Order Your Puja Samagri And Get 99Pandit Puja50% Discount Shop Now

Jai Jai Shree Baglamukhi Mata Aarti Lyrics: बगलामुखी आरती लिरिक्स

99Pandit Ji
Last Updated:February 12, 2024

बगलामुखी माता जी की आरती को प्रसन्न करने के लिए बगलामुखी आरती (Baglamukhi Aarti) का जाप किया जाता है| बगलामुखी माता हिन्दू धर्म में पूजनीय देवीयों में से ही एक है| माता के सभी भक्त उन्हें प्रसन्न करने के लिए बगलामुखी आरती (Baglamukhi Aarti) का गान करते है| बगलामुखी देवी को युद्ध की देवी के रूप में भी जाना जाता है| इस वजह से मुख्यतः बगलामुखी माता की पूजा तंत्र-मंत्र की विद्या के लिए की जाती है| माना जाता है कि जो भी व्यक्ति बगलामुखी आरती (Baglamukhi Aarti) का जाप सच्चे मन से करता है तो देवी माँ उनके जीवन में किसी भी प्रकार की परेशानियाँ नहीं आने देती है तो आइये जानते है बगलामुखी आरती (Baglamukhi Aarti) के लिरिक्स|

बगलामुखी आरती

इसके आलवा यदि आप ऑनलाइन किसी भी पूजा जैसे सरस्वती पूजा (Saraswati Puja), विवाह पूजा (Marriage Puja), तथा ऑफिस उद्घाटन पूजा (Office Opening Puja) के लिए आप हमारी वेबसाइट 99Pandit की सहायता से ऑनलाइन पंडित बहुत आसानी से बुक कर सकते है| इसी के साथ हमसे जुड़ने के लिए आप हमारे Whatsapp पर भी हमसे संपर्क कर सकते है|

बगलामुखी आरती लिरिक्स हिंदी में | Baglamukhi Aarti Lyrics in Hindi

|| बगलामुखी आरती ||

जय जय श्री बगलामुखी माता,
आरती करहूँ तुम्हारी |

जय जय श्री बगलामुखी माता,
आरती करहूँ तुम्हारी |

पीत वसन तन पर तव सोहै,
कुण्डल की छबि न्यारी |

कर कमलों में मुद्गर धारै,
अस्तुति करहिं सकल नर नारी |

जय जय श्री बगलामुखी माता …………

चम्पक माल गले लहरावे,
सुर नर मुनि जय जयति उचारी |

जय जय श्री बगलामुखी माता ……………

त्रिविध ताप मिटि जात सकल सब,
भक्ति सदा तव है सुखकारी |

जय जय श्री बगलामुखी माता …………….

पालन हरत सृजत तुम जग को,
सब जीवन की हो रखवारी ||

जय जय श्री बगलामुखी माता ………..

मोह निशा में भ्रमत सकल जन,
करहु ह्रदय महँ, तुम उजियारी ||

जय जय श्री बगलामुखी माता ………..

तिमिर नशावहू ज्ञान बढ़ावहु,
अम्बे तुमही हो असुरारी |

जय जय श्री बगलामुखी माता ………..

सन्तन को सुख देत सदा ही,
सब जन की तुम प्राण प्यारी ||

जय जय श्री बगलामुखी माता ……….

तव चरणन जो ध्यान लगावै,
ताको हो सब भव – भयहारी |

जय जय श्री बगलामुखी माता ………..

प्रेम सहित जो करहिं आरती,
ते नर मोक्षधाम अधिकारी ||

जय जय श्री बगलामुखी माता ………….

|| दोहा ||

बगलामुखी की आरती, पढ़ै सुनै जो कोय |
विनती कुलपति मिश्र की, सुख सम्पति सब होय ||

बगलामुखी आरती

Baglamukhi Aarti Lyrics in English | जय जय श्री बगलामुखी माता

|| Baglamukhi Aarti ||

Jai Jai Shri Baglamukhi Mata,
Aarti karhu tumhari |

Jai Jai Shri Baglamukhi Mata,
Aarti karhu tumhari |

Peet vasan tan par tav sohai,
Kundal ki chhavi nyari |

Kar kamalon mein mudgar dhare,
Astuti karhin sakal nar nari |

Jai Jai Shri Baglamukhi Mata …………

Champak maal gale leharave,
Sur nar muni jai jayati uchhari |

Jai Jai Shri Baglamukhi Mata ……………

Trividh taap miti jaat sakal sab,
Bhakti sada tav hai sukhakaari |

Jai Jai Shri Baglamukhi Mata …………….

Palan harat srijat tum jag ko,
Sab jeevan ki ho rakhwaari ||

Jai Jai Shri Baglamukhi Mata ………..

Moh nisha mein bhramat sakal jan,
Karhu hridaya mah, tum ujiyaari ||

Jai Jai Shri Baglamukhi Mata ………..

Timir nashaavahu gyaan badhaavahu,
Ambe tumhi ho asuraari |

Jai Jai Shri Baglamukhi Mata ………..

Santan ko sukh det sada hi,
Sab jan ki tum praan pyaari ||

Jai Jai Shri Baglamukhi Mata ……….

Tav charanan jo dhyaan lagaavai,
Taako ho sab bhav – bhayahari |

Jai Jai Shri Baglamukhi Mata ………..

Prem sahit jo karhin aarti,
Te nar mokshadhaam adhikaari ||

Jai Jai Shri Baglamukhi Mata ………….

|| Doha ||

Baglamukhi ki aarti, padhai sunai jo koy |
Vinati kulpati Mishra ki, sukh sampati sab hoy ||

99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Astrologer