Book A Pandit At Your Doorstep For 99Pandit PujaSatyanarayan Puja Book Now

Dhanteras 2024: जाने धनतेरस 2024 का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

99Pandit Ji
Last Updated:March 5, 2024

Book a pandit for Dhanteras Puja in a single click

Verified Pandit For Puja At Your Doorstep

99Pandit

Dhanteras 2024: दीपावली के एक या फिर दो दिन पहले धनतेरस 2024 का त्यौहार मनाया जाता है| हिन्दू धर्म में पाँच दिन के इस दीप पर्व की जो शुरुआत है वो धनतेरस से ही होती है| धनतेरस 2024 के त्यौहार को धनत्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है| हिन्दू धर्म के लोगों के लिए कुछ भी नया सामान खरीदने के लिए इस त्यौहार का मुहूर्त बहुत ही शुभ माना जाता है| धनतेरस या धन त्रयोदशी का त्यौहार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है| धनतेरस 2024 (Dhanteras 2024)को पांच दिवसीय दिवाली त्योहार का पहला दिन माना जाता है| यह त्यौहार सम्पूर्ण भारत देश में बहुत ही उत्साह और धूमधाम से मनाया जाता है| 

धनतेरस 2024

धनतेरस 2024 के दिन माता लक्ष्मी, भगवान गणेश और भगवान कुबेर जी की पूजा की जाती है| धनतेरस के दिन माता लक्ष्मी और कुबेर जी की पूजा करने से वित्तीय समृद्धि में बढ़ावा होता है| तथा उस व्यक्ति को कभी भी, किसी भी तरह की आर्थिक परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है| हिन्दू धर्म के लोग इस दिन को अच्छा भाग्य मानकर ही धनतेरस 2024 के दिन सोने व चांदी की वस्तुएं खरीदते है| पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन सोने व चांदी तथा अन्य किसी प्रकार की नयी वस्तु लेने से घर में सुख और समृद्धि में बढ़ोतरी होती है|

महान ज्योतिषियों के अनुसार धनतेरस 2024 पर ग्रहों की स्थिति बड़े समय के लिए फाइनेंस स्कीम और कोई भी सम्पति को खरीदने के बहुत ही शुभ मानी गयी है| इस वर्ष धनतेरस 2024 का त्योहार 29 अक्टूबर 2024 को मनाया जाएगा| तथा इसके 2 दिन बाद ही दिवाली (दीपावली) का पावन त्यौहार मनाया जाएगा| घर, गाडी, सोना – चांदी जैसी महत्वपूर्ण और कीमती वस्तुएं खरीदने के लिए धनतेरस 2024 का दिन बहुत ही शुभ माना जाता है| 

धनतेरस शुभ मुहूर्त व तिथि – Dhanteras 2024 Shubh Muhurat and Date

किसी भी त्यौहार को अच्छे से व सम्पूर्ण रीति रिवाजों के साथ मनाने से त्यौहार की तिथि और उसके उचित मुहूर्त के बारे में जानना भी बहुत आवश्यक है| यदि हम बात करें धनतेरस या धन त्रयोदशी के त्यौहार की तो इस दिन खरीदारी के लिए भी शुभ मुहूर्त के बारे में जानना भी आवश्यक है|

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

इस वर्ष धनतेरस 2024 का त्यौहार 29 अक्टूबर 2024 को मनाया जाएगा| तथा इसके 2 दिन बाद ही दिवाली (दीपावली) का पावन त्यौहार मनाया जाएगा| इसके अलावा धनतेरस या धन त्रयोदशी का त्यौहार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है|

धनतेरस 2024 का शुभ मुहूर्त – Dhanteras 2024 Shubh Muhurat

29 अक्टूबर 2024 प्रातः 10:31 बजे से
30 अक्टूबर 2024, दोपहर 01:15 बजे तक 

पूजा का शुभ मुहूर्त – 

शाम 06:31 बजे से
रात 08:31 बजे तक 

खरीदारी के लिए शुभ मुहूर्त

शाम 05:38 बजे से
रात 08:13 बजे तक 

धनतेरस क्या है – What is Dhanteras 2024

दीपावली के त्यौहार से पहले धनतेरस 2024 की पूजा का बहुत ही बड़ा महत्व माना गया है| इस दिन भगवान गणेश जी, माता लक्ष्मी जी और धन के देवता कुबेर भगवान की पूजा की जाती है| धनतेरस शब्द का अर्थ यह है कि इस दिन अपने धन को तेरह गुना बनाने और धन में वृद्धि करने के लिए लोग माता लक्ष्मी, भगवान गणेश तथा कुबेर जी की पूजा करते है| माना जाता है इस दिन भगवान धन्वंतरि का भी जन्म हुआ था| जो कि समुद्र मंथन के समय अमृत का कलश तथा आयुर्वेद भी साथ ही लेकर प्रकट हुए थे|

धनतेरस 2024

यही कारण है कि भगवान धन्वंतरि को औषधियों के जनक के रूप में भी जाना जाता है| धनतेरस 2024 का त्योहार प्रत्येक वर्ष कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है| इस दिन सोने व चांदी के बर्तन खरीदना बहुत ही शुभ माना जाता है| साथ ही इस दिन धातु खरीदना भी बहुत अच्छा माना गया है| धनतेरस 2024 में धन का अर्थ समृद्धि और तेरस का अर्थ तेरह से होता है|

इस दिन माँ लक्ष्मी की पूजा करने से सुख – समृद्धि और धन की प्राप्ति होती है| धनतेरस 2024 के दिन के बाद से ही दिवाली की भी तैयारियां शुरू कर दी जाती है| लक्ष्मी माता को घर में आमंत्रित करने के लिए घर के मुख्य के द्वार पर उनके पैरों की भांति पदचिह्न बनाए जाते है| इसके पश्चात शाम को कुल 13 दीपक जलाकर माता लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है| सौभाग्य प्राप्ति के लिए धनतेरस 2024 के दिन सोने व चांदी के बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है| इसके अलावा भी जमीन, कार खरीदने, निवेश करने तथा किसी भी व्यापार की नयी शुरुआत के लिए भी यह दिन बहुत शुभ माना जाता है| 

क्यों मनाई जाती है धनतेरस – Why is Dhanteras celebrated?

हिन्दू धर्म में प्रत्येक त्यौहार को मनाने के पीछे कोई ना कोई कारण अवश्य होता है| भारतीय संस्कृति में स्वास्थ्य को धन के कई ज्यादा ऊपर माना गया है| इसलिए एक कहावत भी है कि पहला सुख निरोगी काया, दूजा सुख घर में माया’ इसलिए धनतेरस 2024 को दिवाली से पहले बहुत महत्व दिया जाता है| धनतेरस को मनाने के पीछे बहुत सारी पौराणिक कथाएँ चली आ रही है| जिनके बारे में हम आपको आज बताएँगे 

पहली पौराणिक कथा – First Mythology

एक बहुत ही पुरानी कथा के अनुसार समुद्र मंथन के समय कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को भगवान धन्वंतरि अपने हाथो में अमृत का कलश लेकर प्रकट हुए थे| पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु ने ही चिकित्सा विज्ञान के विस्तार के लिए ही भगवान धन्वंतरि का अवतार लिया था| इन्हें भगवान व देवताओं का वैद्य भी कहा जाता है| भगवान धन्वंतरि की पूजा करने से आरोग्य सुख तथा स्वास्थ्य में लाभ मिलता है| इसके ही दो दिन समुद्र मंथन ने माता लक्ष्मी जी निकली थी| जिस दिन दिवाली का पावन त्यौहार मनाया जाता है|

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

दूसरी पौराणिक कथा – Second Mythology

धनतेरस 2024 का त्यौहार भगवान विष्णु के वामन अवतार से बहुत गहरा सम्बन्ध रखता है| क्योंकि इस दिन भगवान विष्णु देवताओं को राजा बलि के भय से मुक्त करने के लिए वामन अवतार में जन्म लिया था| भगवान वामन ने राजा बलि से तीन पग जमीन मांगी थी| तब भगवान वामन ने पहले पग में धरती, दूसरे में आसमान नाप दिया| जब तीसरा पैर रखने के लिए कोई स्थान नहीं बचा तो राजा बलि ने अपने सिर पर उनका पैर रखवा लिया| जिससे राजा बलि पाताल लोक में चले गए| इस तरह से भगवान वामन ने देवताओं को राजा के भय से मुक्ति दिलाई और उन्हें उनकी खोई हुई संपत्ति भी वापस मिल गयी| 

तीसरी पौराणिक कथा – Third Mythology

इस प्राचीन कथा के अनुसार उस समय में एक हेम नाम का राजा था| जिसकी रानी के एक पुत्र हुआ| इस बालक के जन्म के समय ही ज्योतिषियों ने बता दिया था कि जब इस बालक की शादी होगी तो शादी के चौथे दिन ही इसकी मृत्यु हो जाएगी| अपनी संतान की मृत्यु के भय के कारण राजा ने उस बालक को गुफा में एक ब्रह्मचारी के रूप में बड़ा किया| एक दिन महाराज हंस की पुत्री यमुना नदी के तट पर घूम रही थी| तभी उसकी नजर राजा हेमू के पुत्र को देखा| जिसको देखकर वह उससे काफी ज्यादा आकर्षित हुई| और उससे गंधर्व विवाह कर लिया| इसके बाद में वही हुआ जो कि भविष्यवाणी की गई थी|

यमराज ने इस अकाल मृत्यु से बचने के लिए धनतेरस 2024 की पूजा को सम्पूर्ण विधि विधान से करना ही बताया| 

धनतेरस 2024 के लिए पूजा विधि – Dhanteras 2024 Puja Vidhi

  • धनतेरस के दिन शाम के वक्त शुभ मुहूर्त में उत्तर की ओर कुबेर और धन्वंतरि की प्रतिमा की स्थापना करें।
  • इस दिन लोग भगवान कुबेर और भगवान धन्वंतरि की पूजा करते है। माँ लक्ष्मी और गणेश जी की प्रतिमा स्थापित करते है। इसके बाद दीये जलाते है और फिर पूजा करते है।
  • तिलक करने के बाद पुष्प,फल,मिठाई आदि चीजें अर्पित करें। कुबेर देवता को सफेद मिष्ठान और धन्वंतरि देव को पीले मिष्ठान का भोग लगाए। पूजा करते समय हम ‘ॐ ही कुबेराय नमः’ इस मंत्र का जाप करते है|
  • धनतेरस 2024 के दिन लोग कुबेर देवता और धन्वंतरि देव की पूजा अर्चना करने के बाद हम उनसे प्रार्थना करते है कि कभी भी हमें धन की कमी नहीं हो और हमेशा लक्ष्मी का वास हमारे घर में रहे। धनतेरस के दिन हम घर को डिजाइन वाली लाइटों से सजाते है। घर के आँगन में रंगोली बनाते है। और शाम को हम घर के दरवाजे पर दीपक जलाते है| 
  • इस धनतेरस 2024 के दिन विधि विधान से कुबेर देव की पूजा की जाती है। घरो के साथ-साथ जो लोग अपना व्यवसाय करते है। वे अपनो आफिसो मे भी पूजा करते है|

धनतेरस 2024 के दिन क्या ख़रीदे और क्या नहीं 

हिन्दू धर्म की मान्यताओं के अनुसार भगवान धन्वंतरि को पीतल की धातु अधिक प्रिय है| इसलिए इस दिन पीतल के बर्तन खरीदना बहुत ही शुभ माना जाता है| पीतल के समान के अलावा भी इस दिन सोने – चांदी के सामान व साथ ही बर्तन भी खरीदने चाहिए| सोने व चांदी से बनी हुई वस्तुएं घर में लाने से घर में आरोग्यता व समृद्धि का भी आगमन होता है| इस दिन घर में झाड़ू खरीदना भी बहुत शुभ माना जाता है| झाड़ू को माता लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है| इसलिए झाड़ू को घर में लाने से घर में लक्ष्मी जी का आगमन होता है|

धनतेरस 2024

धनतेरस के दिन लोग नए – नए सामान खरीदते है लेकिन इसका मतलब यह नही है कि इस दिन कुछ भी सामान खरीदा जा सकता है| कुछ सामान ऐसे भी होते है जिन्हें खरीदने से माता लक्ष्मी भक्तों से नाराज़ हो जाती है| मान्यता है कि धनतेरस के दिन चीनी या मिट्टी के शोपिस तथा लोहे के सामान को नहीं खरीदना चाहिए| लोहे को शनिदेव का कारक माना जाता है| जो कि अशुभ है|

धनतेरस 2024 का महत्व – Importance of Dhanteras 2024

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार समुद्र मंथन के समय भगवान धन्वंतरि धनतेरस के दिन अपने हाथो मे अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। धनतेरस 2024 के दिन हम धन्वंतरि देव,लक्ष्मी जी और कुबेर देव की पूजा की जाती है।धनतेरस 2024 के दिन कुबेर देव की विधि पूर्वक पूजा अर्चना करने से घर में धन की कमी नहीं होती है। धनतेरस के दिन हम अपने घरों को तरह-तरह की डिजाइन वाली लाइट और दीयों से घर को सजाते है। बाजारों को भी तरह-तरह की फैंसी डिजाइन वाली लाइटों से सजाते है|

लाइटों से सजाने के बाद बाजार जगमगा उठते है। धनतेरस के पहले से ही घरों की साफ सफाई करते है। धनतेरस के दिन सोने चांदी के आभूषण और बर्तनो की खरीदारी करना बहुत शुभ बताया गया है| लक्ष्मी माता को घर में आमंत्रित करने के लिए घर के मुख्य के द्वार पर उनके पैरों की भांति पदचिह्न बनाए जाते है| इसके पश्चात शाम को कुल 13 दीपक जलाकर माता लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है| सौभाग्य प्राप्ति के लिए धनतेरस 2024 के दिन सोने व चांदी के बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है|

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

धनतेरस 2024 के दिन अक्षत जरूर खरीदकर लाना चाहिए इससे माँ लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है और घर में भी धन की वृद्धि होती है। धनतेरस 2024 के दिन 11 गोमेद चक्र खरीद कर लाना चाहिए इस गोमेद चक्र की दिवाली के दिन पूजा करनी चाहिए। इसके बाद इन्हे एक पीले वस्त्र में बांधकर तिजोरी में रख दें। इससे घर में संपन्नता आती है। और घर के लोग निरोगी रहते है। धनतेरस 2024 के दिन श्री यंत्र खरीद कर घर मे लाये।

निष्कर्ष – Conclusion 

किसी भी तरह की पूजा करने के लिए हमें बहुत सारी तैयारियां करनी होती है| गावों में पूजा आसानी से हो जाती है लेकिन शहरों में लोगों के पास समय की कमी होती है| जिस वजह से वह लोग पूजा नहीं करवा पाते है तो उनकी इस समस्या का समाधान हम लेकर आये है 99Pandit के साथ| यह सबसे बेहतरीन प्लेटफार्म है जिससे आप किसी पूजा के लिए ऑनलाइन पंडित जी को बुक कर सकते है|  

आज हमने इस आर्टिकल के माध्यम से धनतेरस के बारें में काफी बाते जानी है| आज हमने धनतेरस पूजन के फ़ायदों के बारे में भी जाना| हम उम्मीद करते है कि हमारे द्वारा बताई गयी जानकारी से आपको कोई ना कोई मदद मिली होगी| इसके अलावा भी अगर आप किसी और पूजा के बारे में जानकारी लेना चाहते है। तो आप हमारी वेबसाइट 99Pandit पर जाकर सभी तरह की पूजा या त्योहारों के बारे में सम्पूर्ण जानकारी ले सकते है| 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q.इस वर्ष धनतेरस 2024 का शुभ मुहूर्त क्या है ?

A.धनतेरस 2024 पूजा का शुभ मुहूर्त 11 नवम्बर को शाम 06 बजकर 31 मिनट से रात 08 बजकर 13 मिनट तक रहेगा|

Q.धनतेरस का त्यौहार क्यों मनाया जाता है ?

A.एक बहुत ही पुरानी कथा के अनुसार समुद्र मंथन के समय कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को भगवान धन्वंतरि अपने हाथों में अमृत का कलश लेकर प्रकट हुए थे| तभी से धनतेरस का पर्व मनाया जाता है|

Q.क्या धनतेरस का सम्बन्ध यमराज से भी है ?

A.जी हाँ, धनतेरस का सम्बन्ध यमराज से भी है| यमराज जी कहते है कि यदि कोई व्यक्ति धनतेरस की पूजा पूर्ण विधि – विधान से करता है व दीपदान करता है तो उसे अकाल मृत्यु प्राप्त नहीं होती है|

Q.हमें धनतेरस के दिन क्या खाना चाहिए ? 

A.इस दिन हमें सबसे पहले कुबेर जी की पूजा करनी चाहिए तथा उन्हें भोग लगाना चाहिए| तथा धनतेरस के दिन आटे का हलवा, लापसी, पंचामृत, बूंदी के लड्डू व खीर खाना चाहिए|


99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Astrologer