Order Your Puja Samagri And Get 99Pandit Puja50% Discount Shop Now

Ganga Mata ki Aarti Lyrics: श्री गंगा मैय्या जी की आरती

99Pandit Ji
Last Updated:May 17, 2024

गंगा मैय्या जी की आरती (Ganga Mata ki Aarti) का जाप गंगा माता की प्रार्थना करने के लिए किया जाता है| हिन्दू धर्म में गंगा नदी को सबसे पवित्र नदी माना जाता है| भक्तों के द्वारा गंगा मैय्या को प्रसन्न करने के लिए उनकी पूजा की जाती है एवं गंगा मैय्या जी की आरती (Ganga Mata ki Aarti) का जाप किया जाता है| कहा जाता है कि जो भी व्यक्ति गंगा नदी में स्नान करने से मनुष्य के समस्त पाप नष्ट हो जाते है| तो आइये जानते है गंगा मैय्या की आरती के लिरिक्स|

गंगा मैय्या जी की आरती

इसी के साथ यदि आप हनुमान चालीसा [Hanuman Chalisa], बजरंग बाण [Bajrang Baan Lyrics], या शिव जी की आरती [Om Jai Shiv Omkara Lyrics] आदि भिन्न-भिन्न प्रकार की आरतियाँ, चालीसा व व्रत कथा पढना चाहते है तो आप हमारी वेबसाइट 99Pandit पर विजिट कर सकते है|

इसके अलावा आप हमारे एप 99Pandit For Users पर भी आरतियाँ व अन्य कथाओं को पढ़ सकते है| इस एप में भगवद गीता के सभी अध्यायों को हिंदी अर्थ समझाया गया है|

गंगा मैय्या जी की आरती हिंदी में – Ganga Mata ki Aarti Lyrics in Hindi

|| गंगा मैय्या जी की आरती ||

नमामि गंगे ! तव पाद पंकजम्,
सुरासुरैः वंदित दिव्य रूपम् ।
भक्तिम् मुक्तिं च ददासि नित्यं,
भावानुसारेण सदा नराणाम् ॥

हर हर गंगे, जय माँ गंगे,
हर हर गंगे, जय माँ गंगे ॥

ॐ जय गंगे माता,
श्री जय गंगे माता ।
जो नर तुमको ध्याता,
मनवांछित फल पाता ॥

चंद्र सी जोत तुम्हारी,
जल निर्मल आता ।
शरण पडें जो तेरी,
सो नर तर जाता ॥
॥ ॐ जय गंगे माता..॥

पुत्र सगर के तारे,
सब जग को ज्ञाता ।
कृपा दृष्टि तुम्हारी,
त्रिभुवन सुख दाता ॥
॥ ॐ जय गंगे माता..॥

एक ही बार जो तेरी,
शारणागति आता ।
यम की त्रास मिटा कर,
परमगति पाता ॥
॥ ॐ जय गंगे माता..॥

आरती मात तुम्हारी,
जो जन नित्य गाता ।
दास वही सहज में,
मुक्त्ति को पाता ॥
॥ ॐ जय गंगे माता..॥

ॐ जय गंगे माता,
श्री जय गंगे माता ।
जो नर तुमको ध्याता,
मनवांछित फल पाता ॥

ॐ जय गंगे माता,
श्री जय गंगे माता ।

गंगा मैय्या जी की आरती

Ganga Mata ki Aarti Lyrics in English – ॐ जय गंगे माता

|| Ganga Mata ki Aarti ||

Har Har Gange, Jai Maa Gange,
Har Har Gange, Jai Maa Gange.

Om Jai Gange Maata,
Shri Jai Gange Maata.
Jo nar tumko dhyaata,
Manvaanchhit phal paata.

Chandr si jyot tumhaari,
Jal nirmal aata.
Sharan paden jo teri,
So nar tar jaata.
Om Jai Gange Maata…

Putra Sagar ke taare,
Sab jag ko gyaata.
Kripa drishti tumhaari,
Tribhuvan sukh daata.
Om Jai Gange Maata…

Ek hi baar jo teri,
Sharanagati aata.
Yam ki traas mita kar,
Parmagati paata.
Om Jai Gange Maata…

Aarti Maa tumhaari,
Jo jan nitya gaata.
Daas wahi sahaj mein,
Mukti ko paata.
Om Jai Gange Maata…

Om Jai Gange Maata,
Shri Jai Gange Maata.
Jo nar tumko dhyaata,
Manvaanchhit phal paata.

Om Jai Gange Maata,
Shri Jai Gange Maata.

99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Astrologer