Dosh puja?

A. The best options to perform the Kaal Sarp Dosh puja is Mahakaleshwar (Ujjain) or Trimbakeshwar (Maharashtra) which are two of the jyotirlingas of 12 lings in India.

Q. How much time does the Kaal Sarp Dosh puja take to complete?

A. Usually, the Kaal Sarp dosh puja takes 2 hrs to complete. If puja is done correctly and also it depends on the puja package you have selected.

Q. How much does it cost to perform a Kaal Sarp Dosh puja?

A. To perform the Kaal Sarp Dosh puja cost starts from a minimum of 2100/- to 28000/- depending on the number of pujas. Pandit Ji will brigs the all puja samagri. You can contact 99Pandits for the Kaal Sarp Dosh puja for a single day.

Q. What mantra should we chant to get rid of Kaal Sarp Dosh?

A. The mantra for Kaal Sarp Dosh puja and Kaal Sarp Shanti puja is नाग गायत्री मंत्र: ‘ॐ नवकुलाय विद्यमहे विषदंताय धीमहि तन्नो सर्प: प्रचोदयात्।

What Is Threading Ceremony (Janeau Ceremony) Cost, Vidhi & Benefit?

Do you find a pandit online to perform the Threading Ceremony (Janeau Ceremony)? Is there any way to find the pandit online instead of searching physically? Which is the best online platform to find the pandit online for Sacred thread (Janeau Ceremony)? What is Upnayanam Ceremony (Janeau Ceremony) or Threading Ceremony and how is it performed?

Usually, the Upnayanam ceremony (Sacred thread Ceremony) is performed for a boy’s growth between the ages of seven and fourteen, and the ritual is noticed. If the Threading Ceremony (Janeau ceremony) is not performed within this time frame then it should be before the completion of the wedding. 

At the time of this ritual performance, there are some guidelines or rules given by the pandit to the boy who is having the Janeau ceremony (Upnayanam  Ceremony).

The purpose of this ritual is to share the elder’s obligations to prepare a young man. The sacred thread is worn with a collective chant of the mantra “Gayatri” to the young guy.

When the thread is worn to the guy it is twisted upwards to ensure the quality of truth called “Sattva Guna” prevails. The Upnayanam ceremony (Janeau Ceremony) or Threading Ceremony is implied that the guy will now take part in family ceremonies as the wearer of “Janeau”.

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

The Sacred thread ceremony installs Indian cultural values and involves adopting a vow to live a disciplined, respectable spiritual life.

The most significant sanskar for young people of all genders. It truly provides a person with “fresh birth” (dwijatva).

Only until a person accepts specific moral ideals and humane disciplines and enlightens his or her intellect and inner self can personality development that is consistent with human dignity begin.

To direct this growth, the Yagyopaveet sanskar (Janeau Ceremony) is performed. This Upnayanam Ceremony or Threading Ceremony is connected to the beginning of the Gayatri Mantra and experiments with spiritual ascension.

All myths and delusions about Yagyopaveet and Gayatri were dispelled by pandits. He promoted the universality of Yagyopaveet and Gayatri, resurrected the procedures for performing this sanskar, and made.

What Is a Thread Ceremony (Janeau Ceremony)?

Thread Ceremony

What is the meaning of Upnayanam or Janeau, do you have any idea about it? Don’t worry we will explain to you the meaning and significance of the Threading Ceremony (Janeau Ceremony). 

The meaning of Upnayanam or Janeau is that after the performing Janeau Ceremony or Threading Ceremony, the boy starts to learn the Vedic by wearing the Janeau/thread on that day.

We consider the childbirth Rashi, nakshatra, and tithi while performing the Threading Ceremony (Sacred Thread Ceremony) with karma advantages. As the name implies in Threading Ceremony the person has to wear a thread, but it divides into two punul marriages.

The Threading Ceremony (Upnayanam  Ceremony) or Janeu Ceremony is a brahmin ritual to learn the Vedic studies, where the person needs to perform the Sandhya Vandana, Gayatri mantra daily for the improvement of the spiritual process in the child.

99Pandit.com is the best top leading platform that can provide you with the best knowledge and professional Hindu pandits for the Threading/Janeu/Upnayanam and Sacred Thread Ceremony.

This is a web-oriented platform where you can find the best solution to have your puja and other ceremonies. If you are looking to perform any puja or ceremony activity you can easily contact the 99 Pandit platform via call, email, or website visiting. 

Among the sixteen practices, known as Shodasha Samskaras in Hinduism, Upanayanam Ceremony is a significant step. Upanayanam is traditionally the Sanskar given to the child before sending him to the Gurukul to learn under “Brahmacharya.”

You will give your child the Upanayanam Vidhi and Brahmopadesham initiation necessary to qualify him for Vedic Scripture study.

The Upanayanam word describes the meaning as “bring near”. The updesham for the Gayatri mantra is given by the Vatu who sits near his father or uncle to undergo the Brahmpodesham and the vatu is also called by Dvij meaning twice-born. 

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

For the child whose age is 8 years for him, the Threading ceremony (Janeau Ceremony) or Upnayanam Ceremony is performed in Vasant Ritu.

Janeau or Upnayanam sanskar is performed usually at your residence but some people prefer to perform the ceremony in the temple. Users can also choose to perform the Upnayanam ceremony in kshetra to believe in bringing special benefits.

99 pandit has all types of pandits available, it can help you to provide Hindi pandit, Gujarati pandit, Marathi pandit, Bengali pandit or Tamil pandits to perform the Janeau or Upnayanam ceremony in different north and south Indian styles.

Throughout the Threading ceremony (Janeau Ceremony) or Upnayanam ceremony, the boy is to get introduced to the concept of Brahman. This ceremony also introduced the wearer of Janeau to participate in the family ritual from onwards. 

Key Facts on Upnayanam Sanskar (Janeau Ceremony)

Thread Ceremony

  • Janeu Ceremony or Upnayanam Ceremony develops the discipline and development of a boy.
    99 pandit has highly-qualified and specialized priests and pandits.
  • Every ritual of the Threading ceremony (Janeau Ceremony) or Upnayanam Ceremony follows Vedic standards and procedures.
  • 99 pandit priests ask to use high-quality samagri to ensure a pleasant ceremony.
  • Guarantees punctuality and authenticity for the Janeau Ceremony.
  • We provide Professional Guidance & Support.

99 pandit provides the best, high-qualified, and most experienced pandits who also bring the approved authentic puja samagri. The Upnayanam ceremony should always be performed on the right muhurta or day as in the discussion with pandit Ji.

Once you book the pandit for the ceremony you will get the needed information from your pandit for the Threading ceremony (Janeau Ceremony) or Upnayanam Ceremony.

The purpose of performing the Upnayanam Ceremony is the development of a boy and this sacred thread ceremony (Janeau ceremony) is usually performed between the age of seven to fourteen.

In case the Threading ceremony (Janeau ceremony) or Upnayanam ceremony could not be performed due to any reason, it should be performed before the wedding. 

During the Upnayanam ceremony, a thread is worn to the boy to share the responsibilities of elders by the man within the company of a group chanting the “Gayatri mantra”.

Brahmins perform this thread ceremony to follow their elder’s obligations. The thread worn to the guy is upward, twisted to make the “Sattawaguna prevails”. It is necessary to wear the Janeau thread for a lifetime to have the Brahmin rituals.

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

For the Upnayanam ceremony or Threading Ceremony, 3 strands have symbolic meanings. As per Hindu mythology, a bachelor man needs to wear a single thread, a married person should wear 2 threads and if in case the man has kids, he needs to wear the thread as per the number of kids. The 3 strands a man never forgets that are mentioned below. 

As the 3 strands of the thread of Janeau define three Goddess Parvati, Lakshmi & Saraswati and the guy only needs to facilitate those 3 deities of strength, wealth, and severally. 

The 3 debt strands of the thread are:

  • One’s teacher.
  • One’s parents & ancestors.
  • One’s scholars.

Religious Significance Of Threading Ceremony (Janeau Ceremony)

Apart from the marriage ceremony, the Janeau ceremony is the second most important religious observance in Hindu culture.

It is one of the sixteen samskaras and is typically performed for male members of the first three varnas. This spiritual initiation is generally carried out when young.

An ancient tradition called the Upnayanam ceremony signified a child’s entry into the Gurukula system of formal schooling.

The person was referred to as dwija (twice-born) since the guru took the place of the father in the second intellectual birth of the individual and the sacred Gayatri Mantra took the place of the mother.

The vatu was taught numerous Kalas (skills and art forms) and vidya in addition to Vedic mantras (education). The Upnayanam ceremony is what makes it possible for a Hindu to practice dharma and provide sacrifices.

The Threading ceremony strands of the thread stand for the purity of thoughts, words, and deeds of the Janeau wearer.

The thread wearer was introduced to the concept of brahman rituals and qualified to lead the brahmachari lifetime according to the manusmriti rule. 

The sacred thread wearing is a must in Hindu culture as it marks the education for kids to learn Vedic activities.

When The Upnayanam Ceremony or Threading Ceremony Is To Be Performed?

Threading Ceremony

Every Hindu ritual or ceremony should be done on the right muhurat or day. As per Hindu mythology like the marriage ceremony, the Threading ceremony (Janeau Ceremony), or the Upnayanam ceremony is the most important religious observance where a priest wore a pure thread to a guy between the age of seven to fourteen. 

To perform the Upnayanam ceremony, you need to contact a service provider or online portal (99pandit.com) where you can find an experienced pandit who will help you tell the muhurat for the ceremony. 

We can say that the Janeau ceremony is also known as the Sacred thread ceremony where brahmins wear a consecrated thread. 

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

To perform the Threading Ceremony (Janeau Ceremony) or Upnayanam Ceremony the age is seven to fourteen years. A person’s behavior can be divided into good, excellent, and very good. 

If a guy has faith in God and religion from a very young age excellently, the Janeau ceremony could be directed at the age of 7,9,11 considered good, excellent, and very good.

The objective of the Threading ceremony is that the guy wearing the Sacred thread is ready to carry out the responsibilities of the elders in the family.

From onward it makes the guy participate in the family traditions and rituals after the Janeau ceremony. This Upnayanam ceremony also signifies the social aspect that the sacred thread portrays. 

When a Hindu boy turns seven years old, the rite of Upnayanam, or the sacred thread ceremony, is traditionally conducted. The Upnayanam ceremony rite represents the passage from one stage of a boy’s life into another.

By participating in this rite, a boy leaves childhood behind and begins his journey toward manhood and knowledge. However, in contemporary times, a guy can perform this ceremony when he gets married.

Hindu men must participate in the thread ceremony before they can get married. Consequently, a Hindu groom must go through Upnayanam before getting married. This custom usually occurs a few days before the nuptials.

How The Threading Ceremony (Janeau Ceremony) Performed In North

In northern states like other rituals, pandits perform from the Ganesh puja to chanting Gayatri mantras, Threading ceremony (Janeau ceremony), or Upnayanam ceremony. To perform an Upnayanam ceremony there are a few steps followed by the pandit of 99pandit.com.

  • The Upnayanam ceremony starts with the pandit Ji from worshiping the Lord Ganesha.
  • After worshiping Lord Ganesh, the sacred thread was worn by the Hindu men.
  • Then the vows are issued to the guy.
  • The fuel sticks are offered to the sacred fire.
  • Now at the end, the guy has to beg for the food as per the ritual.

Why Is It Important To Perform Threading Ceremony (Janeau Ceremony)?

In brahmin culture Threading ceremony (Janeau ceremony) or Upnayanam ceremony is important to perform to follow the Vedic rules. In the olden days threading ceremony is considering a passport to obtain a formal education.

On that day before going to gurukul, the boys needed to be prepared for the disciplined lifestyle in place of education.

In the gurukul, the students get to learn about Vedic activities like seeking food by bhiksha which means asking the food from people for the guru and himself.

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

Along with the shastras and mantras, in the evening the student had to perform the sandhyavandanam and agnihotra under the guidance of a guru.

Threading ceremony or Upnayanam ceremony takes place at the age of a boy when he can understand the guru’s commands and instructions to follow them.

After the ceremony, paying the Dakshina or fee to the guru could be a set of clothes like dhoti or Uttareeyam with a staff palapa wood to the student and admit him to gurukulam.

The most important part of the Threading ceremony (Janeau Ceremony) or Upnayanam ceremony is wearing the sacred thread as per Hindu Sanatan Dharm.

There is a meaning of three strands of threads belonging to three Goddesses Lakshmi, Parvati & Saraswati. The thread also has the name Janeau, poita, Janoi &, etc which represents debts to gods, rishis, and ancestors.

The boy performing the Upnayanam ceremony or Threading Ceremony is called vatu and wears a girdle of mounji grass called mauji Bandhan which emphasizes self-control.

Book A Pandit Online From 99Pandit.Com For Threading Ceremony (Janeau Ceremony)

Threading Ceremony

99 Pandit is a web-oriented platform that has more than 100 pandits in every state of India like Tamil pandit, Hindi pandit, Kannada pandit, Gujarati pandit & many more. 99 Pandit hires only highly knowledgeable and experienced pandits who will perform the puja and other ceremonies in the right manner.

However, using 99Pandit’s services will enable you to get the greatest, all-inclusive answer for all of your Hindu-related needs.

When you encounter all these obstacles, it might be challenging for some people to engage a pandit for all these tasks, including doing puja, locating astrologers, and performing any type of puja on any occasion.

As a result, in today’s hurried and rapidly expanding society, you must organize everything carefully to carry out all the rituals. By engaging pandits for every occasion, the 99 Pandit team can assist with this holy practice.

In light of all of this, we have introduced you to one of the top platforms for connecting with users and pandits. 99Pandit will aid you in overcoming all of them.

You can easily search the 99 Pandit online platform and book a pandit online from 99 pandits for the Upnayanam ceremony or Threading Ceremony. To perform Hindu activities the rituals should be followed in the right way, which only 99 pandits can provide to you.

You can come to the official website of 99 Pandit and select the services as per your requirement. You can simply fill in the booking form with your basic details, our team will contact you to discuss the details. So, you can also directly call the pandit to discuss the other puja samagri and vidhi in detail.

99 pandit is an easy way where you can book a pandit online for the Threading ceremony (Janeau Ceremony) or Upnayanam ceremony. 

Benefits Of Performing Upnayanam Ceremony or Threading Ceremony

As we know the Threading ceremony (Janeau Ceremony) or Upnayanam Ceremony is an important part of Vedic & Hindu culture as it gives a special hand in following Hindu obligations or rules by the younger guy between the age of seven to fourteen. 

Apart from the following elder’s responsibilities to the guy who has performed the Upnayanam ceremony or Threading Ceremony, there are a lot of benefits or advantages of the Threading ceremony. 

Do you know there is a scientific reason behind wearing the Janeau Thread? The person who wears the Janeu thread does not suffer from blood pressure problems as compared to those who do not wear the thread.

To perform the Threading ceremony or Upnayanam ceremony the person needs to sit in a cross-legged position on the floor.

Due to this position the person also gets many health benefits like if someone ties the Janeau to one ear it keeps the stomach healthy and also sharpens the memory.

Wearing Jeaneu thread always keeps you away from negative thoughts and energy. 

You can contact Pandit Ji from 99Pandit.com to know the Shubh muhurat for Threading Ceremony or Janeau Ceremony.

The right way to wear the Janeau is only after cleaning and purifying yourself as it is sacred. Threading ceremony or Janeau ceremony is the most important ritual of Hinduism culture as it has a significant role in Vedic dharma which is performed in every Hindu family. 

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

The ritual states that the Upnayanam Ceremony or Threading Ceremony molds the younger child into a responsible individual who serves his family duties and responsibilities with self-awareness. The person for whom the Upnayanam ceremony or Threading Ceremony is performed is called a vatu and there are some spiritual benefits of the Upnayanam ceremony or Threading Ceremony.

  • Participate in family rituals and Hindu traditions.
  • Ready to study the Vedic study.
  • Can start the journey on a spiritual path.
  • Invoke the blessings from Lord Brihaspati.
  • Helps to stay away from negative energy
  • Gives you health benefits

The puja cost for the Threading ceremony starts from 5001/- and can vary as per your requirement. You can directly contact our Experienced pandit Ji to discuss the puja and Dakshina in detail.

According to the Shastras, a brahmin kid must be eight years old from conception or seven years and two months from birth to execute this ceremony. It lasts 12 years for Kshatriyas and 16 years for Vaishyas.

Although there was a tradition of Upnayanam for girls, it has evolved into a ceremony performed primarily on male kids over time. In the unique custom of “Kamyopanayana,” the Upnayanam ceremony or Threading Ceremony is performed at the age of five for exceptionally intellectual boys who can speak clearly.

Brahmana’s Upnayanam ceremony or Threading Ceremony was conducted in the spring, Kshatriyas in the summer, Vaishyas in the fall, and Rathakara in the wet season.

The muhurtham of the Upnayanam ceremony or Threading Ceremony can only be determined by a knowledgeable pandit as several astrological aspects are kept in consideration.

Frequently Asked Question

Q. What is a Threading ceremony (Janeau Ceremony)?

A.
The Threading Ceremony (Upnayan Ceremony) is a brahmin ritual to learn the Vedic studies, where the person needs to perform the Sandhya Vandana, Gayatri mantra daily for the improvement of the spiritual process in the child.

Q. Why is the Threading Ceremony or Upnayanam Ceremony important to Hindu culture?

A. In brahmin culture Threading ceremony (Janeau ceremony) or Upnayanam ceremony is important to perform to follow the Vedic rules. Threading ceremony or Upnayanam ceremony takes place at the age of a boy when he can understand the guru’s commands and instructions to follow them.

Q. When can the Upnayanam ceremony or Threading Ceremony be performed?

A. Usually, the Upnayanam ceremony or Threading Ceremony is performed between the age of seven to fourteen years of a guy to make them responsible for serving the family duties and rituals. Every Hindu ritual or ceremony should be done on the right muhurat or day.

Q. Can we perform the Upnayanam ceremony or Threading Ceremony at home?

A. Yes, you can perform the Threading ceremony at home but due to lack of space in urban life, we prefer to perform the ceremony at theertha kshetra, community hall, and large temples.

Q. What is the vidhi to perform a Threading ceremony?

A.
To perform an Upnayanam ceremony or Threading Ceremony there are a few steps followed by the pandit of 99pandi.com.

  • The Upnayanam ceremony or Threading Ceremony starts with the pandit Ji from worshiping the Lord Ganesha.
  • After worshiping Lord Ganesh, the sacred thread was worn by the Hindu men.
  • Then the vows are issued to the guy.
  • The fuel sticks are offered to the sacred fire.
  • Now at the end, the guy has to beg for the food as per the ritual.

 

Q. What defines the three strands of Janeau thread?

A.
As the 3 strands of the thread of Janeau define three Goddess Parvati, Lakshmi & Saraswati and the guy only needs to facilitate those 3 deities of strength, wealth, and severally.
The 3 debt strands of the thread are:

  • One’s teacher
  • One’s parents & ancestors.
  • One’s scholars.

 

जो दिवाली पूजा के लिए सर्वश्रेष्ठ पंडित प्रदान करते है?

हिंदु पंचांग के अनुसार दिवाली का पर्व कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है। हमारे हिंदु धर्म मे दिवाली का पर्व बहुत धूमधाम के साथ मनाया जाता है। खुशियो और रोशनी के धार्मिक पर्व दिवाली का हिंदु धर्म मे बहुत महत्व माना गया है। दीपो का उत्सव दिवाली 5 दिनो तक मनाया जाता है दिवाली का त्योहार धनतेरस से शुरू होता है और इसका समापन भाई दूज पर होता है। दिवाली के दिन हम मा लक्ष्मी जी और गणेश जी की पूजा करते है।

दिवाली के दिन सब लोग मा लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने के लिए उनकी विधि पूर्वक पूजा अर्चना करते है। दिवाली के इस त्योहार को सभी समुदाय के लोग पटाखो और आतिशबाजी के साथ दिवाली के धार्मिक पर्व को बडे हर्षोउल्लास के साथ मनाते है। इस साल दिवाली 24 अक्टूबर 2022 सोमवार को है। दिवाली पर घरो को तरह-तरह की रंगोली और विभिन्न प्रकार की डिजायन वाली लाइटो से घरो को सजाते है। दिवाली के दिन घर के हर कोने को दीयो से सजाते है। बच्चे पटाखे और आतिशबाजी का लुप्त उठाते है।

दिवाली के दिन आप 99Pandit.com की वेबसाइट से आनलाइन पंडित बुक करके दिवाली की पूजा करवा सकते है। अब आपको दिवाली की पूजा के लिए पंडित के लिए परेशान होने की आवश्यकता नही है। हम आपको दिवाली पूजा के लिए 99Pandit.com की वेबसाइट से आनलाइन पंडित बुक करके आपको सर्वश्रेष्ठ पंडित प्रदान कर रहे है। आप 99Pandit.com के माध्यम से दिवाली पूजा या और किसी भी गतिविधि को करने के लिए पंडितो की तलाश कर रहे है। आजकल की दुनिया आनलाइन बुकिंग पर निर्भर है।

 99 पंडित दिवाली पूजा के लिए आनलाइन पंडित बुक करे?

दिवाली पूजा के लिए पंडित की आनलाइन बुकिंग सेवाए इतनी आसान और सरल है। लोगो को अब पंडित को आनलाइन बुक करने के लिए बिल्कुल भी परेशान होने की जरूरत नही है। 99Pandit.com दुनिया भर के लोगो की मदद करने मे अग्रणी है। पंडित आनलाइन बुकिंग की हमारी आनलाइन सेवा के माध्यम से आपकी सभी आवश्यकताओ को पूरा करेगा।

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

हम दिवाली पूजा के लिए आपको आनलाइन पंडित बुक करने मे आपकी हर तरह से मदद करेंगे। जब आप 99Pandit.com की वेबसाइट पर आते है तो 99Pandit.com द्वारा प्रदान की जा रही सभी आनलाइन सेवाओ का आप लाभ उठा सकते है। यदि आप 99Pandit.com की वेबसाइट पर नये है तो लागिन बटन पर क्लिक करे और साइन-अप बटन पर क्लिक करे। आपको नए फार्म पर निर्देशित किया जाएगा जहां वह आपसे आपकी सभी जानकारी पूछेगा। आपकी सभी जानकारी बताने के बाद वे 99Pandit.com की टीम को आपके साथ संवाद करने मे मदद करेंगे।

 दिवाली पूजा विधि

आप 99Pandit.com की टीम के द्वारा पंडित आनलाइन बुक करके दिवाली की पूजा करवा सकते है।

  • पंडित बुक करने से आपके लिए दिवाली की पूजा करना काफी आसान हो जाएगा वो अच्छे से आपकी दिवाली पूजा सम्पन्न करवा देंगे।
  •   दिवाली पूजन के समय जिस स्थान पर पूजा करेंगे उस स्थान को गंगाजल छिडककर साफ कर लेना चाहिए।
  •  इसके बाद चैकी पर लाल कपडा बिछाकर उस पर माता लक्ष्मी जी और गणेश जी की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करेंगे।
  •  पूजा करते समय मूर्ति का मुख सदैव पूर्व या पश्चिम दिशा की और होना चाहिए।
  •  दिवाली पूजा के लिए निम्न पूजन सामग्री की जरूरत पडेगी जैसे – रोली,मोली,सिंदुर,कुम-कुम,कपूर,धूप,अगरबत्ती,बडा दीपक,घी,तेल,रूई,सुपारी,लौंग,चैकी,चैकी पर बिछाने के लिए लाल कपडा,माला,पूजा के फूल,लक्ष्मी जी और गणेश जी का पाना,शहद,गंगाजल,दूध,दही,पानी से भरा कलश,मिठाईया,खील,बताशे,चांदी का सिक्का,पूजा की थाली,गन्ने की जोडी,इलायची,चावल, लाल कपडा,सफेद कपडा,पूजा मे बैठने के लिए आसन,कमल का फूल आदि चीजे दिवाली की पूजा के लिए चाहिए।
  •  जब पंडित जी दिवाली की पूजा कर रहे हो तब परिवार के सभी सदस्य माता लक्ष्मी जी और गणेश जी की मूर्ति को हाथ जोडकर बैठ जाये। ऽ सबसे पहले पंडित जी माता लक्ष्मी जी और गणेश जी की मूर्ति या तस्वीर को तिलक करेंगे उसके बाद कलश को तिलक करके मोली बाधेंगे।
  •  तिलक करने के बाद मा लक्ष्मी जी और गणेश जी की मूर्ति के सामने एक बडे दीपक मे घी और तेल लेेकर दीपक जलायेंगे मा लक्ष्मी जी और गणेश जी की मूर्ति के सामने ये दीपक पूरी रात जलता रहना चाहिए।
  •  मा लक्ष्मी जी और गणेश जी को मिठाई,खील,बताशे का भोग लगायेंगे।
  •  भोग लगाने के बाद मा लक्ष्मी जी की आरती करेंगे।
  •  आरती करने के बाद सब लोगो मे मिठाई,खील,बताशे का प्रसाद बांट देंगे।
  •  मा लक्ष्मी जी की आरती करते समय सब लोग अपने भविष्य की मंगल कामना करते है उनके जीवन मे सुख-समृध्दि,शांति और धन की कभी कमी ना रहे हमेशा जीवन मे तरक्की करते रहे।

पंडित जी के द्वारा दिवाली की पूजा अच्छे से सम्पन्न करवाने के बाद पंडित जी को दान दक्षिणा कपडे,मिठाईया,फल आादि देकर विदा करेंगे।

धनतेरस पूजा आफिस मे कैसे करे?

हमारे हिंदु धर्म मे धनतेरस का त्योहार भी बडे हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है। हिंदु पंचांग के अनुसार धनतेरस का त्योहार कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की तेरहवी या त्रयोदशी को धनतेरस का धार्मिक पर्व मनाया जाता है।

धनतेरस का त्योहार दिवाली के दो दिन पहले मनाया जाता है। धनतेरस के दिन कुबेर देव और लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है। धनतेरस के दिन सोने चांदी के आभूषण और बर्तन खरीदना बहुत शुभ माना जाता है धनतेरस के दिन चांदी का सिक्का भी जरूर खरीदकर घर जरूर लाए चांदी का सिक्का ऐसा ले जिस पर माता लक्ष्मी जी और गणेश जी की प्रतिमा बनी हो।

धनतेरस के दिन खरीदे हुए सिक्के की दिवाली पर लक्ष्मी पूजन के समय चांदी के सिक्के की भी पूजा करनी चाहिए। धनतेरस के दिन कुबेर देव की विधि पूर्वक पूजा अर्चना करने से घर मे कभी धन की कमी नही होती है। धनतेरस पर श्री यंत्र भी जरूर खरीदकर लाये श्री यंत्र मा लक्ष्मी को बहुत प्रिय होता है। दिवाली पूजन के समय इस श्री यंत्र की पूजा करे इससे माता लक्ष्मी जी कृपा बनी रहती है।

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

धनतेरस और दिवाली के धार्मिक पर्व पर हर घर,व्यापार तथा आफिस मे कुबेर देव और माता लक्ष्मी जी की पूजा अर्चना की जाती है। अपने व्यवसाय मे वृध्दि तथा सुख-समृध्दि के साथ अपना कारोबार आगे बढाने के लिए धनतेरस पर कुबेर देव और माता लक्ष्मी जी की पूजा पूरे विधि विधान से करनी चाहिए। धनतेरस और दिवाली के दिन हम कुबेर देव और माता लक्ष्मी जी से पूजा के समय उनसे प्रार्थना करते है। हमारे घर मे सुख-समृध्दि,शांति और धन की कमी न हो और हमारे उज्जवल भविष्य के लिए ईश्वर से प्रार्थना करते है। धनतेरस पर 99Pandit.com से पंडित बुलाकर भी आफिस मे पूजा करवा सकते है। इस साल धनतेरस 22 अक्टूबर 2022 शनिवार को पड रही है।

 धनतेरस पूजा विधि

धनतेरस पर आफिस मे पूजा करने के लिए हमे निम्न बातो का ध्यान रखना होगा।

  • धनतेरस के दिन कुबेर देव की पूजा करने से पहले आफिस या व्यवसाय के पूजा स्थल को गंगाजल छिडककर शुध्द कर ले ।
  •   आफिस के पूजा स्थल पर एक चैकी रखे और उस पर लाल कपडा बिछाना चाहिए।
  •   इसके बाद कुबेर देव की मूर्ति या तस्वीर उस चैकी पर स्थापित करे और पूजा करते समय मूर्ति का मुख पूर्व या पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए।
  •   देवी-देवता की मूर्ति के सामने जल से भरे एक कलश की स्थापना करे।
  •   धनतेरस की पूजा के लिए पूजन सामग्री रोली,मोली,सिंदुर,कपूर,धूप,अगरबत्ती,तेल,एक बडा दीपक,गुलाब की माला,पूजा के लिए फूल,चावल,पंचामृत- दूध,दही,शहद,घी,गंगाजल पांच फल,मिठाईया,खील,बताशे,चैकी,सुपारी,लौंग,इलायची,नारियल,कुम-कुम,चांदी का सिक्का,इत्र की शीशी,पान के पत्ते,हल्दी की गांठ,पूजा की थाली,गेहं,जौ आदि।
  •   इसके बाद कुबेर देव को तिलक लगाए और साथ मे सभी देवी-देवताओ को भी तिलक करे।
  •   कुबेर देव को मिठाई,फल,फूल,खील,बताशे आदि चढाए।
  •   आफिस मे कुबेर देव की पूजा करते समय 11 छोटे दीपक और एक बडा दीपक जलाये।
  •   पूजा सम्पन्न होने के बाद कुबेर देव की आरती करे।
  •   भगवान की आरती सम्पन्न होने के बाद कुबेर देव को मिठाई और प्रसाद का भोग लगाये और आफिस मे सभी कर्मचारियो मे मिठाई और प्रसाद बांट देना चाहिए।
  •   आफिस मे कुबेर देव की पूजा करते समय उनसे प्रार्थना करे कि हमे कारोबार मे प्रगति प्रदान करे जीवन मे सुख-समृध्दि,शंाति,धन आदि दे। अपने उज्जवल भविष्य के लिए भगवान से कामना करे।
  • हम धनतेरस के दिन धन्वंतरि देव और कुबेर देव से प्रार्थना करते है आगे चलकर हमारे जीवन मे कोई संकट न आये कभी किसी के घर मे धन की कभी कमी नही हो।

 धनतेरस 2022 पर्व पूजा का शुभ मुहूर्त

धनतेरस 2022 पर्व तिथि – 22 अक्टूबर 2022 शनिवार

धनत्रयोदशी 2022 पूजा का शुभ मुहूर्त – शाम 05:25 बजे से शाम 06:00 बजे तक

प्रदोष काल – शाम 05:39 से 20:14 बजे तक

वृषभ काल – शाम 06:51 से 20:47 बजे तक

Frequently Asked Question

Q. धनतेरस के दिन क्या-क्या खरीदना शुभ होता है ?

A.
धनतेरस के दिन सोने चांदी के आभूषण और पीतल के बर्तन की खरीदारी करना बहुत शुभ माना जाता है। धनतेरस पर चांदी का सिक्का खरीदकर घर जरूर लाये सिक्का खरीदते समय ये ध्यान रखे कि चांदी के सिक्के पर मा लक्ष्मी जी और भगवान गणेश जी बने हुए हो। धनतेरस के दिन श्री यंत्र,झाडू और धनिया भी खरीदना बहुत शुभ माना जाता है।

Q. धनतेरस के दिन क्या नही खरीदना चाहिए ?

A. धनतेरस के दिन स्टील एंव एल्युमिनियम के अलावा लोहे की वस्तुए भी नही खरीदनी चाहिए क्योकि लोहा शनि का कारक माना गया है। मान्यता है कि धनतेरस के दिन धातु से बनी चीजे खरीदने से दुर्भाग्य आता है। इसके अलावा धनतेरस के दिन प्लास्टिक की वस्तुए खरीदना भी अशुभ माना जाता है।

Q. इस साल धनतेरस कब मनाई जाएगी ?

A. इस साल धनतेरस कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी या तेरहवी को 22 अक्टूबर 2022 शनिवार को धनतेरस या धन्वंतरि का त्योहार मनाया जाएगा।

गोवर्धन पूजा क्या है? और कैसे सम्पन्न करे।

हिंदु पंचांग के अनुसार गोवर्धन का त्योहार कार्तिक मास मे शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को गोवर्धन का त्योहार मनाया जाता है। हमारे हिंदु धर्म मे जैसे दिवाली का त्योहार बडे हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है। उसी प्रकार गोवर्धन का त्योहार भी बडे धूमधाम के साथ मनाया जाता है दिवाली के दूसरे दिन गोवर्धन का धार्मिक पर्व मनाया जाता है।

इस साल दिवाली 24 अक्टूबर 2022 को है इस हिसाब से गोवर्धन पूजा 25 अक्टूबर को होनी चाहिए लेकिन इस बार दिवाली और गोवर्धन पूजा के बीच सूर्यग्रहण लग रहा है। इस वजह से सूर्यग्रहण के कारण इस साल दिवाली के अगले दिन 25 अक्टूबर को गोवर्धन पूजा नही होगी। सूर्यग्रहण की वजह से इस साल 26 अक्टूबर को गोवर्धन का त्योहार मनाया जाएगा। गोवर्धन पूजा को अन्नकूट महोत्सव के नाम से भी जाना जाता है। सूर्य ग्रहण के कारण इस साल गोवर्धन पूजा दिवाली के अगले दिन नही बल्कि तीसरे दिन मनाया जाएगा ऐसा करीब 27 सालो के बाद होगा।

 गोवर्धन पूजा

हिंदु धर्म मे गोवर्धन पूजा को बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है। गोवर्धन पूजा के दिन महिलाए प्रातः काल उठकर गोबर से गोवर्धन बनाती है उसके बाद फूलो की माला से गोवर्धन जी को सजाती है। फिर दीपक जलाकर गोवर्धन जी की पूजा करती है। गोवर्धन पूजा को भगवान कृष्ण के साथ गाय के बछडो की भी पूजा की जाती है। गोवर्धन पूजा के दिन बैलो की भी पूजा की जाती है। गोवर्धन की पूजा करते समय बच्चे फुलझडिया,पटाखे छुडाते है।

गोवर्धन पूजा के इस त्योहार को सब लोग उमंग उत्साह के साथ मनाते है। गोवर्धन पूजा के दिन शाम को कई मंदिरो मे अन्नकूट का प्रसाद बंाटा जाता है। इसलिए इसे अन्नकूट महोत्सव भी कहा जाता है अन्नकूट का प्रसाद बाजरे की खिचडी,चावल,कडी,मूली पालक की सब्जी से स्वादिष्ट अन्नकूट का प्रसाद बनाया जाता है। गोवर्धन पूजा के दिन भगवान को अन्नकूट का भोग लगाया जाता है। अन्नकूट का भोग लगाने के बाद सब लोगो को अन्नकूट का प्रसाद वितरित किया जाता है। अन्नकूट का प्रसाद खाने मे बहुत स्वादिष्ट लगता है।

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

कई लोग गोवर्धन पूजा के दिन गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा करने भी जाते है। गोवर्धन पर्वत को गिरिराज जी कहकर भी स्थानीय निवासियो एंव भक्तो द्वारा संबोधित किया जाता है। गोवर्धन पर्वत उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले मे आता है। गिरिराज जी की परिक्रमा करने दूर-दूर से लोग आते है। गिरिराज जी की परिक्रमा 7 कोस लगभग 21 किलोमीटर की है। गिरिराज जी की परिक्रमा नंगे पैर ही करनी चाहिए गिरिराज जी की परिक्रमा जो भक्त सच्चे मन से करता है भगवान उनको उनकी इच्छानुसार फल देता है। गिरिराज जी की परिक्रमा को बीच मे अधूरा छोडकर नही जाना चाहिए परिक्रमा को बीच मे अधूरा छोडकर जाना अशुभ माना जाता है।

किवदंतियो के अनुसार भगवान कृष्ण ने इंद्र के क्रोध से हुई मूसलाधार वर्षा को रोकने के लिए भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी उंगली पर उठा लिया था। इसलिए आज के दिन गोवर्धन का पर्व मनाया जाता है। भगवान इंद्र ने भी ब्रज पर अपना प्रकोप 7 दिनो तक जारी रखा लेकिन गोवर्धन पर्वत के नीचे ब्रजवासी पशु सब सुरक्षित रहे। इससे इंद्रदेव का घमंड चूर-चूर हो गया तब से ही इस दिन से भगवान श्री कृष्ण के साथ गाय और बछडे का भी पूजन किया जाता है। गोवर्धन के दिन गो माता की उपासना करने से व्यक्ति को बहुत लाभ मिलता है। शस्त्रो के अनुसार गोवर्धन पूजा करने से व्यक्ति को कई प्रकार के दोष से मुक्ति मिलती है और उसके जीवन मे सुख,समृध्दि,धन व ऐश्वर्य का आगमन होता है।

 गोवर्धन पूजा शुभ मुहूर्त 2022

इस साल 26 अक्टूबर 2022 को गोवर्धन पूजा है। कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि 25 अक्टूबर को शाम 4 बजकर 18 मिनट पर शुरू हो रही है। ये तिथि 26 अक्टूबर को दोपहर 2 बजकर 42 मिनट पर समाप्त होगी। वही इस दिन पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 29 मिनट से लेकर सुबह 8 बजकर 43 मिनट तक रहेगा।

Frequently Asked Question

Q. गोवर्धन के दिन किसकी पूजा की जाती है ?

A.
गोवर्धन पूजा के दिन गोबर से गोवर्धन जी बनाकर उसकी पूजा करते है। इस दिन भगवान कृष्ण के साथ गाय के बछडो की भी पूजा की जाती है और गोवर्धन पूजा के दिन बैलो की भी पूजा की जाती है।

Q. गोवर्धन पूजा पर क्या बनाया जाता है ?

A. गोवर्धन के दिन कई मंदिरो मे अन्नकूट का प्रसाद बनाया जाता है। इसलिए गोवर्धन पूजा को अन्नकूट महोत्सव भी कहा जाता है अन्नकूट के प्रसाद मे बाजरे की खिचडी,चावल,कडी,मूली पालक की सब्जी से स्वादिष्ट अन्नकूट का प्रसाद बनाया जाता है। अन्नकूट का प्रसाद खाने मे बहुत स्वादिष्ट होता है गोवर्धन पूजा के दिन अन्नकूट का प्रसाद खाना चाहिए।

Q. इस साल गोवर्धन पूजा कब है ?

A. सूर्यग्रहण के कारण इस साल गोवर्धन पूजा 25 अक्टूबर की जगह 26 अक्टूबर को मनाया जायेगा। गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 29 मिनट से लेकर सुबह 8 बजकर 43 मिनट तक रहेगा।

दिवाली पूजा के लिए आवश्यक सामग्री

हमारे हिंदु धर्म मे दिवाली का त्योहार बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। दिवाली का त्योहार हमारे जीवन मे उमंग उत्साह और खुशिया लेकर आता है। दिवाली एक या दो दिन का त्योहार नही बल्कि पांच दिनो का त्योहार है। दिवाली का त्योहार धनतेरस से शुरू होकर भाई दूज तक चलता है।

दिवाली के दिन हम माता लक्ष्मी जी और भगवान गणेश जी की पूजा करते है। दिवाली के दिन सब लोग माता लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने के लिए उनकी पूजा पूरी विधि विधान के साथ करते है। दिवाली को सब लोग माता लक्ष्मी जी से प्रार्थना करते है कि हमे सुख,समृध्दि,शांति,धन आदि दे और हमारे जीवन मे ढेर सारी खुशिया लाए। दिवाली की तैयारिया हम बहुत दिनो पहले ही चालू कर देते है। दिवाली आने से पहले ही हम दिवाली की साफ सफाई और रंगाई पुताई चालू कर देते है। मान्यता है कि साफ जगह पर माता लक्ष्मी का वास होता है।

दिवाली पर सब लोग अपने-अपने घरो को विभिन्न प्रकार की रंगोली और तरह-तरह की डिजाइन वाली लाइटो से अपने घरो को सजाते है। दिवाली के दिन व्यापारी नये बही खाते चालू करते है। दिवाली की शाम को घर को दीये और मोमबत्ती से सजाते है। दिवाली को जब हम लक्ष्मी पूजन करते है तब सब लोग नये वस्त्र पहनते है। माता लक्ष्मी जी और भगवान गणेश जी की पूजा अर्चना करने के बाद हम घर के बडे बुर्जुगो का आर्शीवाद लेते है और फिर अपने सगे संबंधी मित्रो से मिलने जाते है उन्हे दिवाली की बधाई देते है और उपहारो का आदान-प्रदान करते है।

 दिवाली पूजन सामग्री

दिवाली को माता लक्ष्मी जी और भगवान गणेश जी की पूजा मे कोई कमी ना रह जाये इसके लिए दिवाली पूजन सामग्री इस प्रकार है।

  • माता लक्ष्मी जी और गणेश जी का पाना
  • रोली
  • मोली
  • सिंदुर
  • एक नारियल पानी वाली कलश के लिए
  • सूखा नारियल प्रसाद के लिए
  •  लाल वस्त्र माता लक्ष्मी जी के लिए
  •  पीले वस्त्र भगवान गणेश जी के लिए
  •   माला और पूजा के लिए फूल
  •   सुपारी
  •   लौंग
  •   पान के पत्ते
  •  गन्ने की जोडी
  •   घी आरती और दीप के लिए
  •  कलश हेतु आम का पल्लव
  •   चैकी लक्ष्मी जी और गणेश जी के लिए
  •  हवन के लिए समिधा
  •  हवन कुण्ड
  •   हवन सामग्री
  •   कमल का फूल
  •   पंचामृत – दूध,दही,घी,शहद,गंगाजल
  •   पांच फल
  •   मिठाई
  •   बताशे
  •   खील
  •   पूजा मे बैठने हेतु आसन
  •   अगरबत्ती
  •   कुम-कुम
  •  इत्र की शीशी
  •   दीपक
  •   रूई
  •   आरती की थाली
  •   कपूर
  •   चावल
  •   पुष्पमाला
  •  इलायची
  •  चांदी का सिक्का
  •  हल्दी की गांठ
  •   बडा दीपक
  •  मोमबत्ती
  •   बडा दीपक
  •   लक्ष्मी जी को अर्पित करने हेतु वस्त्र
  •   गणेश जी को अर्पित करने हेतु वस्त्र
  •   सफेद कपडा
  •   लाल कपडा
  •   तेल
  •   धनिया खडा
  •  चंदन
  •  दूर्वा
  •   धान्य – गेंहू,जौ
  •  धूप
  •   कंडे
  •   गुड

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

पंच पल्ल्व – बड,गूलर,पीपल,आम और पाकर के पत्ते

Frequently Asked Question

Q. दिवाली की पूजा के लिए क्या-क्या सामान चाहिए?

A.
दिवाली पूजा की थाली मे सबसे पहले माता लक्ष्मी जी और भगवान गणेश जी की प्रतिमा,रोली,मोली,कुम-कुम,चावल,पान,सुपारी,नारियल,लौंग,इलायची,धूप,कपूर,रूई, कलावा,शहद,दही,गंगाजल,गुड,धनिया,फल,माला,पूजा के लिए फूल,जौ,गेहू,दूर्वा,चंदन,पंचामृत,दूध,मेवे,खील,बताशे,गन्ने की जोडी,पान के पत्ते,पानी का कलश आदि सामग्री दिवाली पूजा के लिए चाहिए।

Q. दिवाली के दिन हम किसकी पूजा करते है?

A. दिवाली के दिन हम मा लक्ष्मी जी,विघ्नहर्ता भगवान गणेश जी,माता सरस्वती जी की विधि पूर्वक पूजा अर्चना करते है। दिवाली के दिन सब लोग मा लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने के लिए पूजा करते है और प्रार्थना करते है और उनसे प्रार्थना करते है उनके जीवन मे सुख-समृध्दि,शांति और धन की कभी कमी ना रहे और अपने उज्जवल भविष्य के लिए ईश्वर से कामना करते है।

Q. इस साल दिवाली कब मनाई जाएगी?

A. इस साल दिवाली 24 अक्टूबर 2022 शनिवार को है हर साल दिवाली कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को मनाई जाती है हिंदु धर्म मे दिवाली को सभी समुदाय के लोग उमंग,उल्लास और बडे धूम-धाम के साथ दिवाली का धार्मिक पर्व मनाते है।

गोवर्धन पूजा 2022 शुभ मुहूर्त

हमारे हिंदु धर्म मे जैसे दिवाली का पर्व बडे धूमधाम से मनाया जाता है। वैसे ही गोवर्धन का पर्व भी बडे उत्साह के साथ मनाया जाता है। दिवाली का त्योहार पांच दिनो तक मनाया जाता है। दिवाली के दूसरे दिन गोवर्धन पूजा की जाती है। इस बार 25 अक्टूबर को शाम 04 बजकर 18 मिनट तक अमावस्या तिथि रहेगी इसके बाद प्रतिपदा प्रारंभ होगी जो 26 अक्टूबर दोपहर 2 बजकर 42 मिनट तक रहेगी। इस बार गोवर्धन 26 अक्टूबर को मनाया जाएगा। दिवाली के अगले दिन कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा को गोवर्धन पूजा और अन्नकूट उत्सव मनाया जाता है।

सूर्य ग्रहण के कारण इस साल अन्नकूट उत्सव दिवाली के दूसरे दिन नही बल्कि तीसरे दिन मनाया जाएगा ऐसा करीब 27 सालो के बाद होगा। सूर्य ग्रहण के कारण दिवाली के अगले दिन 25 अक्टूबर को गोवर्धन पूजा भी नही होगी। हिंदु धर्म मे गोवर्धन पूजा को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। इस दिन भगवान कृष्ण के साथ गाय के बछडो की भी विधिवत पूजा की जाती है।

गोवर्धन के दिन पूजा पाठ करने से भक्तो को लाभ मिलता है। गोवर्धन के दिन प्रातः काल उठकर महिलाए गोबर से गोवर्धन बनाकर उसकी पूजा करती है। और उसको मिठाई का भोग लगाते है। गोबर से बने गोवर्धन के पास बच्चे फुलझडिया पटाखे छुडाते है। गोवर्धन के दिन शाम को कई मंदिरो मे अन्नकूट का प्रसाद बांटा जाता है इसलिए इसे अन्नकूट उत्सव भी कहा जाता है। अन्नकूट के प्रसाद मे बाजरे की खिचडी,कडी,मूली पालक की सब्जी से स्वादिष्ट अन्नकूट का प्रसाद तैयार किया जाता है। अन्नकूट का प्रसाद खाने मे बहुत स्वादिष्ट लगता है।

 गोवर्धन पूजा महत्व

किवदंतियो के अनुसार भगवान कृष्ण ने इंद्र के क्रोध से हुई मूसलाधार वर्षा को रोकने के लिए भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी उंगली पर उठा लिया था। भगवान इंद्र ने भी ब्रज पर अपना प्रकोप 7 दिनो तक जारी रखा लेकिन गोवर्धन पर्वत के नीचे ब्रजवासी पशु सब सुरक्षित रहे। इससे इंद्रदेव का घमंड चूर-चूर हो गया तब से ही इस दिन से भगवान श्री कृष्ण के साथ गाय और बछडे का भी पूजन किया जाता है। गोवर्धन के दिन बैलो की भी पूजा की जाती है।

गोवर्धन के दिन गो माता की उपासना करने से व्यक्ति को बहुत लाभ मिलता है। ज्योतिषियो के अनुसार गोर्वधन पूजा करने से व्यक्ति को कई प्रकार के दोषो से मुक्ति मिलती है और उसके जीवन मे सुख,समृध्दि,धन व ऐश्वर्य का आगमन होता है।

 गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा

गोवर्धन पर्वत उत्तरप्रदेश के मथुरा जिले मे आता है। गोवर्धन के आस-पास की समस्त भूमि प्राचीनकाल से ही ब्रजभूमि के नाम से विख्यात है। यह भगवान श्री कृष्ण के बाल स्वरूप की लीलास्थली है। यही पर भगवान श्री कृष्ण ने द्वापर युग मे ब्रजवासियो को इन्द्र के प्रकोप से बचाने के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी उंगली पर उठा लिया था। गोवर्धन पर्वत को गिरिराज जी कहकर भी स्थानीय निवासियो एवं भक्तो द्वारा संबोधित किया जाता है।

यहां दूर-दूर से भक्तजन गिरिराज जी की परिक्रमा करने आते है। यह 7 कोस की परिक्रमा लगभग 21 किलोमीटर की है। गिरिराज जी की परिक्रमा मे पडने वाले प्रमुख स्थल कुसुम सरोवर,मानसी गंगा,आन्यौर,गोविन्द कुंड,पूछरी का लोठा,जतिपुरा राधाकुंड,दानघाटी इत्यादि है।

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

परिक्रमा का आरम्भ यहा से किया जाता है वही पर एक प्रसिध्द मंदिर भी है। जिसे दानघाटी मंदिर भी कहा जाता है। गिरिराज जी की परिक्रमा करने से भक्तो के कष्ट दूर होते है। गिरिराज जी की जो भक्त सच्चे मन से परिक्रमा करता है। उसे भगवान उसकी भक्ति का सच्चे मन से फल देते है। गिरिराज जी की परिक्रमा नंगे पैर ही करनी चाहिए। परिक्रमा को बीच मे अधूरा छोडकर नही जाना चाहिए। परिक्रमा को बीच मे अधूरा छोडकर जाना अशुभ माना जाता है।

 गोवर्धन पूजा

हमारे हिंदु धर्म मे अन्य त्योहारो की तरह गोवर्धन पूजा का भी बहुत अधिक महत्व है। गोवर्धन पूजा के संबंध मे एक कहानी प्रचलित है। एक बार देवराज इन्द्र को अभिमान हो गया था कि धरती पर कृषि और अन्न उत्पादन के कारण उसके द्वारा की गई वर्षा अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसी बात के अहंकार मे इन्द्र ने पृथ्वी वासियो द्वारा अपनी पूजा हेतु वर्षा मे विलम्भ करने लगे।

इन्द्र का अभिमान चूर करने के लिए भगवान श्री कृष्ण ने अदभूत लीला रची। भगवान श्री कृष्ण ने देखा कि सभी ब्रजवासी किसी बडी तैयारी मे जुटे हुए थे। और सब अपने घरो मे उत्तम प्रकार के पकवान बना रहे है। ये सब देखकर भगवान श्री कृष्ण माता यशोदा से पूछते है। कि ये ब्रजवासी किस उत्सव की तैयारी कर रहे है। मा यशोदा ने बताया की आज भगवान देवराज इन्द्र की पूजा का दिन है।देवराज इन्द्र वर्षा के देवता माने जाते है।

और इसी वजह से हम अन्न प्राप्ति कर पाते है। और साथ ही साथ पशुओ के लिए चारे का प्रबंध भी इनकी वर्षा से ही संभव है। भगवान श्री कृष्ण पूरी बात जानने के बाद समझ गये कि तभी देवराज इन्द्र मे इतना अभिमान है। अपनी माता की बात सुनने के बाद भगवान श्री कृष्ण बोले हमे देवराज इन्द्र के स्थान पर हमे गोवर्धन पर्वत की पूजा करनी चाहिए। हमारी गाय भी गोवर्धन पर्वत पर ही चरने जाती है। और देवराज इन्द्र तो कभी दर्शन भी नही देते है।

और पूजा न करने पर क्रोधित होते है। हमे ऐसे अहंकारी की पूजा नही करनी चाहिए। भगवान श्री कृष्ण ने यह बात ब्रजवासियो और पंडितो के समक्ष रखी सभी ब्रजवासी भगवान श्री कृष्ण की बात से सहमत हुए। भगवान श्री कृष्ण की ये लीला देखकर सब ने देवराज इन्द्र के बदले गोवर्धन पर्वत की पूजा की देवराज इन्द्र ने इसे अपना घोर अपमान समझकर मूसलाधार वर्षा शुरू कर दी जब अन्य देवताओ द्वारा देवराज इन्द्र को समझाने का प्रयत्न किया गया लेकिन फिर भी देवराज इन्द्र नही माने फिर देवताओ ने उन्हे समझाया कि आप जिस कृष्ण की बात कर रहे है वह भगवान विष्णु के साक्षात अंश है और पूर्ण पुरूषोत्तम नारायण है।

मनुष्य रूप मे जन्म लेने के बाद भी चैसठ कलाओ से परिपूर्ण है ब्रहा जी के मुख से यह सुनकर इन्द्र अत्यंत लज्जित हुए और श्री कृष्ण से कहा कि प्रभु मै आपको पहचान न सका इसलिए अहंकार से वशीभूत होकर भूल कर बैठा। आप दयालु और कृपालु है इसलिए मेरी भूल क्षमा करे। इसके पश्चात देवराज इन्द्र ने मुरलीधर की पूजा कर उन्हे भोग लगाया इस पौराणिक घटना के बाद से ही गोवर्धन पूजा की जाने लगी ब्रजवासी इस दिन गोवर्धन पर्वत की पूजा करते है। गाय बैल को इस दिन स्नान कराकर उन्हे रंग लगाया जाता है। व उनके गले मे नई रस्सी डाली जाती है। गाय और बैलो को गुड और चावल मिलाकर खिलाया जाता है। हिंदु धर्म मे गोवर्धन पूजा के इस पर्व को बडे उत्साह और धूमधाम से मनाया जाता है।

 गोवर्धन पूजा 2022 तिथि मुहूर्त

26 अक्टूबर 2022 को गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त

– गोवर्धन पूजा का प्रातः काल मुहूत: 06 बजकर 28 मिनट से 08 बजकर 43 मिनट तक रहेगा।

– विजय मुहूर्त: दोपहर 02 बजकर 18 मिनट से 03 बजकर 04 मिनट तक रहेगा।

Frequently Asked Question

Q. गोवर्धन पूजा कैसे की जाती है ?

A.
गोवर्धन पूजा के दिन प्रातः काल उठकर गोबर से गोवर्धन जी बनाये जाते है। फिर उसको फूलो से सजाया जाता है। उसके बाद उसकी पूजा की जाती है। बच्चे पटाखे फुलझडिया छुडाते है। पूजा के बाद गोवर्धन जी की सात बार परिक्रमा और उनकी जय की जाती है।

Q. गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा कैसे करे ?

A. गोवर्धन पर्वत को भक्तजन गिरिराज जी भी कहते है। सदियो से यहां दूर-दूर से भक्तजन गिरिराज जी की परिक्रमा करने आते है। यह 7 कोस की परिक्रमा लगभग 21 किलोमीटर की है। गिरिराज जी की परिक्रमा नंगे पैर करनी चाहिए जो भक्त गिरिराज की परिक्रमा सच्चे मन से करते है भगवान उनकी मनोकामना सच्चे मन से पूरी करते है। गिरिराज जी की परिक्रमा मे पडने वाले प्रमुख स्थल कुसुम सरोवर,गोविन्द कुंड,मानसी गंगा,आन्यौर,पूछरी का लोठा,जतिपुरा,दानघाटी आदि।

Q. गोवर्धन पूजा पर क्या खाना चाहिए ?

A. गोवर्धन पूजा के दिन कई मंदिरो मे अन्नकूट का प्रसाद बांटा जाता है। अन्नकूट के प्रसाद मे बाजरे की खिचडी,चावल,कडी,मूली पालक की सब्जी बनाई जाती है। गोवर्धन के दिन अन्नकूट का प्रसाद का भोग लगाया जाता है। अन्नकूट का प्रसाद खाने मे बहुत स्वादिष्ट होता है। गोवर्धन पूजा के दिन हमे शाकाहारी भोजन अन्नकूट का प्रसाद खाना चाहिए।

Q. इस साल 2022 मे गोवर्धन कब है?

A. इस साल गोवर्धन 25 अक्टूबर के वजाह 26 अक्टूबर को मनाया जाएगा। इस बार 25 अक्टूबर को शाम 04 बजकर 18 मिनट पर अमावस्या तिथि रहेगी इसलिए इस बार गोवर्धन 26 अक्टूबर को मनाया जाएगा।

दिवाली पर लगेगा साल का आखिरी सूर्यग्रहण

दिवाली पर साल का दूसरा और आखिरी सूर्यग्रहण लग रहा है। दिवाली पर सूर्य ग्रहण की बात सुनकर कई लोग परेशान है दिवाली का धार्मिक पर्व कार्तिक अमावस्या को मनाया जाता है। अमावस्या 24 और 25 अक्टूबर दोनो दिन रहेगी। दिवाली पर साल 2022 का आखिरी सूर्य ग्रहण 25 अक्टूबर 2022 को लगने वाला है।

अमावस्या तिथि 24 अक्टूबर 2022 को शाम 05:27 बजे शुरू हो रही है। जो 25 अक्टूबर 2022 दोपहर 04:18 बजे तक चलेगी और सूर्य ग्रहण 25 अक्टूबर मंगलवार को लगेगा। सूर्य ग्रहण वाले दिन सूर्य देवता कष्ट मे रहते है। इस दिन हमे कोई शुभ काम नही करना चाहिए सूर्य ग्रहण वाले दिन शुभ काम करना अच्छा नही माना जाता है।

यह सूर्य ग्रहण अंाशिक सूर्य ग्रहण है। जो साल 2022 का दूसरा सूर्य ग्रहण होगा सूर्य ग्रहण मुख्य रूप से यूरोप,उत्तर पूर्वी अफ्रीका और पश्चिम एशिया के कुछ हिस्सो मे दिखाई देगा। भारत मे सूर्य ग्रहण नई दिल्ली,बेंग्लुरू,कोलकाता,चेन्नई,उज्जैन,वाराणसी,मथुरा मे दिखाई देगा यह भी बताया जा रहा है कि पूर्वी भारत को छोडकर सारे भारत मे सूर्य ग्रहण देखा जा सकता है। सूर्य ग्रहण से कुछ राशियो पर अच्छा तो कुछ राशियो पर गलत असर पड सकता है।

सूर्य ग्रहण की भोगोलिक घटना है कि सूर्य ग्रहण वाले दिन सूर्य को आंखो से नही देखना चाहिए। सूर्य ग्रहण वाले दिन सूर्य को आंखो से देखना अच्छा नही माना जाता है। सूर्य के चारो ओर पृथ्वी समेत कई ग्रह परिक्रमा करते रहते है। पृथ्वी का उपग्रह चंद्रमा है और वह पृथ्वी की कक्षा मे परिक्रमा करता रहता है। लेकिन कई बार ऐसी स्थिति हो जाती है कि सूर्य का प्रकाश पृथ्वी तक सीधे नही पहुंच पाता क्योकि चन्द्रमा बीच मे आ जाता है इस घटना सूर्य ग्रहण कहा जाता है। दिवाली के 15 दिन बाद 8 नवंबर को देव दिवाली के दिन चंद्र ग्रहण लगेगा ऐसे मे कुछ ज्योतिषियो का कहना है कि त्योहारो के सीजन के बीच पड रहे दोनो ग्रहण पांच राशि वृषभ,मिथुन,कन्या,तुला,वृश्विक राशि वाले लोगो के लिए मुश्किले बढा सकते है।

वृषभ राशि- त्योहारो के इस सीजन मे पडने वाले सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण वृषभ राशि के लिए अच्छे नही माने जा रहे है। सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण के बीच वृषभ राशि वाले लोगो को संभलकर रहने की सलाह दी जाती है। सेहत के मामले मे लापरवाही बिल्कुल भी ना बरते। सेहत का ध्यान रखे सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण के बीच किसी नए काम की शुरूआत ना करे। अगर वे सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण मे कोई नया काम शुरू करते है तो उस काम मे कुछ न कुछ रूकावट आएगी।

मिथुन राशि- सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण की अवधि के बीच मिथुन राशि वाले लोगो को संभलकर रहना होगा इस दौरान आपको भाग्य का साथ बिल्कुल भी नही मिलेगा। विभिन्न कार्यो मे सफलता पाने के लिए कठिन परिश्रम करना होगा आमदनी से ज्यादा खर्चे बढेंगे। धन संबंधी मामलो मे विशेष सावधानी बरतनी होगी तनाव भी बढ सकता है।

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

कन्या राशि- 25 अक्टूबर से 8 नवंबर तक कन्या राशि वाले लोगो को संभलकर रहना होगा। कन्या राशि वाले के अनावश्यक खर्चे बढ सकते है अगर आप प्राॅपर्टी मे निवेश करने की सोच रहे है तो इसे टाल दे इस दौरान आपको आर्थिक तंगी का सामना करना पड सकता है। इस बीच किसी से उधार लेन देन की गलती ना करे।

तुला राशि- सूर्य ग्रहण से लेकर चंद्र ग्रहण तक तुला राशि के लोगो को भी सावधान रहना होगा। इस राशि पर सबसे ज्यादा असर पडेगा आपको रूपये पैसे का नुकसान हो सकता है। आपको अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना होगा और घर मे परिवार के बडे बुजुर्गो का भी ख्याल रखना होगा। वाहन चलाते समय सावधानी बरतनी होगी कि कही कोई दुर्घटना ना हो जाये।

वृश्विक राशि- ग्रहण काल की अवधि मे वृश्विक राशि वाले लोगो को भी सतर्क रहने की सलाह दी जाती है। आपकी आर्थिक स्थिति प्रभावित हो सकती है। रूपये पैसे के मामले मे परेशानी का सामना करना पड सकता है। निवेश बहुत सोच समझकर कर ही करे उधार लेन देन से बचे इस दौरान आप अभी किसी कार्य को शुरू करने की सोच रहे है तो उसे टाल देना ही बेहतर होगा।

 आंशिक सूर्य ग्रहण

आंशिक सूर्य ग्रहण अमावस्या तिथि को शेप मे आता है। आंशिक सूर्य ग्रहण को वलयाकार सूर्य ग्रहण भी कहा जाता है बताया जाता है कि इस ग्रहण के दौरान सूर्य और पृथ्वी की दूरी अधिक हो जाती है। इसलिए सूर्य का प्रकाश धरती तक पहुंचने से पहले चन्द्रमा बीच मे आ जाता है इसे अंाशिक सूर्य ग्रहण कहते है।

 सूर्य ग्रहण का समय

भारतीय समयानुसार सूर्य ग्रहण 25 अक्टूबर मंगलवार को दोपहर 4 बजकर 29 मिनट से शाम 5 बजकर 30 मिनट तक यानी लगभग 1 घंटा 14 मिनट रहेगा। यह भी बताया जा रहा है कि सूर्यास्त के साथ यह ग्रहण 5:43 PM पर पूरी खत्म हो जाएगा।

 ग्रहण से पहले लगने वाला सूतक और सूतक काल का समय

जानकारी के मुताबिक ग्रहण लगने से पहले के समय को अशुभ माना जाता है। और इसे ही सूतक काल कहते है। सूतक काल मे कोई भी मांगलिक कार्य नही करने चाहिए सूतक काल मे व्यक्ति को नया काम भी शुरू नही करना चाहिए। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य ग्रहण का सूतक काल 12 घंटे पहले शुरू हो जाता है और वह ग्रहण खत्म होने के बाद ही खत्म होता है।

बताया जा रहा है कि अगर कही ग्रहण दिखाई नही देता है तो वहां सूतक नही माना जाता है इस बार भारत मे आंशिक सूर्य ग्रहण दिखाई दे रहा है। तो सूतक मान्य होगा आंशिक सूर्य ग्रहण का सूतक 3:17 AM पर शुरू होगा और 5:43 PM पर खत्म होगा।

 सूतक काल मे क्या करे और क्या ना करे

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूतक काल मे कोई भी शुरू करने से बचना चाहिए। अगर आप सूतक मे कोई नया काम शुरू करते है तो उसमे नुकसान लग सकता है। सूतक काल मे कोई नया काम शुरू करना अशुभ माना जाता है।

  • सूतक काल मे भगवान की भक्ति करे।
  • सूतक काल मे ना ही खाना बनाए और ना ही खाना खाए अगर खाना बना हुआ रखा है तो उसमे तुलसी के पत्ते डालकर रखे।
  • सूतक काल के दौरान सूर्य मंत्रो का जाप करना चाहिए।
  • सूतक काल मे गर्भवती महिलाओ को घर के बाहर ना जाने दे और विशेष सावधानी बरते।
  • सूतक काल मे भगवान के मंदिर के पट बंद कर देना चाहिए।

सूर्य ग्रहण के दौरान ’’उॅं आदित्याय विदमहे दिवाकराय धीमंहि तत्रः सूर्यः प्रचोदयात’’ मंत्र का जाप करना चाहिए। सूर्य ग्रहण खत्म होने के बाद दही मे थोडा पानी मिलाकर उसमे चीनी के कुछ दाने डालकर थोडे तुलसी के पत्ते मिलाने चाहिए और फिर उसको प्रसाद के रूप मे ग्रहण करना चाहिए ऐसा करना बहुत शुभ माना जाता है।

 सूर्य ग्रहण की पौराणिक कथा

हिंदु धर्म की पौराणिक कथाओ के अनुसार बताया गया है कि ग्रहण का संबंध राहु और केतु ग्रह से है। समुद्र मंथन के समय जब देवताओ और राक्षसो का अमृत से भरे हुए कलश के लिए युध्द हुआ था तब उस युध्द मे राक्षसो की जीत हुई थी।

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

और राक्षस उस कलश को लेकर पाताल चले गए थे। तब भगवान विष्णु ने मोहिनी अप्सरा का रूप धारण किया था और असुरो से वह कलश ले लिया था। इसके बाद जब भगवान विष्णु ने देवताओ को अमृत पिलाना शुरू किया तो स्वर्भानु नामक राक्षस ने धोखे से अमृत पी लिया था और देवताओ को जैसे ही इस बारे मे पता चला उन्होने भगवान विष्णु को इस बारे मे बता दिया।

भगवान विष्णु को जैसे ही सच्चाई पता चली तो वह बहुत क्रोधित हुए और भगवान विष्णु ने सुदर्शन चक्र से उसका सिर धड से अलग कर दिया। स्वर्भानु नामक राक्षस के शरीर के दो हिस्से हो गए और वह वही तडप-तडप के मर गया। तभी से मान्यता है कि स्वर्भानु के शरीर के दो हिस्से राहु और केतु नाम से जाना जाता है और देवताओ से अपमान का बदला लेने के बाद वह सूर्य और चन्द्र से बदला लेने के लिए वह बार-बार ग्रहण लगाता है। तभी से सूर्य ग्रहण और चन्द्र ग्रहण लग रहा है।

Frequently Asked Question

Q. भारत मे 2022 मे सूर्य ग्रहण कब है?

A.
हमारे हिंदु धर्म मे इस साल गोर्वधन पूजा 25 अक्टूबर को है। सूर्य ग्रहण 25 अक्टूबर को शाम 04 बजकर 22 मिनट से आरम्भ होगा जो कि शाम 06 बजकर 25 मिनट पर समाप्त होगा।

Q. सूर्य ग्रहण और चन्द्र ग्रहण कब होता है?

A. ज्योतिषियो के अनुसार सूर्य ग्रहण अमावस्या तिथि के दिन होता है। और चन्द्र ग्रहण पूर्ण चंद्रमा की रात यानी कि पूर्णिमा के दिन होता है। कहा जाता है कि अमावस्या के दिन सूर्य पर ग्रहण लगने से इसका प्रभाव कुछ राशियो पर भी पडता है।

Q. सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण लगने का क्या कारण है?

A. इसके पीछे एक कारण है भगवान विष्णु क्रोधित होकर स्वर्भानु नामक राक्षस का सिर धड से अलग कर दिया था स्वर्भानु के शरीर के दो हिस्से राहु और केतु के नाम से जाने जाते है। इसलिए वह बदला लेने के लिए बार-बार सूर्य ग्रहण और चन्द्र ग्रहण लगाता है

धनतेरस, पूजा का शुभ मुहूर्त, महत्व और विधि

हमारे हिंदु धर्म मे दिवाली की तरह धनतेरस का भी बहुत अधिक महत्व है। हिंदु पंचांग के अनुसार कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की तेरहवी या त्रयोदशी को धनतेरस का पर्व मनाया जाता है। धनतेरस का त्योहार भी दिवाली की तरह ही बहुत धूमधाम के साथ मनाया जाता है। धनतेरस का त्योहार दिवाली से दो दिन पहले मनाया जाता है।

और छोटी दिवाली से एक दिन पहले मनाया जाता है। धनतेरस के दिन धन्वंतरी देव,लक्ष्मी जी और कुबेर देव की पूजा की जाती है। धनतेरस के दिन सोने चांदी के आभूषण बर्तनो की खरीदारी बेहद शुभ मानी जाती है। इस साल घनतेरस 22 अक्टूबर 2022 शनिवार को पड रही है।

 धनतेरस का महत्व

पौराणिक मान्यताओ के अनुसार समुद्र मंथन के समय भगवान धन्वंतरी धनतेरस के दिन अपने हाथो मे कलश लेकर प्रकट हुए थे। धनतेरस के दिन हम धन्वंतरी देव,लक्ष्मी जी और कुबेर देव की पूजा की जाती है।

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

धनतेरस के दिन कुबेर देव की विधि पूर्वक पूजा अर्चना करने से घर मे धन की कमी नही होती है। धनतेरस के दिन हम अपने घरो को तरह-तरह की डिजाइन वाली लाइटो और दीयो से घर को सजाते है। बाजारो को भी तरह-तरह की फैन्सी डिजाइन वाली लाइटो से सजाते है। लाइटो से सजाने के बाद बाजार जगमगा उठते है।

धनतेरस के पहले से ही घरो की साफ सफाई करते है। धनतेरस के दिन सोने चांदी के आभूषण और बर्तनो की खरीदारी करना बहुत शुभ बताया गया है। धनतेरस के दिन चांदी का सिक्का खरीदकर घर जरूर लाए चांदी का सिक्का खरीदना धनतेरस के दिन शुभ माना गया है। सिक्का खरीदते समय ध्यान रखे की सिक्के पर लक्ष्मी जी और गणेश जी बने हुए हो। दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजन के समय सिक्के की भी पूजा करनी चाहिए।

झाडू को मा लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है। धनतेरस के दिन झाडू जरूर खरीदना चाहिए। माना जाता है कि धनतेरस के दिन झाडू खरीदने से दरिद्रता दूर होती है। और घर मे सुख समृध्दि रहती है। धनतेरस के दिन से ही हम घरो मे दीये जलाते है धनतेरस से ही त्योहार की शुरूआत हो जाती है। दिवाली का त्योहार पांच दिन तक मनाया जाता है।

धनतेरस से त्योहार शुरू होकर भाई दूज तक चलता है। अक्षत यानी चावल को शुभ और समृध्दि का प्रतीक माना जाता है। धनतेरस के दिन अक्षत जरूर खरीदकर लाना चाहिए इससे मा लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। और घर मे भी धन की वृध्दि होती है। धनतेरस के दिन 11 गोमेद चक्र खरीदकर लाना चाहिए इस गोमेद चक्र की दिवाली के दिन पूजा करनी चाहिए। इसके बाद इन्हे एक पीले वस्त्र मे बांधकर तिजोरी मे रख दे। इससे घर मे सम्पन्नता आती है।

और घर के लोग निरोगी रहते है। धनतेरस के दिन श्री यंत्र खरीदकर घर मे लाये। श्री यंत्र मा लक्ष्मी को बहुत प्रिय होता है। दिवाली पूजन के समय इस श्री यंत्र की पूजा करे इससे लक्ष्मी जी की कृपा बनी रहती है।

 धनतेरस पूजा विधि

धनतेरस के दिन शाम के वक्त शुभ मुहूर्त मे उत्तर की ओर कुबेर और धन्वंतरि की प्रतिमा की स्थापना करे। धनतेरस के दिन हम कुबेर और धन्वंतरि की पूजा करते है। मा लक्ष्मी और गणेश जी की प्रतिमा स्थापित करते है। इसके बाद दीये जलाते है और फिर पूजन करते है। तिलक करने के बाद पुष्प,फल,मिठाई आदि चीजे अर्पित करे।

कुबेर देवता को सफेद मिष्ठान और धन्वंतरि देव को पीले मिष्ठान का भोग लगाए। पूजा करते समय हम ’उॅं ही कुबेराय नमः’ इस मंत्र का जाप करते है। धनतेरस के दिन हम कुबेर देवता और धन्वंतरि देव की पूजा अर्चना करने के बाद हम उनसे प्रार्थना करते है कि कभी भी हमे धन की कमी नही हो हमेशा लक्ष्मी का वास हमारे घर मे रहे।

धनतेरस के दिन हम घर को डिजाइन वाली लाइटो से सजाते है। घर के आगन मे रंगोली बनाते है। और शाम को हम घर के दरवाजे पर दीपक जलाते है। धनतेरस के दिन विधि विधान से कुबेर देव की पूजा की जाती है। घरो के साथ-साथ जो लोग अपना व्यवसाय करते है। वे अपनो आफिसो मे भी पूजा करते है।

धनतेरस के त्योहार की बहुत सी पौराणिक कहानी प्रचलित है। एक समय मे राजा रानी हुआ करते थे। उनके कोई संतान नही थी बहुत दिनो बाद उनके एक बेटा हुआ तब किसी ब्रहाम्ण ने भविष्यवाणी की उनकी संतान की मृत्यु अल्प आयु मे हो जाएगी। यह बालक सिर्फ 6 वर्ष ही जी पायेगा। यह बात सुनकर राजा रानी बहुत दुखी हुए।

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

जब राजकुमार 6 वर्ष का हुआ तो राजा रानी और भी ज्यादा दुखी हुए। यमदूत तय समय पर राजकुमार के प्राण लेने पहॅुच गए। रानी ने रोते हुए यमदूत से पूछा कि कोई उपाय बताओ कि यह संकट दूर हो सके। उन्होने बताया कि अगर वो कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की तेरहवी के दिन घर के मुख द्वार पर दक्षिण दिशा की ओर दीपक जलाकर रखेगी तो यह संकट जरूर टल जाएगा। रानी ने यमदूत ने जैसे बताया रानी ने वैसा ही किया ऐसा करने से उसके बेटे की जान बच गई। धनतेरस को धन्वंतरि के नाम से भी जाना जाता है।

धनतेरस 2022 का शुभ मुहूर्त

धनतेरस 2022 पर्व तिथि – 22 अक्टूबर , शनिवार

धनत्रयोदशी 2022 पूजा का शुभ मुहूर्त – शाम 05:25 बजे से शाम 06:00 बजे तक

प्रदोष काल – शाम 05:39 से 20:14 बजे तक

वृषभ काल – शाम 06:51 से 20:47 बजे तक

Frequently Asked Question

Q. इस साल धनतेरस कब मनाई जाएगी?

A.
इस साल धनतेरस कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी या तेरहवी को 22 अक्टूबर 2022 शनिवार को धनतेरस या धन्वंतरि मनाई जाएगी।

Q. धनतेरस के दिन हम किसकी पूजा करते है?

A. धनतेरस के दिन हम कुबेर देवता और लक्ष्मी जी की पूजा करते है। धनतेरस के दिन हम कुबेर देवता और मा लक्ष्मी को प्रसन्न करके उनसे हमारे मंगल जीवन की कामना करते है। कि वे हमे सुख,समृध्दि,शान्ति और धन दे।

Q. धनतेरस के दिन हम क्या खरीदते है?

A. धनतेरस के दिन सोने चांदी के आभूषण चांदी का सिक्का,बर्तन,कपडे आदि की खरीदारी करते है। धनतेरस के दिन आभूषणो की खरीदारी करना बहुत शुभ माना जाता है। दिवाली पूजन के समय चांदी के सिक्को की पूजा की जाती है।

Q. धनतेरस मे क्या नही खरीदना चाहिए?

A. ज्यादातर लोग शुभ धनतेरस पर काले रंग की चीजे और कपडे खरीदने से बचते है। कई लोगो का मानना है कि धनतेरस पर धातु की कोई भी वस्तु खरीदना अच्छा होता है। लेकिन लोग लोहे से बनी वस्तुओ से परहेज करने की सलाह देते है।

Bhai Dooj भाई दूज

दिपावली के बाद आने वाली भाई दूज कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की दितीया तिथि को मनाई जाती है। भाई दूज भाई बहनो के बीच का वह बंधन है। जो पूरे भारत मे कई जगह मनाया जाता है। हिंदु रीति रिवाजो के अनुसार भाई दूज जिसे यम दितीया या भाई टीका के रूप मे भी जाना जाता है। भाई दूज कार्तिक माह के हिंदु कैलेंडर मे ’ शुक्ल पक्ष ’ के दूसरे चंद्र दिवस पर मनाया जाता है। जो दिवाली उत्सव के दो दिन बाद होता है। हिंदु धर्म मे रक्षाबंधन के अलावा भाई दूज का भी विशेष महत्व है। भाई दूज को भाई बहन का त्योहार भी कहा जाता है। भाई दूज का त्योहार भी राखी की तरह ही मनाया जाता है। इस दिन बहन भाई के माथे पर तिलक लगाकर और कलाई पर मोली का धागा बांधती है। और बहन भाई को खाना खिलाती है। बहन भाई की लंबी उम्र के लिए भाई दूज का व्रत रखती है। जिससे भाई पर कोई संकट आये तो वे दूर हो जाये। और भाई के उज्जवल भविष्य के लिए ईश्वर से प्रार्थना करती है।

भाई दूज की कहानी

जैसा कि अधिकांश हिंदु त्योहारो मे होता है। इस शुभ त्योहार के उत्सव से जुडी कई किवदंतिया है। जिनमे से सबसे लोकप्रिय मृत्यु के देवता यमराज के बारे मे है। यमुना तथा यमराज दोनो भाई बहन थे। इनका जन्म भगवान सोइरी नारायण की पत्नी छाया की कोख से हुआ था। यमराज की बहन यमुना ने कई अवसरो पर अपने भाई से मिलने की कोशिश की लेकिन यमराज अपनी बहन यमुना से मिलने मे असमर्थ रहे। यमुना यमराज से बहुत ज्यादा स्नेह करती थी। यमुना यमराज को बार – बार अपने घर भोजन करने के लिए आंमत्रित करती है।

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

लेकिन यमराज अपने कार्य मे व्यस्त होने के कारण हर बार यमुना की बातो को टाल देते है। कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की दितीया तिथि को यमुना यमराज को अपने घर पर भोजन करने के लिए वचन दे देती है। यमराज भी सोचते है कि मै तो प्राणो को हरने वाला हू मुझे तो कोई भी अपने घर नही बुलाना चाहता लेकिन मेरी बहन मुझसे कितना स्नेह करती है। जो इतनी सदभावना से मुझे अपने घर भोजन के लिए आंमत्रित कर रही है। कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की दितीया के दिन यमराज अपनी बहन यमुना के घर भोजन करने के लिए निकलते है।

और नरक के सभी जीवो को मुक्त कर देते है यमराज के घर पहुचंते ही यमराज को अपने द्वार मे खडा देख यमुना की खुशी का ठिकाना नही रहता है। वह सबसे पहले स्नान करके यमराज को तिलक करके भोजन कराती है। बहन को अपने प्रति स्नेह , आदर और सम्मान को देखकर यमराज खुश हो जाते है। और यमुना को वर मांगने का आदेश देते है। यमुना ने कहा भद्र ! इस दिन जो बहन मेरी तरह अपने भाई का आदर , सत्कार और टीका करके भोजन कराये उसे तुम्हारा भय न रहे। यमराज अपनी बहन यमुना को तथास्तु कहकर वस्त्र और आभूषण देकर चले जाते है।

सभी हिंदु त्यौहारो को लेकर कुछ न कुछ मान्यता या कथाए रहती है। इसी प्रकार भाई दूज को लेकर एक कथा श्री कृष्ण और उनकी सुभद्रा से जुडी है। मान्यता है कि श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध करने के पश्चात अपनी बहन सुभद्रा से मिलने गए थे। सुभद्रा ने अपने भाई से मिलकर उनका तिलक कर पूजन आरती किया और पुष्पहारो से उनका आदर सत्कार के साथ स्वागत किया तब से ही हर वर्ष इसी तिथि को भाई दूज का पर्व मनाया जाता है।

यमुना नदी मे स्नान का महत्व

भाई दूज के दिन यमुना मे स्नान करना बहुत अच्छा माना जाता है। कहा जाता है कि सूर्य की पत्नी संज्ञा के दो बच्चे थे 1 बेटा और 1 बेटी। पुत्र का नाम यम था और बेटी का नाम यमुना। संज्ञा अपने पति सूर्य की तेज किरणो को सहन नही कर पाती थी और इसी वजह से वो उत्तरी धु्रव मे छाया बनकर रहने लग गई थी। कहा जाता है कि इसी के बाद ताप्ती नदी और शनि ने भी जन्म लिया था। संज्ञा के उत्तरी धु्रव मे रहने के बाद से यम और यमुना का आपस मे व्यवहार बदलने लग गया था। इसी को देखते हुए यम ने अपनी नगरी बसाई थी जिसका नाम यमपुरी था। कुछ साल बाद यम को अपनी बहन यमुना की याद सताने लगी। यम ने दूतो को अपनी बहन खोजने के लिए भेजा लेकिन उनका कुछ पता नही चला। इसके बाद यम शांत नही बैठे और उन्होने अपनी बहन को खोजना शुरू कर दिया वह अपनी बहन को खोजते – खोजते गोलोक गए और वही उनको अपनी बहन मिली। अपने भाई से मिल यमुना बहुत खुश हुई। और यम भी अपनी बहन यमुना को देखकर बहुत खुश हुए। इस पौराणिक कथा के अनुसार भाई दूज के दिन यमुना नदी मे स्नान करना बहुत शुभ माना जाता है। भाई दूज के दिन हर बहन अपने भाई को यमुना नदी मे हाथ पकडकर नहलाती है। इससे दोनो हमेशा के लिए सुखी रहते है। और उनकी सारी परेशानिया दूर होती है। और उनके जीवन मे कभी कोई संकट नही आते है।

विभिन्न क्षेत्रो मे भाई दूज पर्व

देश के विभिन्न इलाको मे भाई पर्व को अलग – अलग नामो से मनाया जाता है। दरअसल भारत मे क्षेत्रीय विविधता और संस्कृति की वजह से त्योहारो के नाम थोडे परिवर्तित हो जाते है हालांकि भाव और महत्व एक ही होता है।

 

1 पश्चिम बंगाल मे भाई दूज को भाई फोटा पर्व के नाम से जाना जाता है। इस दिन बहने भाई के लिए व्रत रखती है। और भाई को तिलक करने के बाद भाई को भोजन कराती है। भाई बहन को उपहार देता है।

2 महाराष्ट्र और गोवा मे भाई दूज को भाउ बीज के नाम से मनाया जाता है मराठी मे भाउ का अर्थ है ’ भाई ’ इस मोके पर बहने भाई को तिलक लगाकर भाई के खुशहाल जीवन की कामना करती है।

3 उत्तरप्रदेश मे भाई दूज के मौके पर बहने भाई का तिलक कर उन्हे शक्कर के बताशे देती है। उत्तरप्रदेश मे भाई दूज पर भाई को सूखा नारियल देने की परंपरा है।

4   बिहार मे भाई दूज पर एक अनोखी परंपरा निभाई जाती है। दरअसल इस दिन बहने भाइयो को डाटती है। और उन्हे भला बुरा कहती है। और फिर उनसे माफी मांगती है दरअसल यह परंपरा भाइयो द्वारा पहले की गई गलतियो के चलते निभाई जाती है। इस रस्म के बाद बहने भाइयो को तिलक लगाकर उन्हे मिठाई खिलाती है।

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

5   नेपाल मे भाई दूज पर्व भाई तिहार के नाम से लोकप्रिय है। तिहार का मतलब तिलक या टीका होता है इसके अलावा भाई दूज को भाई टीका के नाम से भी मनाया जाता है। नेपाल मे इस दिन बहने भाइयो के माथे पर सात रंग से बना तिलक लगाती है और उनकी लंबी आयु व सुख – समृध्दि की कामना करती है।

उपसंहार

भाई दूज का यह त्योहार हिंदु धर्म मे सबसे पवित्र त्योहारो मे से एक माना जाता है। राखी के अलावा भाई दूज भी भाई बहन के रिश्ते का पवित्र त्योहार माना जाता है। भाई दूज के दिन हम 99 Pandit.com से पंडित बुक करके भाई दूज की पूजा करवा सकते है। भाई दूज के दिन बहन अपने भाई को तिलक करके खाना खिलाती है। और भाई की लंबी आयु के लिए ईश्वर से कामना करती है कि उसके भाई पर कभी कोई संकट नही आये। इस पवित्र त्योहार को हमे प्यार से मनाना चाहिए किसी प्रकार का कोई लडाई झगडा नही करना चाहिए।