Book A Pandit At Your Doorstep For Marriage Puja Book Now

Shri Badrinath Ji Ki Aarti Lyrics: श्री बद्रीनाथ जी की आरती

99Pandit Ji
Last Updated:February 10, 2024

Book a pandit for Any Puja in a single click

Verified Pandit For Puja At Your Doorstep

99Pandit
Table Of Content

श्री बद्रीनाथ जी की आरती (Badrinath Ji Ki Aarti) बद्री नारायण रूपी भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए की जाती है| भगवान बद्रीनाथ जी भक्त वत्सल है तथा उनकी महिमा भी अपार है| माना जाता है कि भगवान बद्रीनाथ जी आरती का गान करने से सभी कष्ट दूर होते है तथा भगवान बद्रीनाथ जी की कृपा भी प्राप्त की जाती है| बद्रिकाश्रम में भगवान बद्रीनाथ जी इस सम्पूर्ण जगत के कल्याण के विराजमान है| आज इस लेख के माध्यम से हम आपको श्री बद्रीनाथ जी की आरती (Badrinath Ji Ki Aarti) के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देंगे|

बद्रीनाथ जी की आरती

99Pandit की सहायता से आप गृह प्रवेश पूजा (Griha Pravesh Puja), सरस्वती पूजा (Saraswati Puja) व कई अन्य प्रकार की पूजा के लिए पंडितजी बुक कर सकते है| इसके द्वारा के द्वारा आप अपनी सुविधा अनुसार किसी भी पूजा के लिए ऑनलाइन पंडितजी को बुक कर सकते है| 99Pandit आपकी पूजा के अनुसार ही शुभ मुहूर्त व तिथि के अनुसार अनुभवी पंडितजी से आपको जोड़ता है| आप हमसे Whatsapp के माध्यम से भी जानकारी प्राप्त कर सकते है|

श्री बद्रीनाथ जी की आरती लिरिक्स हिंदी में | Badrinath Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi

|| बद्रीनाथ जी की आरती ||

पवन मंद सुगंध शीतल,
हेम मंदिर शोभितम् ।
निकट गंगा बहत निर्मल,
श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥

शेष सुमिरन करत निशदिन,
धरत ध्यान महेश्वरम् ।
वेद ब्रह्मा करत स्तुति,
श्री बद्रीनाथ विश्वम्भरम् ॥
॥ पवन मंद सुगंध शीतल…॥

शक्ति गौरी गणेश शारद,
नारद मुनि उच्चारणम् ।
जोग ध्यान अपार लीला,
श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥
॥ पवन मंद सुगंध शीतल…॥

इंद्र चंद्र कुबेर धुनि कर,
धूप दीप प्रकाशितम् ।
सिद्ध मुनिजन करत जय जय,
बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥
॥ पवन मंद सुगंध शीतल…॥

यक्ष किन्नर करत कौतुक,
ज्ञान गंधर्व प्रकाशितम् ।
श्री लक्ष्मी कमला चंवरडोल,
श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥
॥ पवन मंद सुगंध शीतल…॥

कैलाश में एक देव निरंजन,
शैल शिखर महेश्वरम् ।
राजयुधिष्ठिर करत स्तुति,
श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥
॥ पवन मंद सुगंध शीतल…॥

श्री बद्रजी के पंच रत्न,
पढ्त पाप विनाशनम् ।
कोटि तीर्थ भवेत पुण्य,
प्राप्यते फलदायकम् ॥
॥ पवन मंद सुगंध शीतल…॥

पवन मंद सुगंध शीतल,
हेम मंदिर शोभितम् ।
निकट गंगा बहत निर्मल,
श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥

बद्रीनाथ जी की आरती

Badrinath Ji Ki Aarti Lyrics in English | श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम्

|| Badrinath Ji Ki Aarti ||

Pawan mand sugandh shital,
Hem mandir shobhitam.
Nikat Ganga baht nirmal,
Shri Badrinath Vishvam bharam.

Shesh Sumiran Karat Nishadin,
Dharat dhyan Maheshwaram.
Ved Brahma karat stuti,
Shri Badrinath Vishvambharam.
Pawan mand sugandh shital…

Shakti Gauri Ganesh Sharad,
Narad muni ucharanam.
Jog dhyan apar leela,
Shri Badrinath Vishvambharam.
Pawan mand sugandh shital…

Indra Chandra Kubera dhuni kar,
Dhoop deep prakashitam.
Siddh munijan karat jay jay,
Badrinath Vishvambharam.
Pawan mand sugandh shital…

Yaksh kinnar karat kautuk,
Gyan Gandharv prakashitam.
Shri Lakshmi Kamala chavardol,
Shri Badrinath Vishvambharam.
Pawan mand sugandh shital…

Kailash mein ek dev niranjana,
Shail shikhar Maheshwaram.
Rajyudhishthir karat stuti,
Shri Badrinath Vishvambharam.
Pawan mand sugandh shital…

Shri Badraji ke panch ratna,
Padht pap vinashanam.
Koti tirth bhavet punya,
Prapyate phaladayakam.
Pawan mand sugandh shital…

Pawan mand sugandh shital,
Hem mandir shobhitam.
Nikat Ganga baht nirmal,
Shri Badrinath Vishvambharam.

99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Pandit
Book A Astrologer