Book A Pandit At Your Doorstep For 99Pandit PujaSatyanarayan Puja Book Now

Shree Kuber Aarti: कुबेर जी की आरती

99Pandit Ji
Last Updated:November 11, 2023

Book a pandit for Kuber Puja in a single click

Verified Pandit For Puja At Your Doorstep

99Pandit

इस कुबेर जी की आरती [Kuber Ji Ki Aarti] पाठ का जाप भगवान कुबेर को प्रसन्न करता है| साथ ही धन को आकर्षित करने तथा वित्तीय कठिनाइयों को दूर करने के लिए भी किया जाता है| ऐसा माना जाता है कि इस कुबेर जी की आरती [Kuber Ji Ki Aarti] का जाप करने से भगवान कुबेर प्रसन्न होते है तथा इसके बदले वह अपना आशीर्वाद भक्तों को प्रदान करते है| जिससे भक्तों को धन संबंधी सभी परेशानियों से मुक्ति मिलती है| कुबेर जी की आरती [Kuber Ji Ki Aarti] का नियमित रूप से जाप करने से व्यक्ति की सभी इच्छाएं पूर्ण होती है|

कुबेर जी की आरती

कुबेर जी की आरती [Kuber Ji Ki Aarti] का पाठ धन के देवता भगवान कुबेर जी को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है| इस कुबेर जी की आरती [Kuber Ji Ki Aarti] का पाठ स्वयं को भगवान के चरणों में समर्पित करके करने से भक्त को धन से संबंधित सभी समस्याओं से राहत मिलती है| इस आरती का जाप भगवान कुबेर जी की पूजा तथा कुबेर चालीसा पाठ के पश्चात करना बहुत ही शुभ माना जाता है| कुबेर जी की आरती [Kuber Ji Ki Aarti] का नियमित रूप से जाप करने से भगवान कुबेर जी की असीम कृपा प्राप्त होती है|

इसके आलवा यदि आप ऑनलाइन किसी भी पूजा जैसे धनतेरस पूजा (Dhanteras Puja), महालक्ष्मी पूजा (Mahalakshmi Puja), तथा दिवाली पूजा (Diwali Puja) के लिए आप हमारी वेबसाइट 99Pandit की सहायता से ऑनलाइन पंडित बहुत आसानी से बुक कर सकते है| इसी के साथ हमसे जुड़ने के लिए आप हमारे Whatsapp Channel – “Hindu Temples, Puja and Rituals” को भी Follow कर सकते है|

कुबेर जी की आरती | Shri Kuber Aarti Lyrics In Hindi

|| श्री कुबेर आरती ||

ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे,
स्वामी जै यक्ष जै यक्ष कुबेर हरे ।
शरण पड़े भगतों के,
भण्डार कुबेर भरे ।
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

शिव भक्तों में भक्त कुबेर बड़े,
स्वामी भक्त कुबेर बड़े ।
दैत्य दानव मानव से,
कई-कई युद्ध लड़े ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

स्वर्ण सिंहासन बैठे,
सिर पर छत्र फिरे,
स्वामी सिर पर छत्र फिरे ।
योगिनी मंगल गावैं,
सब जय जय कार करैं ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

गदा त्रिशूल हाथ में,
शस्त्र बहुत धरे,
स्वामी शस्त्र बहुत धरे ।
दुख भय संकट मोचन,
धनुष टंकार करें ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

भांति भांति के व्यंजन बहुत बने,
स्वामी व्यंजन बहुत बने ।
मोहन भोग लगावैं,
साथ में उड़द चने ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

बल बुद्धि विद्या दाता,
हम तेरी शरण पड़े,
स्वामी हम तेरी शरण पड़े ।
अपने भक्त जनों के,
सारे काम संवारे ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

मुकुट मणी की शोभा,
मोतियन हार गले,
स्वामी मोतियन हार गले ।
अगर कपूर की बाती,
घी की जोत जले ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

यक्ष कुबेर जी की आरती,
जो कोई नर गावे,
स्वामी जो कोई नर गावे ।
कहत प्रेमपाल स्वामी,
मनवांछित फल पावे ॥
॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

कुबेर जी की आरती

Kuber Ji Ki Aarti Lyrics In English | ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे

|| Shri Kuber Aarti ||

Om Jai Yaksha Kubera Hare,
Swami Jai Yaksha Jai Yaksha Kubera Hare.
Sharan Pade Bhakton Ke,
Bhandar Kubera Bhare.
॥ Om Jai Yaksha Kubera Hare…॥

Shiv Bhakton Mein Bhakt Kubera Bade,
Swami Bhakt Kubera Bade.
Daitya Danav Manav Se,
Kai-Kai Yudh Lade.
॥ Om Jai Yaksha Kubera Hare…॥

Swarn Sinhasan Baitha,
Sir Par Chatra Phire,
Swami Sir Par Chatra Phire.
Yogini Mangal Gaavain,
Sab Jay Jaykaar Karain.
॥ Om Jai Yaksha Kubera Hare…॥

Gada Trishul Haath Mein,
Shastra Bahut Dhare,
Swami Shastra Bahut Dhare.
Dukh Bhay Sankat Mochan,
Dhanush Tankar Karen.
॥ Om Jai Yaksha Kubera Hare…॥

Bhanti Bhanti Ke Vyanjan Bahut Bane,
Swami Vyanjan Bahut Bane.
Mohan Bhog Lagaavain,
Saath Mein Udad Chane.
॥ Om Jai Yaksha Kubera Hare…॥

Bal Buddhi Vidya Data,
Ham Teri Sharan Pade,
Swami Ham Teri Sharan Pade.
Apne Bhakt Janon Ke,
Saare Kaam Sanvare.
॥ Om Jai Yaksha Kubera Hare…॥

Mukut Mani Ki Shobha,
Motiyan Haar Gale,
Swami Motiyan Haar Gale.
Agar Kapur Ki Baati,
Ghee Ki Jyot Jale.
॥ Om Jai Yaksha Kubera Hare…॥

Yaksha Kubera Ji Ki Aarti,
Jo Koi Nar Gaave,
Swami Jo Koi Nar Gaave.
Kahat Premapal Swami,
Manvaanchhit Phal Paave.
॥ Om Jai Yaksha Kubera Hare…॥

99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Astrologer