Order Your Puja Samagri And Get 99Pandit Puja50% Discount Shop Now

Bhairav Ji Ki Aarti Lyrics: श्री भैरव जी की आरती

99Pandit Ji
Last Updated:June 5, 2024

भगवान भैरवनाथ जी को प्रसन्न करने के लिए इस भैरव जी की आरती (Bhairav Ji Ki Aarti) का जाप किया जाता है| आपको बता दे कि श्री काल भैरव को भगवान शंकर का ही अवतार माना जाता है एवं पूर्ण श्रद्धा से भैरव जी की आरती (Bhairav Ji Ki Aarti) जाप करने से भगवान काल भैरव अपने भक्तों से बहुत ही प्रसन्न होते है|

मार्गशीर्ष महीने के कृष्ण पक्ष में आने वाली अष्टमी तिथि को भैरव जयंती का त्यौहार मनाया जाता है| इस शुभ अवसर पर भैरव जी की आरती (Bhairav Ji Ki Aarti) का जाप करना जातकों के लिए बहुत ही लाभदायक माना जाता है| तो आइए जाप करते है भैरव जी की आरती का|

भैरव जी की आरती

इसी के साथ यदि आप लिंगाष्टकम मंत्र [Lingashtakam Lyrics], खाटू श्याम जी की आरती [Khatu Shyam Aarti Lyrics], या बजरंग बाण [Bajrang Baan Lyrics] आदि भिन्न-भिन्न प्रकार की आरतियाँ, चालीसा व व्रत कथा पढना चाहते है तो आप हमारी वेबसाइट 99Pandit पर विजिट कर सकते है|

इसके अलावा आप हमारे एप 99Pandit For Users पर भी आरतियाँ व अन्य कथाओं को पढ़ सकते है| इस एप में भगवद गीता के सभी अध्यायों को हिंदी अर्थ समझाया गया है|

काल भैरव जी की आरती हिंदी में – Bhairav Ji Ki Aarti in Hindi

|| काल भैरव जी की आरती ||

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।
जय काली और गौर देवी कृत सेवा ॥
॥ जय भैरव देवा…॥

तुम्ही पाप उद्धारक दुःख सिन्धु तारक ।
भक्तो के सुख कारक भीषण वपु धारक ॥
॥ जय भैरव देवा…॥

वाहन श्वान विराजत कर त्रिशूल धारी ।
महिमा अमित तुम्हारी जय जय भयहारी ॥
॥ जय भैरव देवा…॥

तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होवे ।
चौमुख दीपक दर्शन दुःख खोवे ॥
॥ जय भैरव देवा…॥

तेल चटकी दधि मिश्रित भाषावाली तेरी ।
कृपा कीजिये भैरव, करिए नहीं देरी ॥
॥ जय भैरव देवा…॥

पाँव घुँघरू बाजत अरु डमरू दम्कावत ।
बटुकनाथ बन बालक जल मन हरषावत ॥
॥ जय भैरव देवा…॥

बटुकनाथ जी की आरती जो कोई नर गावे ।
कहे धरनी धर नर मनवांछित फल पावे ॥
॥ जय भैरव देवा…॥

भैरव जी की आरती

Bhairav Ji Ki Aarti Lyrics in English – जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा

|| Bhairav Ji Ki Aarti ||

Jai Bhairav Deva, Prabhu Jai Bhairav Deva.
Jai Kali aur Gaur Devi krit seva.
Jai Bhairav Deva…

Tumhi paap uddharak, dukh sindhu taarak.
Bhakto ke sukh kaarak, bheeshan vapu dhaarak.
Jai Bhairav Deva…

Vahan shwaan viraajat, kar trishool dhaari.
Mahima amit tumhaari, Jai Jai Bhayahari.
Jai Bhairav Deva…

Tum bin deva seva, safal nahi hove.
Chaumukh deepak darshan, Dukh khove.
Jai Bhairav Deva…

Tel Chataki Dadhi Mishrit Bhashavali teri.
Kripa kijiye Bhairav, kariye nahi deri.
Jai Bhairav Deva…

Paanv ghungroo bajat, aru damru damkavat.
Batuknath ban balak, jal man harshavat.
Jai Bhairav Deva…

Batuknath ji ki aarti jo koi nar gaave.
Kahe dharni dhar nar, manvaanchhit fal paave.
Jai Bhairav Deva…

99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Astrologer