Verified Pandit at Your Doorstep for 99Pandit PujaRudrabhishek Puja Book Now

Aarti Shri Ramayan Ji Ki Lyrics: रामायण जी की आरती हिंदी में

99Pandit Ji
Last Updated:June 20, 2024

हिंदू धर्म में मान्यता है कि जिस स्थान पर भगवान श्री राम की पूजा की जाती है, उस स्थान पर रामायण जी की आरती (Ramayan Ji Ki Aarti) करने से भगवान श्री राम एवं माता सीता के साथ – साथ भगवान हनुमान जी का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है|

महर्षि वाल्मीकि जी के द्वारा रचित रामायण एवं रामचरितमानस का जाप करने से पूर्ण रामायण जी की पूजा व आरती का जाप करना अनिवार्य होता है| कहा जाता है कि रामायण जी की आरती करने से हनुमान जी की विशेष कृपा प्राप्त होती है एवं हृदय को शांति भी मिलती है तो आइये जाप करते है इस रामायण जी की आरती का हिंदी में|

रामायण जी की आरती

इसके अतिरिक्त आप ऑनलाइन किसी भी पूजा जैसे काल सर्प दोष पूजा (Kaal Sarp Dosh Puja), रुद्राभिषेक पूजा (Rudrabhishek Puja), तथा गृह प्रवेश पूजा (Griha Pravesh Puja) के लिए हमारी वेबसाइट 99Pandit की सहायता से ऑनलाइन पंडित बहुत आसानी से बुक कर सकते है| इसी के साथ हमसे जुड़ने के लिए आप हमारे Whatsapp पर भी हमसे संपर्क कर सकते है|

रामायण जी की आरती – Ramayan Ji Ki Aarti in Hindi

|| रामायण जी की आरती ||

आरती श्री रामायण जी की ।
कीरति कलित ललित सिय पी की ॥
गावत ब्रहमादिक मुनि नारद ।
बाल्मीकि बिग्यान बिसारद ॥
शुक सनकादिक शेष अरु शारद ।
बरनि पवनसुत कीरति नीकी ॥
॥ आरती श्री रामायण जी की..॥

गावत बेद पुरान अष्टदस ।
छओं शास्त्र सब ग्रंथन को रस ॥
मुनि जन धन संतान को सरबस ।
सार अंश सम्मत सब ही की ॥
॥ आरती श्री रामायण जी की..॥

गावत संतत शंभु भवानी ।
अरु घटसंभव मुनि बिग्यानी ॥
ब्यास आदि कबिबर्ज बखानी ।
कागभुशुंडि गरुड़ के ही की ॥
॥ आरती श्री रामायण जी की..॥

कलिमल हरनि बिषय रस फीकी ।
सुभग सिंगार मुक्ति जुबती की ॥
दलनि रोग भव मूरि अमी की ।
तात मातु सब बिधि तुलसी की ॥

आरती श्री रामायण जी की ।
कीरति कलित ललित सिय पी की ॥

रामायण जी की आरती

Ramayan Ji Ki Aarti in English: आरती श्री रामायण जी की

|| Ramayan Ji Ki Aarti ||

Aarti Shri Ramayan Ji Ki ।
Keerti kalit lalit Sia Pi ki ।।
Gaavat Brahmadik muni Narad ।
Valmiki vigyaan bisarad ।।
Shuk Sanakadik Shesh aru Sharad ।
Barani Pavansut keerti neeki ।।
Aarti Shri Ramayan Ji ki…।।

Gaavat Ved Puran Ashtadas ।
Chhao Shastra sab granthon ko ras ।।
Muni jan dhan santan ko sarbas ।
Saar ansh sammat sab hi ki ।।
Aarti Shri Ramayan Ji ki…।।

Gaavat santat Shambhu Bhavani ।
Aru Ghatsambhav muni vigyaani ।।
Vyas adi kabivarj bakhaani ।
Kagbhushundi Garud ke hi ki ।।
Aarti Shri Ramayan Ji ki…।।

Kalimal harani vishay ras feeki ।
Subhag singar mukti jubati ki ।।

Dalani rog bhav moori ami ki ।
Taat maat sab vidhi Tulsi ki ।।

Aarti Shri Ramayan Ji ki ।
Keerti kalit lalit Sia Pi ki ।।

99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Astrologer