Order Your Puja Samagri And Get 99Pandit Puja50% Discount Shop Now

Srikalahasti Temple: राहु केतु पूजा समय, बुकिंग की प्रक्रिया तथा टिकट की दर

99Pandit Ji
Last Updated:May 19, 2024

श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) मंदिर आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले में स्थित है| जो कि भगवान शिव का बहुत ही चमत्कारी मंदिर है| इस मंदिर को दक्षिण का कैलाशी या दक्षिण का काशी के नाम से भी जाना जाता है| भगवान शिव का यह अद्भुत मंदिर श्री कालाहस्ती पेन्नार नदी की शाखा तथा साथ ही स्वर्णमुखी नदी के तट पर बना हुआ है|

आपकी जानकारी के लिए यह बता दे कि श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) को राहु केतु मंदिर के नाम से जाना जाता है| इस कारण की वजह से लोग यहां पर राहु केतु ग्रह की शान्ति पूजा करवाने के लिए आते है|

इस श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) में जो शिवलिंग है माना जाता है कि यह शिवलिंग दक्षिण के पंचतत्व लिंगों में से वायु तत्व लिंग है| जिस कारण की वजह से इस शिवलिंग पुजारी के द्वारा भी स्पर्श नहीं किया जाता है|

श्री कालाहस्ती मंदिर

इस मंदिर में ही स्वर्ण पट्ट रखे हुए है, भगवान शिव को चढ़ाएं जाने वाले सभी फूल, मालाएँ तथा फल इसी पर चढ़ाए जाते है| इसके अलावा श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) में एक पिंडी भी उपस्थित है| जिसकी ऊंचाई लगभग 4 फीट तक मानी जाती है| तथा उस पिंडी पर हाथी तथा मकड़ी की आकृति बनी होती है| 

श्री कालाहस्ती का शिखर दक्षिण भारत संस्कृति की शैली से बना हुआ है, जिसके ऊपर सफ़ेद रंग का आवरण बना हुआ है| श्रीकालाहस्ती मंदिर में तीन गोपुरम भी है| इसके अलावा मंदिर कई सारे शिवलिंग के साथ ही भगवान कालहस्तीश्वर तथा देवी ज्ञानप्रसूनअंबा भी मंदिर में विराजमान है|

आपको बता दे कि इस श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) की प्रत्येक साल की आय लगभग 100 करोड़ है| माना जाता है कि इसी स्थान पर अर्जुन को भगवान कालहस्ती के दर्शन हुए थे|

श्री कालाहस्ती मंदिर में राहु  केतु पूजा का समय – Timing of Puja in Srikalahasti Temple

दिन  समय 
सोमवार सुबह 07:30 से 09:बजे तक 
मंगलवार  दोपहर 03:00 बजे से शाम 04:30 बजे तक 
बुधवार  दोपहर 12:00 बजे से 01:30 बजे तक 
गुरुवार  दोपहर 01:30 बजे से 03:00 बजे तक 
शुक्रवार  सुबह 10:30 बजे से दोपहर 12:00 बजे तक 
शनिवार  प्रातः 09:00 बजे से प्रातः 10:30 बजे तक 
रविवार  शाम 04:30 बजे से शाम 06:00 बजे तक

ऐसे तो इस राहु  केतु की पूजा को करने के लिए कोई भी दिन निश्चित नहीं है| आप कभी श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) में जाकर राहु  केतु की शान्ति के लिए पूजा कर सकते है| लेकिन मान्यताओं के अनुसार बताया गया है कि रविवार और गुरुवार का दिन इस मंदिर में पूजा करने के लिए सर्वश्रेष्ठ माना गया है|

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

यदि आपको भी राहु  – केतु की शांति के लिए पूजा करवानी है तो आप 99Pandit की सहायता से आप राहु  – केतु दोष निवारण के लिए पूजा करवा सकते है| 99Pandit  एक ऐसा ऑनलाइन साधन है, जिसकी सहायता से आप हिन्दू धर्म से सम्बंधित किसी भी पूजा या अनुष्ठान के लिए पंडित जी को बुक कर सकते है| 

श्री कालाहस्ती राहु  केतु पूजा हेतु टिकट बुकिंग प्रक्रिया – Ticket Booking Process for Srikalahasti Temple 

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि राहु केतु पूजा के लिए श्री कालाहस्ती में ऑनलाइन टिकट बुक करने के लिए कोई भी सुविधा नहीं है| इसलिए आपको पूजा हेतु टिकट बुक करने के लिए मंदिर में ही जाना होगा और वही से ही आपको टिकट खरीदना पड़ेगा|

आपको सचेत करने के लिए बता दे कि ऐसे कई लोग है आपको धोखा देने के लिए ऑनलाइन टिकट बुक करवाने का दावा करेंगे लेकिन श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) द्वारा कोई भी ऑनलाइन टिकट बुक करवाने की सुविधा नहीं है| आपको टिकट मंदिर के जाकर ही प्राप्त होंगे|

श्री कालाहस्ती मंदिर

जैसे ही आप मंदिर परिसर में प्रवेश करेंगे तो आप देखेंगे कि वहां पर राहु  केतु पूजा के टिकट बेचने के लिये लिए एक विशेष टिकट काउंटर बना रखा है| यहाँ पर पूजा की कीमत सामान्य से हमेशा ही भिन्न होती है| इस पूजा सम्पूर्ण लाभ पाने लिए व्यक्ति जल्दी मंदिर परिसर में आना होता है| इस मंदिर में प्रतिदिन बहुत सारे राहु केतु पूजा करवाने आते है 

  • जिस समय भी आपकी पूजा हो आपको उस समय से 2 घंटे पहले ही पहुंचना चाहिए 
  • इसके पश्चात टिकट काउंटर से टिकट ले लेवे 
  • तथा अब टिकट लेने के बाद आपके कार्यक्रम स्थान की ओर चले जाएं 

श्री कालाहस्ती मंदिर में राहु  केतु पूजा – Rahu Ketu Puja in Srikalahasti Temple

राहु  केतु की शांति के पूजा का आयोजन श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) के परिसर में बहुत सारी जगहों पर किया जाता है| आपकी पूजा के लिए स्थान आपकी टिकट पर ही निर्भर करता है| ज्यादा पैसे तो बढ़िया जगह| राहु  केतु भी पूजा का लाभ जगह पर निर्भर नहीं करता है| वैसे यह राहु  केतु पूजा मुख्य मंदिर के अन्दर और बाहर दोनों स्थानों पर की जाती है|

पूजा के लिए टिकट खरीदने पर ही आपको पूजा से सम्बंधित सभी सामग्री टिकट काउंटर पर ही मिल जाएगी| पूजा की सम्पूर्ण सामग्री राहु  केतु पूजा के टिकट में ही शामिल होती है| यदि आपको वहां से भी सामग्री प्राप्त ना हो तो आपको बता दे की मंदिर परिसर में कई ऐसी दुकानें है जो राहु  केतु पूजा की सामग्री बेचते है तो आप वहां से भी सामग्री प्राप्त कर सकते है|

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

आपकी जानकारी के बता दे कि श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) में हॉल बुक करने के लिए आपको 500 रूपए का टिकट खरीदना होगा| यहाँ की सबसे ख़ास बात यही है कि चाहे इस मंदिर में कितनी भी भीड़ हो, लेकिन आपको राहु केतु पूजा के लिए एक खाली स्थान उपलब्ध करवाया जाएगा| इस मंदिर में पूजा के समय पुजारी जी माइक्रोफोन की सहायता से सभी को निर्देश दिए जाते है|

लोगों को आसानी से समझाने के लिए पुजारी जी के द्वारा सभी भाषाओँ में मंत्रों का उच्चारण किया जाता है| यदि आप किसी कारण वश पूजा की क्रिया में पीछे रह जाते है तो वहां उपस्थित कर्मचारी आपकी पूर्ण रूप से सहायता करते है| इसके अलावा राहु केतु की पूजा सरल ही है तथा इस पूजा को पूर्णकरने के लिए 20 – 25 मिनट का समय लगता है| 

श्री कालाहस्ती मंदिर के द्वारा पूजा सेवाएं , पूजा स्थान तथा समय – Puja Services, Places and Time By Srikalahasti Temple

क्र सं श्री कालाहस्ती पूजा सेवा  टिकट की कीमत  पूजा का स्थान  समय 
1 सुप्रभात सेवा  रू. 50 मंदिर के अन्दर  प्रातः 04:30 बजे – प्रातः 05:00 बजे तक 
2 गौ माता पूजा  रू. 50 मंदिर के अन्दर  प्रातः 05:00 बजे से प्रातः 05:30 बजे तक 
3 अर्चना  रू. 25  मंदिर के अन्दर  प्रातः 6:00 बजे से रात्रि 9:00 बजे तक
4 सहस्त्र नामर्चना रू. 200  मंदिर के अन्दर  प्रातः 6:00 बजे से रात्रि 9:00 बजे तक
5 त्रिसथी अर्चना  रू. 125  ज्ञानप्रसूनम्बिका सन्निधि प्रातः 6:00 बजे से रात्रि 9:00 बजे तक
6 राहु  केतु पूजा  रू. 500  श्री कृष्ण देवराय मंडपम  प्रातः 6:00 बजे से सायं 6:00 बजे तक
7 विशेष काल सर्प दोष निवारण पूजा  रू. 750 ज्ञानम्बिका मंडपम् प्रातः 6:00 बजे से सायं 6:00 बजे तक
8 असीर्वचन राहु  केतु काल सर्प निवारण पूजा  रू. 1500  द्वजस्थंभम (अडाला मंडपम) के पास मंदिर के बाहर  प्रातः 6:00 बजे से सायं 6:00 बजे तक
9 विशेष असीर्वचन राहु  केतु काल सर्प निवारण पूजा  रू. 2500 मंदिर के अन्दर कल्याणोत्सवम मंडपम के पास  प्रातः 6:00 बजे से सायं 6:00 बजे तक

 

श्री कालाहस्ती मंदिर की पौराणिक कथाएँ – Mythological Story of Srikalahasti Temple

इस मंदिर से सम्बंधित एक बहुत ही पौराणिक कथा चली आ रही है| जिसमे बताया गया है कि इस सम्पूर्ण दुनिया के निर्माण के प्रारम्भिक समय में भगवान वायु ने भगवान शंकर को प्रसन्न करने के लिए घोर तपस्या की थी| भगवान वायु देव की तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव उनके समक्ष प्रकट हुए तथा उन्हें तीन वरदान दिए|

जिसमे भगवान शिव ने उन्हें इस सम्पूर्ण जगत में उपस्थित रहने का वरदान दिया तथा उन्हें साम्बा शिव के रूप में कर्पुर लिंगम का नाम बदलने की अनुमति दी| उस समय से ही वायु देव इस सम्पूर्ण जगत का एक महत्वपूर्ण भाग बन चुके है|

श्री कालाहस्ती मंदिर

इसके अलावा भी एक कथा प्रचलित है जिसमे बताया गया है कि एक बार माता पार्वती को भगवान शंकर ने श्राप दे दिया था| जिस वजह से माता पार्वती को अपना दिव्य अवतार त्यागकर मनुष्य रूप में धरती पर रहना पड़ा| इसके पश्चात माता पार्वती ने भगवान शिव के श्राप से मुक्त होने के लिए श्री कालाहस्ती में कई वर्षों तक तपस्या की थी|

माता पार्वती की अटूट तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने माता पार्वती को उनके दिव्य अवतार में पुनः अपना लिया|| जिन्हें हिन्दू धर्म में ज्ञान प्रसूनम्बिका देवी या शिव-ज्ञानम् ज्ञान प्रसूनम्बा के नाम से भी जाना जाता है|

राहु केतु पूजा करवाने के लिए आपको पंडित हमारी वेबसाइट 99Pandit की सहायता से उपलब्ध हो जाएंगे| इस यदि आपको किसी भी विशेष स्थान या शहर में राहु केतु पूजा के लिए अनुभवी पंडित की आवश्यकता है तो हमारी वेबसाइट तथा एप 99Pandit के माध्यम से ऑनलाइन ही पंडित जी को बुक कर सकते है|

राहु केतु पूजा से होने वाले लाभ – Benefits of Rahu Ketu Puja

  • राहु केतु ग्रह की पूजा करने से हमारे जीवन में रिश्तों का संतुलन बनाए रखने के तथा मनुष्यों के बीच में सामंजस्य स्थापित होता है| 
  • राहु  ऐसा ग्रह है जो कि आपको किसी भी क्षेत्र में कामयाबी दिला सकता है| इस ग्रह के प्रभाव से आप किसी शत्रु पर विजय प्राप्त कर सकते है| 
  • राहु और केतु शांति पूजा हमें बुरी नजरों और हमारे आस-पास की नकारात्मक ऊर्जाओं से बचाता है| 
  • केतु आपके अंदर आत्मज्ञान पैदा करने में सहायता करता है जो आपको सच्चे ज्ञान और सम्मान की ओर ले जाता है।
  • ये राहु  केतु पूजा जीवन की समग्र गुणवत्ता को बढाती हैं और सही मार्ग पर ले जाती हैं|
  • राहु केतु की पूजा करवाने से परिवार के सभी सदस्यों का स्वास्थ्य हमेशा ही अच्छा रहता है|

श्री कालाहस्ती मंदिर कैसे पहुंचे? – How to Reach Srikalahasti Temple?

यह भगवान शिव का श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) भारत के आन्ध्रप्रदेश राज्य में स्थित होता है| आंध्रप्रदेश में आने के बाद आपको श्री कालाहस्ती बस स्टैंड पर बहुत सारे निजी साधन मिल जाएंगे| यह बस स्टैंड जहाँ से आपको निजी साधन प्राप्त होंगे, वह मंदिर से लगभग 2 किलोमीटर दूर स्थित है|

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

इसके अलावा यदि आप ट्रेन से जाना चाहते है तो श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) परिसर से रेलवे स्टेशन की दूरी लगभग 3 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है| अगर आप और भी अधिक दूरी पर रहते है तथा फ्लाइट से यहां जाना चाहते है तो मंदिर से सबसे नजदीकी हवाई अड्डा तिरुपति हवाई अड्डा है|

इस हवाई अड्डे से आपको श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) तथा तिरुपति बालाजी मंदिर (Tirupati Balaji Mandir) जाने के लिए निजी साधन जैसे टैक्सी और बस बहुत ही आसानी से मिल जाते है| जिनकी सहायता से आप मंदिर तक आसानी से पहुँच जाते है| 

निष्कर्ष – Conclusion 

आज हमने इस आर्टिकल के माध्यम से श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) तथा वहां पर होने वालीं राहु केतु पूजा के बारें में काफी बाते जानी है| आज हमने राहु केतु पूजन के फ़ायदों के बारे में भी जाना तथा वहां तक जाने के लिए साधनों के बारे में भी बात की|

हम उम्मीद करते है कि हमारे द्वारा बताई गयी जानकारी से आपको कोई ना कोई मदद मिली होगी| इसके अलावा भी अगर आप किसी और पूजा के बारे में जानकारी लेना चाहते है। तो आप हमारी वेबसाइट 99Pandit पर जाकर सभी तरह की पूजा या त्योहारों के बारे में सम्पूर्ण जानकारी ले सकते है| 

अगर आप हिन्दू धर्म से सम्बंधित किसी पूजा जैसे – वाहन पूजन, भूमि पूजन तथा श्री कालाहस्ती मंदिर (Srikalahasti Temple) में होने वाली राहु केतु पूजा के हेतु पंडित जी की तलाश कर रहे है तो आपको बता दे की 99Pandit पंडित बुकिंग की सर्वश्रेष्ठ सेवा है जहाँ आप घर बैठे मुहूर्त के हिसाब से अपना पंडित ऑनलाइन आसानी से बुक कर सकते हो |

यहाँ  बुकिंग प्रक्रिया बहुत ही आसान है| बस आपको Book a Pandit विकल्प का चुनाव करना होगा और अपनी सामान्य जानकारी जैसे कि अपना नाम, मेल, पूजन स्थान , समय,और पूजा का चयन के माध्यम से आप आपना पंडित बुक कर सकेंगे|

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q.तिरुपति में सबसे ख़ास क्या है ?

A.इस मंदिर में भगवान वेंकटेश्वर की प्रतिमा बहुत ही ख़ास और आलोकिक है|

Q.श्रीकालाहस्ती मंदिर में किस भगवान की पूजा की जाती है ?

A.इस मंदिर में भगवान शिव की पूजा की जाती है|

Q.श्रीकालाहस्ती मंदिर में राहु केतु पूजा क्यों प्रसिद्ध है ?

A.ऐसा माना जाता है कि इस पूजा को करने से लोगों को राहु और केतु के ज्योतिषीय प्रभावों से बचाया जा सकता है|

Q.श्री कालाहस्ती का अर्थ क्या है ?

A.यह नाम भगवान शिव के कट्टर भक्तों के नाम पर रखा गया है| जिनमे मकड़ी(श्री), सर्प(काल), और हाथी(हस्ती) शामिल है|

Q.श्री कालाहस्ती मंदिर में पूजा के लिए टिकट कैसे बुक किये जाते है ?

A.राहु केतु पूजा के लिए श्री कालाहस्ती में ऑनलाइन टिकट बुक करने के लिए कोई भी सुविधा नहीं है| इसलिए आपको पूजा हेतु टिकट बुक करने के लिए मंदिर में ही जाना होगा और वही से ही आपको टिकट खरीदना पड़ेगा|

99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Astrologer