Book A Pandit At Your Doorstep For Marriage Puja Book Now

Aarti Yugal Kishoreki Kije Lyrics: श्रीकृष्ण जी की आरती

99Pandit Ji
Last Updated:February 5, 2024

Book a pandit for Any Puja in a single click

Verified Pandit For Puja At Your Doorstep

99Pandit
Table Of Content

श्रीकृष्ण जी की आरती (Shri Krishna Ji Ki Aarti) का जाप करने से भगवान श्रीकृष्ण अपने भक्तों से बहुत ही प्रसन्न होते है| श्रीकृष्ण जी की आरती (Shri Krishna Ji Ki Aarti) का गान मुख्य रूप से भगवान श्रीकृष्ण के जन्मदिवस अर्थात जन्माष्टमी पर किया जाता है| भगवान श्री कृष्ण इस सम्पूर्ण सृष्टि के रचियता भगवान विष्णु के ही अवतार है| भगवान श्रीकृष्ण की पूजा करने के पश्चात श्रीकृष्ण जी की आरती (Shri Krishna Ji Ki Aarti) का जाप करना अनिवार्य होता है| बिना श्रीकृष्ण जी की आरती (Shri Krishna Ji Ki Aarti) का गान किये भगवान श्रीकृष्ण की पूजा पूर्ण नहीं मानी जाती है| श्रीकृष्ण जी की आरती (Shri Krishna Ji Ki Aarti) का जाप करने से व्यक्ति का मन शांत होता है|

श्रीकृष्ण जी की आरती

इसके आलवा यदि आप ऑनलाइन किसी भी पूजा जैसे सत्यनारायण पूजा (Satyanarayan Puja), सरस्वती पूजा (Saraswati Puja), तथा विवाह पूजा (Marriage Puja) के लिए आप हमारी वेबसाइट 99Pandit की सहायता से ऑनलाइन पंडित बहुत आसानी से बुक कर सकते है|यहाँ बुकिंग प्रक्रिया बहुत ही आसान है| बस आपको “Book a Pandit” विकल्प का चुनाव करना होगा|

आरती युगल किशोर जी की | Shri Krishna Aarti Lyrics in Hindi

|| श्रीकृष्ण जी की आरती ||

आरती युगलकिशोर की कीजै ।
तन मन धन न्योछावर कीजै ॥

गौरश्याम मुख निरखन लीजै ।
हरि का रूप नयन भरि पीजै ॥

रवि शशि कोटि बदन की शोभा ।
ताहि निरखि मेरो मन लोभा ॥

ओढ़े नील पीत पट सारी ।
कुंजबिहारी गिरिवरधारी ॥

फूलन सेज फूल की माला ।
रत्न सिंहासन बैठे नंदलाला ॥

कंचन थार कपूर की बाती ।
हरि आए निर्मल भई छाती ॥

श्री पुरुषोत्तम गिरिवरधारी ।
आरती करें सकल नर नारी ॥

नंदनंदन बृजभान किशोरी ।
परमानंद स्वामी अविचल जोरी ॥

श्रीकृष्ण जी की आरती

Shri Krishna Ji Ki Aarti Lyrics in English | श्रीकृष्ण जी की आरती

|| Shri Krishna Ji Ki Aarti ||

Aarti yugal-kishor ki kijiye,
Tan man dhan nyochhavar kijiye.

Gaurshyam mukh nirkhan lijiye,
Hari ka roop nayan bhari peejiye.

Ravi shashi koti badan ki shobha,
Tahi nirkhi mero man lobha.

Odhe neel peet pat saari,
Kunj-bihari girivar-dhari.

Phoolan sej phool ki mala,
Ratna sinhasan baithe Nandalala.

Kanchan thar kapoor ki baati,
Hari aaye nirmal bhai chaati.

Shri Purushottam Girivar-dhari,
Aarti karein sakal nar-nari.

Nand-nandan brij-bhan kishori,
Paramanand swami avichal jori.

99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Pandit
Book A Astrologer