Book A Pandit At Your Doorstep For Navratri Puja Book Now

Chitragupta Chalisa Lyrics: चित्रगुप्त चालीसा हिंदी लिरिक्स

99Pandit Ji
Last Updated:March 27, 2024

Book a pandit for Chitragupta Puja in a single click

Verified Pandit For Puja At Your Doorstep

99Pandit

भगवान चित्रगुप्त को प्रसन्न करने के चित्रगुप्त चालीसा (Chitragupta Chalisa) एक बहुत अच्छा मार्ग माना जाता है| इस चित्रगुप्त चालीसा (Chitragupta Chalisa) का जाप करने से भक्तों पर भगवान चित्रगुप्त की कृपा हमेशा बनी रहती है| भगवान चित्रगुप्त यम लोक में निवास करते है| भगवान चित्रगुप्त का कार्य पापों तथा पुण्य का आंकलन करना है|

भगवान चित्रगुप्त की पूजा करने से तथा चित्रगुप्त चालीसा (Chitragupta Chalisa) का पाठ करने से भक्तों को उनके कारोबार में उन्नति प्राप्त होती है| आइये जानते है चित्रगुप्त चालीसा (Chitragupta Chalisa) के लिरिक्स के बारे में|

 चित्रगुप्त चालीसा

इसी के साथ यदि आप किसी भी आरती या चालीसा जैसे शिव तांडव स्तोत्रम [Shiv Tandav Stotram], सरस्वती आरती [Saraswati Aarti], या कनकधारा स्तोत्र [Kanakdhara Stotra] आदि भिन्न-भिन्न प्रकार की आरतियाँ, चालीसा व व्रत कथा पढना चाहते है तो आप हमारी वेबसाइट 99Pandit पर विजिट कर सकते है|

इसके अलावा आप हमारे एप 99Pandit For Users पर भी आरतियाँ व अन्य कथाओं को पढ़ सकते है| इस एप में सम्पूर्ण भगवद गीता के सभी अध्यायों को हिंदी अर्थ सहित समझाया गया है|

चित्रगुप्त चालीसा हिंदी में | Chitragupta Chalisa Lyrics in Hindi

|| दोहा ||

सुमिर चित्रगुप्त ईश को, सतत नवाऊ शीश।
ब्रह्मा विष्णु महेश सह, रिनिहा भए जगदीश॥
करो कृपा करिवर वदन, जो सरशुती सहाय।
चित्रगुप्त जस विमलयश, वंदन गुरूपद लाय॥

|| चौपाई ||

जय चित्रगुप्त ज्ञान रत्नाकर।
जय यमेश दिगंत उजागर॥

अज सहाय अवतरेउ गुसांई।
कीन्हेउ काज ब्रम्ह कीनाई॥

श्रृष्टि सृजनहित अजमन जांचा।
भांति-भांति के जीवन राचा॥

अज की रचना मानव संदर।
मानव मति अज होइ निरूत्तर॥ 4 ॥

भए प्रकट चित्रगुप्त सहाई।
धर्माधर्म गुण ज्ञान कराई॥

राचेउ धरम धरम जग मांही।
धर्म अवतार लेत तुम पांही॥

अहम विवेकइ तुमहि विधाता।
निज सत्ता पा करहिं कुघाता॥

श्रष्टि संतुलन के तुम स्वामी।
त्रय देवन कर शक्ति समानी॥ 8 ॥

पाप मृत्यु जग में तुम लाए।
भयका भूत सकल जग छाए॥

महाकाल के तुम हो साक्षी।
ब्रम्हउ मरन न जान मीनाक्षी॥

धर्म कृष्ण तुम जग उपजायो।
कर्म क्षेत्र गुण ज्ञान करायो॥

राम धर्म हित जग पगु धारे।
मानवगुण सदगुण अति प्यारे॥ 12 ॥

विष्णु चक्र पर तुमहि विराजें।
पालन धर्म करम शुचि साजे॥

महादेव के तुम त्रय लोचन।
प्रेरकशिव अस ताण्डव नर्तन॥

सावित्री पर कृपा निराली।
विद्यानिधि माँ सब जग आली॥

रमा भाल पर कर अति दाया।
श्रीनिधि अगम अकूत अगाया॥ 20 ॥

ऊमा विच शक्ति शुचि राच्यो।
जाकेबिन शिव शव जग बाच्यो॥

गुरू बृहस्पति सुर पति नाथा।
जाके कर्म गहइ तव हाथा॥

रावण कंस सकल मतवारे।
तव प्रताप सब सरग सिधारे॥

प्रथम् पूज्य गणपति महदेवा।
सोउ करत तुम्हारी सेवा॥ 24 ॥

रिद्धि सिद्धि पाय द्वैनारी।
विघ्न हरण शुभ काज संवारी॥

व्यास चहइ रच वेद पुराना।
गणपति लिपिबध हितमन ठाना॥

पोथी मसि शुचि लेखनी दीन्हा।
असवर देय जगत कृत कीन्हा॥

लेखनि मसि सह कागद कोरा।
तव प्रताप अजु जगत मझोरा॥ 28 ॥

विद्या विनय पराक्रम भारी।
तुम आधार जगत आभारी॥

द्वादस पूत जगत अस लाए।
राशी चक्र आधार सुहाए॥

जस पूता तस राशि रचाना।
ज्योतिष केतुम जनक महाना॥

तिथी लगन होरा दिग्दर्शन।
चारि अष्ट चित्रांश सुदर्शन॥ 32 ॥

राशी नखत जो जातक धारे।
धरम करम फल तुमहि अधारे॥

राम कृष्ण गुरूवर गृह जाई।
प्रथम गुरू महिमा गुण गाई॥

श्री गणेश तव बंदन कीना।
कर्म अकर्म तुमहि आधीना॥

देववृत जप तप वृत कीन्हा।
इच्छा मृत्यु परम वर दीन्हा॥ 36 ॥

धर्महीन सौदास कुराजा।
तप तुम्हार बैकुण्ठ विराजा॥

हरि पद दीन्ह धर्म हरि नामा।
कायथ परिजन परम पितामा॥

शुर शुयशमा बन जामाता।
क्षत्रिय विप्र सकल आदाता॥

जय जय चित्रगुप्त गुसांई।
गुरूवर गुरू पद पाय सहाई॥ 40 ॥

जो शत पाठ करइ चालीसा।
जन्ममरण दुःख कटइ कलेसा॥

विनय करैं कुलदीप शुवेशा।
राख पिता सम नेह हमेशा॥

॥ दोहा ॥

ज्ञान कलम, मसि सरस्वती, अंबर है मसिपात्र।
कालचक्र की पुस्तिका, सदा रखे दंडास्त्र॥
पाप पुन्य लेखा करन, धार्यो चित्र स्वरूप।
श्रृष्टिसंतुलन स्वामीसदा, सरग नरक कर भूप॥

॥ इति श्री चित्रगुप्त चालीसा समाप्त॥

 चित्रगुप्त चालीसा

Chitrgupta Chalisa Lyrics in English | जय चित्रगुप्त ज्ञान रत्नाकर

|| Doha ||

Sumir Chitragupta Ish ko, satat navaau sheesh.
Brahma Vishnu Mahesh sah, riniha bhae Jagadish.
Karo kripa karivar vadn, jo Saraswati sahay.
Chitragupt jas vimalyash, vandan gurupad laay.

|| Chaupai ||

Jai Chitragupt gyaan ratnakaar.
Jai Yamesh digant ujaagar.

Aj sahay avataru gusaanee.
Keenuh kaaj Bramh keenaa.

Shristi srijanahit ajman jaancha.
Bhanti-bhanti ke jeevan raacha.

Aj ki rachna maanav sandar.
Maanav mati aj hoi niruttar.

Bhae prakat Chitragupt sahaayee.
Dharmaadharma gun gyaan karaayee.

Raacheu dharam dharam jag maanhee.
Dharam avataar let tum paanhee.

Aham vivekai tumahi vidhaata.
Nij satta paa karahin kughaata.

Shristi santulan ke tum swaami.
Tray devan kar shakti samaanee.

Paap mrityu jag mein tum laaye.
Bhayaka bhoot sakal jag chhaaye.

Mahaakaal ke tum ho saakshi.
Bramhau marn na jaan meenaakshi.

Dharm Krishna tum jag upajaayo.
Karma kshetra gun gyaan karaayo.

Raam dharam hit jag pagu dhaare.
Maanavgun sadgun ati pyaare.

Vishnu chakra par tumahi viraajein.
Paalan dharam karam shuchi saaje.

Mahaadev ke tum tray lochan.
Prerakshiv as Tandav Nartan.

Savitri par kripa niraalee.
Vidyaanidhi maa sab jag aalee.

Rama bhaal par kar ati daaya.
Shreenidhi agam akoot agaaya.

Ooma vich shakti shuchi raachyo.
Jaake bin Shiv shav jag baachyo.

Guru Brihaspati sur pati naathaa.
Jaake karm gahai tav haathaa.

Raavan kans sakal matvaare.
Tav prataap sab sarg siddhaare.

Pratham poojya Ganpati Mahadeva.
Sou karat tumhaari sevaa.

Riddhi siddhi paay dwainaaaree.
Vighn haran shubh kaaj samvaaree.

Vyaas chahi rach ved puraana.
Ganpati lipibadh hitman thaan.

Pothee masi shuchi lekhani deenhaa.
Asavar dey jagat krit keenhaa.

Lekhani masi sah kaagad kora.
Tav prataap aju jagat majhora.

Vidya vinay paraakram bhaaree.
Tum aadhaar jagat aabhaaree.

Dvaadas poot jagat as laaye.
Raashi chakra aadhaar suhaaye.

Jas poota tas raashi rachanaa.
Jyotish ketum janak mahaanaa.

Tithi lagan hora digdarshan.
Chaari asht chitraansh sudarshan.

Raashi nakhat jo jaatak dhaare.
Dharam karam phal tumahi adhaare.

Ram Krishna Guruvrar grih jaaee.
Pratham guruji mahimaa gun gaayee.

Shree Ganesh tav bandan keenaa.
Karm akarm tumahi aadheena.

Devvrit jap tap vrit keenhaa.
Ichha mrityu param var deenhaa.

Dharmahiin saudaas kuraajaa.
Tap tumhaara baikunth viraajaa.

Hari pad deenha dharam Hari naamaa.
Kaayath parijan param pitaamaa.

Shur shuyashma ban jaamaataa.
Kshatriya vipra sakal aadaataa.

Jai jai Chitragupt gusaanee.
Guruvar guru pad paay sahaaee.

Jo shat paath karai chalisa.
Janmamarn dukh katai kalesa.

Vinay karain kuldeep shweshaa.
Raakh pita sam neha hameshaa.

|| Doha ||

Gyaan kalam, masi Saraswati, ambar hai masipaatra.
Kaalachakr ki pustika, sada rakhe dandastra.
Paap punya lekha karan, dhaaryo Chitr swaroop.
Shristi santulan swami sada, sarg narak kar bhup.

|| Iti Shri Chitragupt Chalisa samaapt ||

99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Astrologer