Order Your Puja Samagri And Get 99Pandit Puja50% Discount Shop Now

Annapurna Mata Aarti Lyrics : अन्नपूर्णा आरती

99Pandit Ji
Last Updated:December 6, 2023

अन्नपूर्णा आरती हिन्दू धर्म की ही एक मान्य देवी अन्नपूर्णा देवी को प्रसन्न करने के लिए की जाती है| यह माता अन्नपूर्णा माँ जगदम्बा का ही रूप मानी जाती है| हिन्दू धर्म में यह मान्यता है कि माता जगदम्बा के रूप (अन्नपूर्णा माता) के कारण ही इस सम्पूर्ण सृष्टि का भरण पोषण होता है| अन्नपूर्णा शब्द का अर्थ है – अन्न की अधिष्ठात्री देवी यानी अन्न प्रदान करने वाली| माना जाता है कि जो भी व्यक्ति अन्नपूर्णा आरती का पूर्ण भक्ति भाव से जाप करता है| उस व्यक्ति पर हमेशा ही माता अन्नपूर्णा की कृपा बना रहती है| तो आइये जानते है माँ अन्नपूर्णा आरती के लिरिक्स के बारे में|

अन्नपूर्णा आरती

इसके आलवा यदि आप ऑनलाइन किसी भी पूजा जैसे गृह प्रवेश पूजा (Griha Pravesh Puja), रुद्राभिषेक पूजा (Rudrabhishek Puja), तथा ऑफिस उद्घाटन पूजा (Office Opening Puja) के लिए आप हमारी वेबसाइट 99Pandit की सहायता से ऑनलाइन पंडित बहुत आसानी से बुक कर सकते है| इसी के साथ हमसे जुड़ने के लिए आप हमसे WhatsApp पर भी संपर्क कर सकते है|

माँ अन्नपूर्णा आरती लिरिक्स | Annapurna Mata Aarti Lyrics In Hindi

|| अन्नपूर्णा आरती ||

बारम्बार प्रणाम,
मैया बारम्बार प्रणाम ।

जो नहीं ध्यावे तुम्हें अम्बिके,
कहां उसे विश्राम ।
अन्नपूर्णा देवी नाम तिहारो,
लेत होत सब काम ॥

बारम्बार प्रणाम,
मैया बारम्बार प्रणाम ।

प्रलय युगान्तर और जन्मान्तर,
कालान्तर तक नाम ।
सुर सुरों की रचना करती,
कहाँ कृष्ण कहाँ राम ॥

बारम्बार प्रणाम,
मैया बारम्बार प्रणाम ।

चूमहि चरण चतुर चतुरानन,
चारु चक्रधर श्याम ।
चंद्रचूड़ चन्द्रानन चाकर,
शोभा लखहि ललाम ॥

बारम्बार प्रणाम,
मैया बारम्बार प्रणाम ।

देवि देव! दयनीय दशा में,
दया-दया तब नाम ।
त्राहि-त्राहि शरणागत वत्सल,
शरण रूप तब धाम ॥

बारम्बार प्रणाम,
मैया बारम्बार प्रणाम ।

श्रीं, ह्रीं श्रद्धा श्री ऐ विद्या,
श्री क्लीं कमला काम ।
कांति, भ्रांतिमयी, कांति शांतिमयी,
वर दे तू निष्काम ॥

बारम्बार प्रणाम,
मैया बारम्बार प्रणाम ।

॥ माता अन्नपूर्णा की जय ॥

अन्नपूर्णा आरती

Annapurna Aarti Lyrics In English | बारम्बार प्रणाम

|| Annapurna Aarti ||

Baaram baaram pranam,
Maiya baaram baaram pranam.

Jo nahi Dhyaave tumhe Ambike,
Kahaan use vishram.
Annapurna Devi naam tiharo,
Let hot sab kaam.

Baaram baaram pranam
Maiya baaram baaram pranam.

Pralay yugaantar aur janmaantar,
Kaalantar tak naam.
Sur suro ki rachna karti,
Kahaan Krishna kahaan Ram.

Baaram Baaram pranam
Maiya baaram baaram pranam.

Chumahi charan chatur chaturaanan,
Charu chakradhar shyam.
Chandrachood chandraanan chakar,
Shobha lakhahi lalaam.

Baaram Baaram pranam
Maiya baaram baaram pranam.

Devi Dev! Dayaniya dasha mein,
Daya-daya tab naam.
Trahitrahi sharanagat vatsal,
Sharan roop tab dhaam.

Baaram Baaram pranam
Maiya baaram baaram pranam.

Shreem, Hreem Shradhaa Shree A Vidya,
Shree Kleem Kamala Kaam.
Kaanti, Bhraantimayi, Kaanti Shaantimayi,
Var de tu nishkaam.

Baaram Baaram pranam
Maiya baaram baaram pranam.

|| Mata Annapurna ki jai ||

99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Astrologer