Dhanteras 2022: Dhanteras Shubh Muhurat & Puja Timing

In Hinduism, each holiday has its unique significance. Such holidays include Diwali, Dussehra, and Dhanteras, which people look forward to as soon as the year begins. Dhanteras Day marks the start of Diwali. 

On the Trayodashi day of Krishna Paksha in Kartik month, the festival of Dhanteras is observed. The five-day Diwali celebration starts on this day. It is required by law to worship Kuber, the deity of riches, and Lord Dhanvantari on the day of Dhanteras.

Dhanteras is formed of two words in which, Dhan denotes riches, while Teras denotes the thirteenth day. On the thirteenth day of Krishna Paksha of the Hindi calendar’s Kartik month, Dhanteras is celebrated. Other names for this celebration include Yamadeep, Dhanatrayodashi, and Dhanvantari Trayodashi.

The theme of the Dhanteras celebration is wealth and success. Lord Dhanvantari Dev was born on this day, per the scriptures. It also goes by the names Dhanvantari Jayanti and Dhan Trayodashi because of this. On Dhanteras, it is against the law to purchase anything from the market, including gold, silver, and kitchenware. 

Here in this article, you will get to know the date, muhurat and Story behind the festival Dhanteras 2022. 

Date and muhurat of Dhanteras:

Dhanteras will be celebrated on 23 October this year on Sunday. Dhan teras, also known as “Dhanvantari Trayodashi,” not only marks the beginning of the Diwali festival but also plays a crucial role in the festivities. The name “Dhanteras” comes from the words “dhan,” which denotes riches, and “teras,” which refers to the lucky thirteenth day, which falls at the tail end of the Ashwin month.

For Hindus, the importance of kaal is very important as people believed to do the holy work at auspicious times.

muhurat for Dhanteras: 17:44:07 PM to 18:05:50 PM

Duration: 00 hours:41 minutes

Triyodoshi Tithi begins on 22 October 2022, 06:03 PM and Tryodisi Tithi ends on 23 October 2022, 06:03 PM.

Pradosh kaal: 05:49 PM to 08:22 PM

Vrishabha Kaal: 07:01 PM to 08:56 PM

Scriptures related to Dhanteras:

  1. The 13th day of Kartik month is when Dhanteras falls. The day is also known as “Udayvyapini Trayodashi,” which is the day that the Hindu calendar’s thirty-first day begins at the time of sunrise. Only after the aforementioned scenario is resolved is the Dhanteras celebration observed on that day.
  2. It is said that giving lights to Lord Yamraj on the day of Dhanteras at the Pradosh kaal would bring luck to you and your family. Dhanteras is to be observed on that day if the Triyodashi Tithi lasts until after daybreak the next day.

Significance of Dhanteras:

Because Lord Dhanvantari was born on Dhantrayodashi, this day is celebrated as Dhanteras. Lord Dhanvantari is thought to be a manifestation of Vishnu. Legend has it that Lord Dhanvantari held an urn full of nectar in his palm when he first emerged from the churning of the ocean.

This is the rationale behind the custom of purchasing gold, silver, and jewelry on the day of DhanTeras. Prosperity is increased by worshiping Mother Lakshmi and Lord Dhanvantari on Dhanteras. Light is given on this day for Yama Dev during the Pradosh era. This is thought to eliminate the worry about dying too soon. Another name for Lord Dhanvantari is “the deity of medicine and medicine.”

To impress Lord Dhanvantari’s mantra Jaap and havan are found to be important. And for this task, people believe to call Pandits that are experienced and you can call them or book them directly from your Comfort zone. To book a Pandit online log in to the Platform 99Pandit.

Story Behind the celebration of Dhanteras:

Ancient myths claim that the tale of King Hima’s sixteen-year-old son is the reason for the celebration of Dhanteras. It was foreseen that on the fourth day of his marriage, he would pass away from a snake bite.

Knowing this prediction would come true four days after their wedding, the couple’s newlywed wife piled all of her jewelry and coins made of precious metals like gold and silver at the door to her husband’s bedroom and decorated the space with lighting.

Then, to prevent her spouse from falling asleep throughout the night, she told stories and sang songs. Yama, the god of death, is said to have appeared as a snake. And was unable to enter the prince’s chamber because the light from the lights and jewelry had blinded him. Instead, he is said to have climbed the pile of jewelry and cash and listened to the wife’s beautiful songs.

He silently left in the morning, saving the prince’s life. The young woman thus delivered her husband from the grip of death itself. As a result, this day also became known as “Yamadeepdaan.”

Another well-known mythology also connects to this festival. It holds that on the day of Dhanteras, during the cosmic conflict between the gods and demons who had churned the ocean in search of Amrita or nectar, Dhanvantari—a physician of the Gods and a manifestation of Vishnu—appeared with a jar of elixir.

There are several more stories or tales said to be the reason behind the celebration of Dhanteras. An experienced pandit who knows about the Hindu Panchang and the Poranik Katha is needed for the pooja and Vidhi-Vidhan. To call a Pandit you just have to connect with the platform 99Pandit. Book a Pandit Online directly from your comfort zone from the platform 99Pandit.

Importance of Dhanteras:

It is said that Maa Lakshmi is the goddess of riches. It is required by legislation to worship Mother Lakshmi and Lord Dhanvantari Dev on the day of dhanteras. There is wealth, joy, and success thanks to Maa Lakshmi’s favor. The devotees’ problems, difficulties, and impediments are eliminated with Maa Lakshmi’s blessings. On the auspicious Dhanteras day, worshiping Goddess Lakshmi and Dhanvantari Dev bestows great blessings.

The tradition holds that Dhanvantari Dev is thought to be a manifestation of Lord Vishnu. He is Lord Vishnu’s 12th manifestation. In addition, Lord Dhanvantari is credited with creating Ayurveda. The scriptures claim that Lord Dhanvantari was created from the ocean’s churning. The Krishna Paksha of the Kartik month’s Trayodashi Tithi fell on this day. In addition, it’s thought that Lord Dhanvantari is the author of several novels.

Dhanteras means to increase your Dhan thirteen times. On this day, it is said that Lord Dhanvantri took birth in Ocean churning. This day plays a very important role for the Hindus like any other festival. People believed to do religious work on this day. Giving resources to the needy on this day is found to be very important. Doing pooja, havan and distributing food around you is a good choice to do. To make your pooja done Auspicious 99Pandit helps you. Book a Pandit Online directly from the platform.

Pooja Vidhi:

The greatest blessings that humanity has are health and riches. The Dhanteras holiday celebrates good health, prosperity, and wealth. This celebration was born with the manifestation of Lord Dhanvantri, the Father of Ayurveda. Dhanteras is celebrated to amass a long life that is full of prosperity, money, and luxury, as the notion suggests.

There are some specific vidhi that should be performed on the Dhanteras. To make this task easy for you, 99Pandit brings happiness to you. 99Pandit permits you to Book a North Indian Pandit directly from your comfort zone. Additionally, the Pandit suggested by the platform 99Pandit is of great knowledge of Hindu rituals. A healthy body is the home of a healthy mind, which thrives despite many challenges.

Scriptures state that Dhanvantari should be worshiped with Shodashopchara on the day of Dhanteras. The Shodashopachara ritual consists of 16 distinct acts of devotion. Aarti, parikrama, dhoop, deep, Naivaidya, Aachman (clean water), betel leaf carrying the offerings, Aasan, Padya, Arghya, Aachaman (scented drinking water), bathe, clothes, jewelry, perfumes (saffron and sandalwood), flowers, and paridhan.

  1. It is customary to purchase silver and gold utensils during Dhanteras. These items are well regarded as being significant indicators of wealth in your home.
  2. Since this celebration heralds the next holiday of Diwali, lights and lamps are displayed on the front gate and in the open spaces of the home.
  3. To dispel the threat and anxiety around the Lord of Death, lamps are presented in front of Lord Yamraj on the day of Dhanteras.

On the other hand, it is believed to worship Yamdev on the day of Dhanteras to end the crisis of untimely death.

Rituals during Dhanteras:

Rituals play a very important role in the life of Hindus. We trust Pandit for this task as they are highly experienced in these tasks and performing rituals. To contact Pandit directly from your place is now possible because of the platform 99Pandit. You can Book a North Indian Pandit online from the platform 99Pandit.

Here providing you with the rituals performed on the day of Dhanteras.

  • Days before the actual day, Dhanteras preparations start. People begin to clean and decorate their homes and workplaces with flowers, rangoli, lights, and diyas. The entryway is embellished with traditional and vibrant rangoli patterns. At the home’s entryway, the goddess Lakshmi’s footprint is also visible.
  • The day of Dhanteras is marked by early morning bathing and rising. After completing the morning rites, they get ready for the evening Lakshmi puja. In the evening, the entire family gathers to worship the goddess Lakshmi with ghee diyas, flowers, kumkum, and chawal. On this day, people worship Lord Kuber as well to receive twice as many blessings and advantages.
  • Delicious sweets and savory dishes are made on this day to give to Goddess Lakshmi. A distinctive tradition in the state of Maharashtra is the preparation of “Naivedyam” using jaggery and powdered dry coriander seeds.
  • On Dhanteras, some devotees also follow a fast beginning in the morning and ending after the Lakshmi puja is complete. The entire family consumes the prasad together, and it is also shared with friends and families. People sing bhajans and devotional songs all day long in honor of Goddess Lakshmi.
  • There is also a custom of igniting Yamadeep on Dhanteras. In this rite, a Diya is lit outside the residence for Yama, the Lord of Death. It is said that lighting this Diya would fend off any evil and also stop any family members from passing away too soon.

The five-day Diwali celebrations begin on Dhantrayodashi, often referred to as Dhanteras. When the Milky Sea was stirring on the day of Dhantrayodashi, Goddess Lakshmi emerged from the water. Thus, on the fortunate day of Trayodashi, Goddess Lakshmi is worshiped with Lord Kubera, the God of Wealth. Lakshmi Puja on Amavasya, which comes two days after Dhantrayodashi, is seen to be more important.

On Dhanteras or Dhantrayodashi, Lakshmi Puja should be performed during Pradosh Kaal, which begins after sunset and lasts for around two hours and twenty-four minutes.

Celebrate your Dhanteras with the blessing of lord Laxmi. And the presence of experienced Pandit only with the help of 99Pandit. The platform of 99Pandit permits the user to Book a North Indian Pandit Online directly from the home or Pandits themselves can register on the platform.

What Things to Buy on Dhanteras:

Dhanteras celebrates prosperity, well-being, and health. Dhanteras is celebrated to acquire long life, prosperity, money, and luxury, as the notion implies. A healthy body is indeed the home of a healthy mind, which thrives despite obstacles. Typical Dhanteras festivities include:

  • On Dhanteras, purchasing jewelry or coins made of gold or silver is seen as exceedingly lucky. It is the same as introducing “Goddess Lakshmi” into your house.
  • Purchasing items that are essential to increasing wealth in the home is an element of the celebration.
  • On Dhantrayodashi, buying any form of “metal” is considered lucky and prosperous.
  • To overcome the fear of the Lord of Death, lights are lit throughout the home during Dhanteras. Especially in front of Lord Yamraj.
  • The doorway to deep bonds is opened through gatherings with loved ones. One never knows when adversity will strike, though! However, there is always a simple fix. Calling our specialists is easy! This Dhanteras, talk to them about concerns relating to all facets of life, and watch it glitter with your wealth!

Here is all about the date, muhurat and Significance of the festival Dhanteras. Book a North Indian Pandit from the platform 99Pandit and we are here to perform all rituals for you. Making it easiest for you to connect with pandit and Book a north Indian pandit, we the team of 99Pandit works 24 into 7 for you.

Translated by Google:

धनतेरस 2022: धन का दिन

हिंदू धर्म में हर त्योहार का अपना अलग महत्व होता है। ऐसी छुट्टियों में दिवाली, दशहरा और धनतेरस शामिल हैं, जिनका लोग साल शुरू होते ही बेसब्री से इंतजार करते हैं। धनतेरस दिवस दिवाली की शुरुआत का प्रतीक है।

कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को धनतेरस का पर्व मनाया जाता है। इस दिन से पांच दिवसीय दिवाली उत्सव शुरू होता है। धनतेरस के दिन धन के देवता कुबेर और भगवान धन्वंतरि की पूजा करना कानून के अनुसार आवश्यक है।

धनतेरस दो शब्दों से मिलकर बना है, जिसमें धन धन को दर्शाता है, जबकि तेरस तेरहवें दिन को दर्शाता है। हिंदी कैलेंडर के कार्तिक महीने के कृष्ण पक्ष के तेरहवें दिन, धनतेरस मनाया जाता है। इस उत्सव के अन्य नामों में यमदीप, धनत्रयोदशी और धन्वंतरि त्रयोदशी शामिल हैं।

धनतेरस उत्सव का विषय धन और सफलता है। शास्त्रों के अनुसार इसी दिन भगवान धन्वंतरि देव का जन्म हुआ था। इस वजह से इसे धन्वंतरि जयंती और धन त्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है। धनतेरस के दिन बाजार से सोना, चांदी और बरतन समेत कुछ भी खरीदना कानून के खिलाफ है।

यहां इस लेख में, आप त्योहार धनतेरस 2022 के पीछे की तारीख, मुहूर्त और कहानी के बारे में जानेंगे।

धनतेरस की तिथि और मुहूर्त:

धनतेरस इस साल 23 अक्टूबर को रविवार के दिन मनाया जाएगा। धन तेरस, जिसे “धन्वंतरि त्रयोदशी” के रूप में भी जाना जाता है, न केवल दिवाली त्योहार की शुरुआत का प्रतीक है, बल्कि उत्सव में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। “धनतेरस” नाम “धन” शब्द से आया है, जो धन को दर्शाता है, और “तेरस”, जो भाग्यशाली तेरहवें दिन को संदर्भित करता है, जो अश्विन महीने के अंत में पड़ता है।

हिंदुओं के लिए, काल का महत्व बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि लोग पवित्र कार्य को शुभ समय पर करने के लिए मानते हैं।

धनतेरस के लिए मुहूर्त: 17:44:07 अपराह्न से 18:05:50 अपराह्न

अवधि: 00 घंटे:41 मिनट

त्रयोदशी तिथि 22 अक्टूबर 2022 को शाम 06:03 बजे से शुरू हो रही है और त्रयोदिसी तिथि 23 अक्टूबर 2022 को शाम 06:03 बजे समाप्त होगी

प्रदोष काल: 05:49 अपराह्न से 08:22 अपराह्न

वृषभ काल: 07:01 अपराह्न से 08:56 अपराह्न

धनतेरस से संबंधित शास्त्र:

  1. कार्तिक मास की 13वीं तिथि को धनतेरस पड़ता है। इस दिन को “उदयव्यपिनी त्रयोदशी” के रूप में भी जाना जाता है, जो वह दिन है जब हिंदू कैलेंडर का इकतीसवां दिन सूर्योदय के समय शुरू होता है। उपरोक्त परिदृश्य के समाधान के बाद ही उस दिन धनतेरस मनाया जाता है।
  2. कहा जाता है कि प्रदोष काल में धनतेरस के दिन भगवान यमराज को दीपदान करने से आपका और आपके परिवार का भाग्योदय होता है. यदि त्रयोदशी तिथि अगले दिन प्रात:काल तक रहती है तो उस दिन धनतेरस मनाया जाता है।

धनतेरस का महत्व:

क्योंकि भगवान धन्वंतरि का जन्म धनत्रयोदशी को हुआ था, इसलिए इस दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाता है। भगवान धन्वंतरि को विष्णु का अवतार माना जाता है। किंवदंती है कि भगवान धन्वंतरि ने पहली बार समुद्र मंथन से निकलने पर अपनी हथेली में अमृत से भरा कलश रखा था।

धनतेरस के दिन सोना, चांदी और आभूषण खरीदने की परंपरा के पीछे यही कारण है। धनतेरस पर मां लक्ष्मी और भगवान धन्वंतरि की पूजा करने से समृद्धि बढ़ती है। प्रदोष काल में यम देव के लिए इस दिन प्रकाश दिया जाता है। ऐसा माना जाता है कि यह बहुत जल्द मरने की चिंता को खत्म कर देता है। भगवान धन्वंतरि का दूसरा नाम “दवा और औषधि के देवता” है।

भगवान धन्वंतरि के मंत्र जाप और हवन को प्रभावित करने के लिए महत्वपूर्ण पाए जाते हैं और इस कार्य के लिए, लोग पंडितों को बुलाते हैं जो अनुभवी हैं और आप उन्हें कॉल कर सकते हैं या उन्हें सीधे अपने सुविधा क्षेत्र से बुक कर सकते हैं। पंडित ऑनलाइन बुक करने के लिए प्लेटफॉर्म 99पंडित में लॉग इन करें।

धनतेरस मनाने के पीछे की कहानी:

प्राचीन मिथकों का दावा है कि राजा हिमा के सोलह वर्षीय पुत्र की कहानी धनतेरस के उत्सव का कारण है। यह अनुमान लगाया गया था कि उसकी शादी के चौथे दिन, वह सांप के काटने से मर जाएगा।

यह जानते हुए कि उनकी शादी के चार दिन बाद यह भविष्यवाणी सच हो जाएगी, जोड़े की नवविवाहित पत्नी ने अपने पति के बेडरूम के दरवाजे पर अपने सभी आभूषण और सोने और चांदी जैसी कीमती धातुओं से बने सिक्कों को ढेर कर दिया और अंतरिक्ष को रोशनी से सजाया।

फिर, अपनी पत्नी को रात भर सोने से रोकने के लिए, उसने कहानियाँ सुनाईं और गीत गाए। कहा जाता है कि मृत्यु के देवता यम सांप के रूप में प्रकट हुए थे और राजकुमार के कक्ष में प्रवेश करने में असमर्थ थे क्योंकि रोशनी और आभूषणों के प्रकाश ने उन्हें अंधा कर दिया था। इसके बजाय, कहा जाता है कि उसने गहनों और नकदी के ढेर पर चढ़कर पत्नी के सुंदर गीत सुने।

वह राजकुमार की जान बचाकर सुबह चुपचाप निकल गया। इस तरह युवती ने अपने पति को मौत के चंगुल से छुड़ाया। परिणामस्वरूप, इस दिन को “यमदीपदान” के रूप में भी जाना जाने लगा।

इस पर्व से एक और प्रसिद्ध पौराणिक कथा भी जुड़ी हुई है। यह माना जाता है कि धनतेरस के दिन, देवताओं और राक्षसों के बीच लौकिक संघर्ष के दौरान, जिन्होंने अमृत या अमृत की तलाश में समुद्र मंथन किया था, धन्वंतरि – देवताओं के एक चिकित्सक और विष्णु की अभिव्यक्ति – अमृत के एक जार के साथ प्रकट हुए।

धनतेरस के उत्सव के पीछे कई और कहानियां या किस्से बताए जाते हैं। एक अनुभवी पंडित जो हिंदू पंचांग और पोरानिक कथा के बारे में जानता है, पूजा और विधि-विधान के लिए आवश्यक है। किसी पंडित को कॉल करने के लिए आपको बस 99Pandit प्लेटफॉर्म से जुड़ना होगा। मंच 99पंडित से सीधे अपने सुविधा क्षेत्र से पंडित ऑनलाइन बुक करें।

धनतेरस का महत्व:

कहा जाता है कि मां लक्ष्मी धन की देवी हैं। धनतेरस के दिन मां लक्ष्मी और भगवान धन्वंतरि देव की पूजा करना विधान के अनुसार आवश्यक है। माँ लक्ष्मी की कृपा से धन, सुख और सफलता मिलती है। मां लक्ष्मी की कृपा से भक्तों की परेशानी, मुश्किलें और बाधाएं दूर होती हैं। धनतेरस के शुभ दिन पर देवी लक्ष्मी और धन्वंतरि देव की पूजा करने से बहुत आशीर्वाद मिलता है।

परंपरा यह मानती है कि धन्वंतरि देव को भगवान विष्णु का एक रूप माना जाता है। वह भगवान विष्णु के बारहवें अवतार हैं। इसके अलावा, भगवान धन्वंतरि को आयुर्वेद बनाने का श्रेय दिया जाता है। शास्त्रों का दावा है कि भगवान धन्वंतरि की उत्पत्ति समुद्र मंथन से हुई थी। कार्तिक मास की त्रयोदशी तिथि का कृष्ण पक्ष इसी दिन पड़ा था। इसके अलावा, ऐसा माना जाता है कि भगवान धन्वंतरि कई उपन्यासों के लेखक हैं।

धनतेरस का अर्थ है अपने धन को तेरह गुना बढ़ाना। कहा जाता है कि इस दिन भगवान धन्वंतरि ने समुद्र मंथन में जन्म लिया था। यह दिन किसी भी अन्य त्योहार की तरह हिंदुओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। लोग इस दिन धार्मिक कार्य करने की मान्यता देते थे। इस दिन जरूरतमंदों को संसाधन देना बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। पूजा, हवन करना और अपने आसपास भोजन बांटना एक अच्छा विकल्प है। आपकी पूजा को शुभ करने के लिए 99पंडित आपकी मदद करते हैं। मंच से सीधे पंडित ऑनलाइन बुक करें।

पूजा विधि:

मानवता के लिए सबसे बड़ा आशीर्वाद स्वास्थ्य और धन है। धनतेरस की छुट्टी अच्छे स्वास्थ्य, समृद्धि और धन का जश्न मनाती है। यह उत्सव आयुर्वेद के पिता भगवान धन्वंतरि के प्रकट होने के साथ पैदा हुआ था। धनतेरस एक लंबे जीवन के लिए मनाया जाता है जो समृद्धि, धन और विलासिता से भरा होता है, जैसा कि धारणा बताती है।

धनतेरस के दिन कुछ विशेष विधियाँ करनी चाहिए। आपके लिए इस काम को आसान बनाने के लिए 99पंडित आपके लिए खुशियां लेकर आए हैं। 99पंडित आपको सीधे अपने सुविधा क्षेत्र से उत्तर भारतीय पंडित बुक करने की अनुमति देते हैं। इसके अतिरिक्त, मंच 99पंडित द्वारा सुझाए गए पंडित को हिंदू रीति-रिवाजों का बहुत ज्ञान है। एक स्वस्थ शरीर स्वस्थ दिमाग का घर होता है, जो कई चुनौतियों के बावजूद पनपता है।

शास्त्रों में कहा गया है कि धनतेरस के दिन धन्वंतरि की षोडशोपचार से पूजा करनी चाहिए। षोडशोपचार अनुष्ठान में भक्ति के 16 अलग-अलग कार्य होते हैं। आरती, परिक्रमा, धूप, दीप, नैवैद्य, आचमन (स्वच्छ जल), पान चढ़ाने वाला पान, आसन, पद्य, अर्घ्य, आचमन (सुगंधित पेयजल), स्नान, वस्त्र, आभूषण, इत्र (केसर और चंदन), फूल, और परिधान।

धनतेरस के दौरान चांदी और सोने के बर्तन खरीदने की प्रथा है। इन वस्तुओं को आपके घर में धन का महत्वपूर्ण संकेतक माना जाता है।

चूंकि यह उत्सव दिवाली की अगली छुट्टी की शुरुआत करता है, इसलिए घर के सामने और खुले स्थानों पर रोशनी और दीपक प्रदर्शित किए जाते हैं।

मृत्यु के देवता के चारों ओर के भय और चिंता को दूर करने के लिए धनतेरस के दिन भगवान यमराज के सामने दीपक अर्पित किए जाते हैं।

वहीं असमय मृत्यु के संकट को खत्म करने के लिए धनतेरस के दिन यमदेव की पूजा करने की मान्यता है.

धनतेरस के दौरान अनुष्ठान:

हिंदुओं के जीवन में अनुष्ठान बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हमें इस कार्य के लिए पंडित पर भरोसा है क्योंकि वे इन कार्यों और अनुष्ठानों में अत्यधिक अनुभवी हैं। मंच 99पंडित के कारण अब पंडित से सीधे अपने स्थान से संपर्क करना संभव है। आप 99Pandit प्लेटफॉर्म से उत्तर भारतीय पंडित को ऑनलाइन बुक कर सकते हैं।

यहां आपको धनतेरस के दिन किए जाने वाले अनुष्ठानों के बारे में बताया जा रहा है।

वास्तविक दिन से कुछ दिन पहले धनतेरस की तैयारी शुरू हो जाती है। लोग अपने घरों और कार्यस्थलों को फूलों, रंगोली, रोशनी और दीयों से साफ और सजाने लगते हैं। प्रवेश द्वार पारंपरिक और जीवंत रंगोली पैटर्न से अलंकृत है। घर के प्रवेश द्वार पर भी देवी लक्ष्मी के पदचिन्ह दिखाई दे रहे हैं।

धनतेरस के दिन को प्रात: काल स्नान और उदित माना जाता है। सुबह का संस्कार पूरा करने के बाद, वे शाम लक्ष्मी पूजा के लिए तैयार हो जाते हैं। शाम को पूरा परिवार घी के दीये, फूल, कुमकुम और चावल से देवी लक्ष्मी की पूजा करने के लिए इकट्ठा होता है। इस दिन लोग कुबेर भगवान की भी पूजा करते हैं और उनसे दुगना आशीर्वाद और लाभ प्राप्त करते हैं।

इस दिन मां लक्ष्मी को देने के लिए स्वादिष्ट मिठाइयां और नमकीन व्यंजन बनाए जाते हैं। महाराष्ट्र राज्य में एक विशिष्ट परंपरा गुड़ और सूखे धनिये के पाउडर का उपयोग करके “नैवेद्यम” तैयार करना है।

धनतेरस पर, कुछ भक्त सुबह उपवास शुरू करते हैं और लक्ष्मी पूजा पूरी होने के बाद समाप्त होते हैं। पूरा परिवार एक साथ प्रसाद का सेवन करता है, और इसे दोस्तों और परिवारों के साथ भी साझा किया जाता है। लोग देवी लक्ष्मी के सम्मान में दिन भर भजन और भक्ति गीत गाते हैं।

धनतेरस पर यमदीप जलाने का भी रिवाज है। इस संस्कार में, मृत्यु के देवता यम के लिए निवास के बाहर एक दीया जलाया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इस दीया को जलाने से कोई भी बुराई दूर हो जाती है और परिवार के किसी भी सदस्य को जल्द ही मरने से भी रोक दिया जाता है।

पांच दिवसीय दिवाली समारोह धनत्रयोदशी से शुरू होता है, जिसे अक्सर धनतेरस कहा जाता है। जब धनत्रयोदशी के दिन दूधिया सागर में हलचल हो रही थी, तो देवी लक्ष्मी जल से निकलीं। इस प्रकार, त्रयोदशी के भाग्यशाली दिन, देवी लक्ष्मी की पूजा धन के देवता भगवान कुबेर के साथ की जाती है। धनत्रयोदशी के दो दिन बाद आने वाली अमावस्या पर लक्ष्मी पूजा का अधिक महत्व देखा जाता है।

धनतेरस या धनत्रयोदशी पर, लक्ष्मी पूजा प्रदोष काल के दौरान की जानी चाहिए, जो सूर्यास्त के बाद शुरू होती है और लगभग दो घंटे चौबीस मिनट तक चलती है।

99पंडित की सहायता से ही अपने धनतेरस को भगवान लक्ष्मी के आशीर्वाद और अनुभवी पंडित की उपस्थिति से मनाएं। 99पंडित का मंच उपयोगकर्ता को घर से सीधे उत्तर भारतीय पंडित ऑनलाइन बुक करने की अनुमति देता है या पंडित स्वयं मंच पर पंजीकरण कर सकते हैं।

धनतेरस पर क्या खरीदें:

धनतेरस समृद्धि, कल्याण और स्वास्थ्य का उत्सव मनाता है। धनतेरस लंबे जीवन, समृद्धि, धन और विलासिता प्राप्त करने के लिए मनाया जाता है, जैसा कि धारणा का तात्पर्य है। एक स्वस्थ शरीर वास्तव में स्वस्थ मन का घर है, जो बाधाओं के बावजूद पनपता है। विशिष्ट धनतेरस उत्सव में शामिल हैं:

शुभ धनतेरस के दिन सोने या चांदी से बने आभूषण या सिक्के खरीदना बहुत ही शुभ माना जाता है। यह आपके घर में “देवी लक्ष्मी” का परिचय देने जैसा है।

घर में धन बढ़ाने के लिए आवश्यक वस्तुओं की खरीद उत्सव का एक तत्व है।

धनत्रयोदशी के दिन “धातु” के किसी भी रूप को खरीदना भाग्यशाली और समृद्ध माना जाता है।

मृत्यु के देवता के भय को दूर करने के लिए, धनतेरस के दौरान पूरे घर में रोशनी की जाती है, खासकर भगवान यमराज के सामने।

प्रियजनों के साथ सभाओं के माध्यम से गहरे बंधनों का द्वार खोला जाता है। हालाँकि, कोई नहीं जानता कि विपत्ति कब आएगी! हालांकि, हमेशा एक साधारण फिक्स होता है। हमारे विशेषज्ञों को कॉल करना आसान है! इस धनतेरस, उनसे जीवन के सभी पहलुओं से संबंधित चिंताओं के बारे में बात करें, और इसे अपने धन से चमकते हुए देखें!

यहां धनतेरस त्योहार की तारीख, मुहूर्त और महत्व के बारे में बताया गया है। मंच 99पंडित से एक उत्तर भारतीय पंडित बुक करें और हम यहां आपके लिए सभी अनुष्ठान करने के लिए हैं। आपके लिए पंडित से जुड़ना और उत्तर भारतीय पंडित बुक करना आसान बनाते हुए, हम 99पंडित की टीम आपके लिए 24 गुणा 7 काम करती है।

Also Read: Shardiya Navratri