Book A Pandit At Your Doorstep For 99Pandit PujaSatyanarayan Puja Book Now

Nag Panchami 2024 | नाग पंचमी 2024: Date, Time And Vidhi

99Pandit Ji
Last Updated:February 13, 2024

Book a pandit for Nag Panchami in a single click

Verified Pandit For Puja At Your Doorstep

99Pandit

The occasion of Nag panchami 2024 is celebrated in India with full devotion and dedication to the lord of Snakes. Nag panchami is celebrated in the Shravan month’s shukla paksha. On Nag panchami devotees feed milk to the snakes and snakes are worshipped on this day. The holy festival of Nag panchami represents the milk offered to snakes and women worship the serpent god.

Nag Panchami 2024

On the day of Nag Panchami, 2024 women worship the Serpent god and pray for the safety of their families. In Garuda Purana, it is mentioned that the idol of Nag should be worshipped on Nag panchami on both sides of the house. Nag is the lord of panchami tithi as per astrology. The Lord of snakes Sheshnag is worshipped in Nag panchami 2024.

Nag panchami 2024 falls in the month of monsoon and during Shravan which is considered the most auspicious. Nag panchami will be observed this year on 09 August 2024 according to Hindu panchang.

To know more about the Nag panchami 2024, rituals, history, date and time, and how we celebrate the festival of Nag panchami 2024. Read the complete blog to have a detailed description of it. 

What Is Nag Panchami

Nag panchami 2024 is observed during the Shravan month on Shukla paksha. After hariyali teej generally, Nag panchami comes two days after it. As Shravan month falls in July or August hence Nag panchami falls in July-August month as well according to the English calendar. 

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

To celebrate Nag panchami women worship Nag devta and feed milk to the snakes on the day. For the wellness and safety of family members, women also pray to the Lord of snakes. The tradition of Nag panchami is to offer prayers and worship to the God of the serpent throughout India by Hindus. 

There are some specific days to celebrate Nag panchami 2024 mentioned in the Hindu calendar. In Shravan month panchami tithi is considered auspicious to appease the Snake God. One of those significant days is Nag panchami which falls in the Shravan month’s Shukla paksha. 

According to belief, pleasing Snakes is the way to reach the serpent God (Sheshnag). However, the live snakes are worshipped by the devotee which is considered representative of the Serpent Gods worshipped and revered in Hinduism. 

Hence many serpent gods are worshipped by the Hindus throughout India, twelve snakes are offered worship on Nag panchami 2024 puja:

  • Ananta
  • Vasuki
  • Shesha
  • Padma
  • Kambala
  • Karkotaka
  • Ashvatara
  • Dhritarashtra
  • Shankhapal
  • Kaliya
  • Takshaka
  • Pingala

The mantra is chanted by the people and pandit to worship the snakes on Nag panchami follows:

  • सर्वे नागाः प्रीयन्तां मे ये केचित् पृथ्वीतले। ये च हेलिमरीचिस्था येऽन्तरे दिवि संस्थिताः॥
    ये नदीषु महानागा ये सरस्वतिगामिनः। ये च वापीतडगेषु तेषु सर्वेषु वै नमः॥
  • अनन्तं वासुकिं शेषं पद्मनाभं च कम्बलम्। शङ्ख पालं धृतराष्ट्रं तक्षकं कालियं तथा॥
    एतानि नव नामानि नागानां च महात्मनाम्। सायङ्काले पठेन्नित्यं प्रातःकाले विशेषतः।

    तस्य विषभयं नास्ति सर्वत्र विजयी भवेत्॥

The Story Of Nag Panchami

On Nag panchami there are many stories based. One of the stories, if we talk about it, follows: once there was a farmer who lived in a state who had one daughter and two sons. One day due to running the plow the snake’s children were crushed and died. 

Nag Panchami 2024

In the search for revenge for the murder of a child, the snake kept mourning at first and went to kill the farmer. The snake that night bites the farmer, his wife, and both boys but when he arrives to bite the daughter of a farmer. She placed a bowl of milk and started apologizing by folding her hands in front of the serpent. 

This made the Serpent delighted by the farmer’s daughter and raised her parents and brothers alive. The day was shukla paksha of Shravan month. Since then every year on this day Serpent is worshipped and the day is dedicated to ignoring the wrath of the serpent. Hence the tradition of Nag panchami started. 

Legend Associated With Nag Panchami

As seen by the numerous references to snakes in Indian scriptures like the Agni Purana and Narada Purana, etc., snakes retain a special place in Hindu culture. There are various myths surrounding Nag Panchami, and one of them is told in the Mahabharata.

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

In this myth, Lord Kashyapa, the son of Lord Brahma, marries Kadru and Vinata, the daughters of King Prajapati. Kadru is thought to have given birth to the Naga race, in whose memory the celebration of Nag Panchami subsequently developed. In contrast, Vinata gave birth to Aruna and Garuda, who later served as the Sun God’s charioteer.

A different myth dates back to the reign of Lord Krishna. The myth claims that when Lord Krishna was a young child, the enormous serpent Kaliya attacked him. Then, Krishna leapt onto Kaliya’s several heads and started dancing. Kaliya quickly started vomiting blood as a result, and she also started to go unconscious. When his wives saw this, they came and begged Lord Krishna not to kill him. Finally, he expressed his regret to Lord Krishna and vowed to stop disturbing people.

Significance Of Nag Panchami

On this day, they worship the Nagalok Lord. Several nations around the world, including our neighbouring Nepal, commemorate it in addition to India. When we hear the name of the snake, we immediately feel afraid. Additionally, the Snake is seen as a direct form of Kaal. 

On Nag Panchami, however, worshipping the snake dispels all anxieties. People who worship the snake god offer milk to him on the day of Nag Panchami. At the same time, a snake image is often produced or placed at the front of the house in several locations. 

Nag Panchami 2024

Besides, women adore Nag as their brother on Nag Panchami. The Nag Panchami narrative contains the explanation. It is also beneficial to worship Lord Shiva on this day. Many believe that worshiping Mahadev in the month of Sawan holds greater significance. Furthermore, many believe that you should fast on Panchami for a year, or twelve months if someone in your home has died due to a snake bite. As a result, there won’t ever be a need for snake fear.

Throughout our nation, devotees can find Nag Devta temples, notably in Maharashtra and Karnataka, where they can pay special homage to the god Naga Panchami. During this celebration, devotees also protect serpents. This motivates us to protect snakes from rogue traders who either illegally trade them to foreign areas or murder them for a variety of causes.

Muhurat And Date Of Nag Panchami

Nag Panchami 2024 falls on 09 August. The fifth day of the bright half of Shravan month is the day to celebrate Nag panchami. According to astrology, snakes rule over the fifth Hindu date, so people worship snakes on this day.

The muhurat to observe the Nag panchami is as follows:

  1. People observe Naga Vrat on Shravana Shukla Panchami (the fifth day of the bright half of the Shravan month).
  2. You must observe Vrat on Chaturthi if Panchami is in effect for less than three muhurats on its Tithi, and Chaturthi was in effect for less than three muhurats the day before.
  3. It is also believed that one can only observe the fast the day after Chaturthi if it lasts for more than three muhurats and concludes after the first two muhurats of Panchami.
  • Day– Monday
  • Date– 09th August 2024 
  • Tithi– Shravan month’s Shukla Paksha’s Panchami
  • Muhurat– From 09th August 2024 at 12:36 AM to 10th August 2024 at 03:14 AM

Puja Vidhi For Nag Panchami

Typically, people observe Nag Panchami during the Shukla Paksha of the Shravan month. Additionally, people in various regions also celebrate it during the Chaitra Shukla Panchami or Bhadrapada Shukla Panchami, according to tradition. In some places, people celebrate this festival in Krishna Paksha, and the timing varies from region to region.

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

The festival reveres its eight snakes as its deities. Today, people worship them. Anant, Vasuki, Padma, Mahapadma, Takshak, Kuleer, Karkata, and Shankha are their names. On Chaturthi, have one meal, and then on Panchami, observe a fast. After Panchami, you can have dinner once the fast ends.

Set the snake image or earthen idol on the wooden stool for Puja. Present rice, flowers, vermillion, turmeric, and them to Nag Devta. Next, offer the concoction of raw milk, ghee, and sugar to the Nag Devta who is seated on the stool.

After the Puja Ritual is complete, conduct the Snake God Aarti. You can also provide a snake charmer with donations and make an offering of milk to the snake. Worshippers should listen and recite the Nag panchami katha at the end. 

Nag Panchami Celebrations And Rituals

On Nag Panchami, people observe numerous rites. Women leave a snake sculpture made of cow dung at the door on this day. After prayer, they serve Kusha grass, milk, akshat, and sandalwood to the snake. Special options include ladoos, kheer, and boiled vermicelli (Sevai). It is said that worshipping the snakes of Chamatkar Pur grants all wishes. On this day, we liberally use milk in the delicacies made at home.

Particularly important are these celebrations in Gujarat and Ujjain, two regions of India. During Naga Panchami, tens of thousands of worshippers swarm the Mahakaleshwar Mandir in Ujjain. People use milk to bathe and worship Sheshnag idols. On this day, people pray for liberation and paradise. 

Advantages Of Nag Panchami

  • It is a common belief that worshipping Naag Dev on this day can eliminate any dread of snakes doing you harm.
  • A person’s horoscope’s impacts of “Kaal Sarp Dosh” are also lessened by performing the Puja. 
  • On this day, worshipping the Lord also aids in casting out curses and evil omens.
  • Performing Naag Panchami puja can greatly reduce Vastu Dosha.
  • It aids in the body’s elimination of many hormonal imbalances.
  • It is quite useful for reaping the rewards of one’s ancestors’ property.
  • The Puja also plays a significant role in discovering and benefiting from hidden wealth.
  • It works well to invalidate the Nisantan yog of childless couples.

Important Facts Of Nag Panchami

There are some interesting facts about Nag panchami you should know. In Hinduism performing Nag panchami is the general ritual. Ploughing the earth and cutting shrubs are prohibited on this day. Also, ensure that we do not harm or kill any snakes.

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

This way makes people aware to respect and embrace all creatures made by God. It is also advised not to use any iron utensils in the kitchen on Nag Panchami.

Furthermore, gaining protection from snakes is the most obvious justification for celebrating Nag Panchami. In the month of Shravan, there is a lot of rain. Rising water levels drive snakes from their burrows. They might nip at people to defend themselves. Therefore, snakes are fed milk on this day. Scientists believe that snakes remember the people they interact with. The goal of the entire practice is to appease the snakes and stop an assault. 

In Southern India, people celebrate Naga Panchami to enhance the relationship between a brother and a sister. On this day, sisters apply milk or ghee (clarified butter) to their brothers’ backs, spines, and navels. The goal of doing this is to shield the brother from future adversity.

Accordingly, the love and strength between brother and sister could be signified by rubbing the milk.

Another story of Nag panchami is about Samundra Manthan. As we all know that Lord Shiva drank the poison released from Samundra Manthan. Some drops of poison fell on the ground, and snakes consumed them. Therefore, people observe Nag Panchami and worship snakes for this reason.

Wrap Up

In the Hindu culture, Nag panchami is the auspicious and significant ritual performed to worship the serpent gods. People have observed the tradition of Nag Panchami for decades. During the celebration of Nag panchami devotees offer snake idols, pictures, flowers, and most milk to the god of snakes or live snakes. 

Although the ceremony occurs annually, having a qualified pandit direct it would enhance its auspiciousness for you and your family. Through their qualified and experienced pandits, 99Pandit, a prominent puja service, assists individuals in doing rituals and puja during Nag Panchami. To bring the graces and prosperity you seek home, speak with the professionals.

नाग पंचमी 2024: शुभ अवसर पर जाने परंपरा और तिथि व धार्मिक महत्व

हिन्दू धर्म में सभी त्यौहार अपने आप में ही अलग महत्व रखते है | हमारे भारत देश में कई सारे त्यौहार आते व जाते रहते है | इसी प्रकार आज हम बात करने वाले है नाग पंचमी 2024 के बारे में सभी प्रकार की जानकारी देने वाले है | आइये हम नाग पंचमी के बारे में तथा इसके शुभ मुहूर्त के बारे में जानेंगे | 09 अगस्त 2024 को नाग पंचमी की पूजा के लिए 02 घंटे 40 मिनट का शुभ मुहूर्त है | नागपंचमी की पूजा का सबसे शुभ मुहूर्त सुबह 05 बजकर 47 मिनट से 08 बजकर 27 मिनट तक रहने वाला है |  

नाग पंचमी हिन्दुओ का सबसे प्रमुख त्योहार है | नाग पंचमी का त्यौहार सावन के महीने में मनाया जाता है | नाग पंचमी की दो तिथियां होती है पहली शुक्ल पक्ष और दूसरी कृष्ण पक्ष में | इस दिन नाग देवता यानी सर्प की पूजा की जाती है | नाग देवता पर इस दिन दूध चढ़ाया जाता है | कई जगहों पर नाग देवता को दूध पिलाने की भी प्रथा होती है | लेकिन नाग को दूध पिलाना उसके लिए काफी हानिकारक भी हो सकता है |

Nag Panchami 2024

इस पावन पर्व के शुभ अवसर पर वाराणसी में नाग कुआँ नाम की जगह पर काफी बड़े मेले का आयोजन किया जाता है | इसके पीछे भी एक लोककथा है जिसके बारे में हम आपको पूर्ण रूप से बताएँगे | ऐसा कहा जाता है कि तक्षक गरुड़ जी से बचकर संस्कृति की शिक्षा लेने हेतु बालक रूप में काशी में रहने आये थे | इसके बारे में गरुड़ जी को जानकारी हो गयी और उन्होंने तक्षक पर हमला कर दिया किन्तु अपने गुरु जी के प्रभाव के कारण गरुड़ जी ने तक्षक नाग को अभय दान में दिया |

ये भी पढ़े – गोवर्धन पूजा 2024

नाग पंचमी के रीति रिवाज और परंपरा 

हिन्दू धर्म में पशु – पक्षियों, वनस्पतियों और सम्पूर्ण प्रकृति के साथ आत्मिक सम्बन्ध बनाने का प्रयास किया जाता है | हमारे भारत देश में गाय, बैल और कोयल की भी पूजा की जाती है | इसके अलावा हिन्दू धर्म में एक कोकिला व्रत भी होता है इसमें कोयल देखे और उसके स्वर को सुने बिना भोजन नहीं किया जाता है |  फिर वृषभोत्सव के समय बैलों की पूजा की जाती है | वट सावित्री व्रत के समय बरगद के पेड़ की भी पूजा की जाती है | जब हम गाय, वृक्ष, और कोयल की पूजा करने के समय उनके साथ आत्मीयता का सम्बन्ध जोड़ने का प्रयास करते है तो उसके पीछे कारण यही होता है कि वे हमारे किसी न किसी तरह से उपयोगी है |

अगर हम सांप की बात करे तो हमारी किसी तरह से उपयोगी नहीं है | इसके विपरीत लोगों को सांपों से डर लगता है और यदि सांप क्रोध में हो तो आपको काट भी सकता है  जिससे आपके प्राण भी जा सकते है | जबकि अगर देखा जाए तो सांप भगवान शंकर के गले में विराजमान होता है | इसलिए वह भी पूजनीय योग्य है | आर्य समाज के लोगों ने नाग को देवता के रूप में स्वीकार कर उनके हृदय की उदारता के हमें दर्शन करवाए है |  विभिन्न समूहों के उपासना के तरीके भी अलग – अलग होते है | यदि इस फर्क से होने वाले विवाद को यदि हटा दिया जाए और मानव यदि वेदों के बारे और ज्ञान ले तभी वो इन भव्य विचारों को अपना सकता है | आर्य लोगों का इन पर अखंड विश्वास है | 

भारत देश में सर्प पूजन 

जैसा की आप सभी लोगो को पता ही है कि भारत एक कृषि प्रदान देश है और यह सांप खेतों की रक्षा करते है | खेतों में अलग – अलग जीव जैसे चूहे व अन्य जीव जन्तुओ जो फसल को ख़राब कर सकते है, उनको खाकर फसल को ख़राब होने से बचा लेता है | सांप द्वारा हमें कई  मूक सन्देश भी दिए जातें है | जिन्हें समझने अथवा देखने के लिए हमारे पास शुभग्राही दृष्टि का होना आवश्यक है |

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

जितना लोगों ने सांपो के बारे में जो बातें फेला रखी है वो पूर्ण रूप से सत्य नहीं है | सांप सामन्यात: किसी भी जीव या मनुष्य पर तब तक हमला नहीं करता है | जब तक उसे अपने सामने वाले से कोई खतरा ना हो | कुछ लोग केवल अपने डर की वजह से सांप के बिना कुछ नुकसान पहुँचाए ही उसपर हमला कर देते है | हमले से खुद को बचाने के लिए ही वह दूसरों को काटता है | सांपो को सुगंध अत्यंत प्रिय होती है जिसमे से खासकर चंपा के फूलों के पास ही वे बैठे रहते है | इसके अलावा केवड़े के वन में भी सांपो को देखा जा सकता है |

सांप बिना किसी वजह से लोगों को नहीं काटता है | यदि उसे आपसे खतरा है तभी वो आप पर हमला कर सकता है

सांप बिना किसी वजह अपनी वो शक्ति जिसे उसने कई वर्षो में प्राप्त किया हो यानी उसका विष | वो उसे आप पर  व्यर्थ नहीं करेगा | इससे हमे भी यही सीख मिलती है कि हमे भी अपनी ऊर्जा को किसी पर भी  व्यर्थ नहीं करना चाहिए 

ये भी पढ़े – कृष्ण जन्माष्टमी 2024 : सही तिथि, पूजा का शुभ मुहूर्त, नियम और फायदे

नाग पंचमी की पूजन विधि 

नाग पंचमी का त्यौहार हिन्दुओ के लिए काफी महत्व रखता है | यह त्यौहार सावन माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है | नाग पंचमी के नाग यानी सांपों की पूजा की जाती है | आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से नाग पंचमी की पूजा की विधि क्या – क्या होती है | 

  • नित्य के कार्य को पूर्ण करने के पश्चात जिस स्थान पर आपको पूजा करनी है उसे साफ़ सुथरा रखे |
  • पूजा वाले स्थान पर उचित दिशा का चयन करे और वह लकड़ी का पाट या चौकी लगा दे |
  • अब उस चौकी के ऊपर नाग का चित्र  या मिट्टी की मूर्ति को वह बैठाए |
  • अब उस तस्वीर या मूर्ति को  गंगाजल  से स्नान करवाए  | फिर उन्हें नमस्कार करे तथा ध्यान करे |
  • इसके पश्चात हल्दी , चावल , कुमकुम और फुल भगवान को अर्पित करते है और पूरी श्रद्धा से उनकी पूजा करे |
  • उसके बाद कच्चे दूध में चीनी और घी मिलाकर नाग की प्रतिमा को अर्पित करते है 
  • पूजा करने के बाद में नाग देवता की आरती उतारी जाती है |
  • पूजा को पूर्ण कर लेने के पश्चात नागपंचमी की कथा अवश्य सुननी चाहिए |
  • पूजा के पश्चात दान आदि देने के बाद ही उपवास का पारण करे |

अष्टनाग पूजा  

पंचमी तिथि के देव नाग है इसलिए नाग पंचमी के अवसर पर पूरे 8 नागों की पूजा की जाती है | 8 नागों के नाम निम्न है : 1. वासुकी  2. अनन्त  3. पद्म 4. महापद्म  5. तक्षक  6. कुलीर  7. कर्कट व  8. शंख |

इन सभी के साथ वासुकी की बहन मनसा देवी और उनके पुत्र आस्तिक मुनि की भी पूजा की जाती है | इनके साथ में बलराम जी की माँ रोहिणी और सर्पों की माता सुरसा की भी वंदना की जाती है |

Nag Panchami 2024

नागपंचमी व्रत

अगर आप इस दिन व्रत करने के इच्छुक है तो चतुर्थी के दिन एक बार भोजन करे और पंचमी के दिन उपवास रखे और शाम को अन्न ग्रहण करें | यदि दुसरे दिन पंचमी में तीन मुहूर्त कम हो या फिर पहले दिन तीन मुहूर्त से कम रहने वाली चतुर्थी से वह युक्त हो तो पहले ही दिन ये व्रत कर लिया जाता है | इसका तात्पर्य यही है कि चतुर्थी के दिन एक बार भोजन करें तथा पंचमी के दिन उपवास रखे और पूजा आदि कार्यो को ख़त्म करके ही रात्रि में ही अपना उपवास खोले व भोजन ग्रहण करे |

ये भी पढ़े – रुद्राभिषेक पूजन सामग्री की संपूर्ण सूची, विधि और महत्व

नाग पंचमी के दिन ध्यान देने योग्य बातें  

हिन्दू धर्म के लोग अपने त्योहारों के बारे में सारी जानकारी होती है लेकिन बहुत से ऐसे लोग है जो इसके बारे में नहीं जानते होंगे तो आज हम आपको ऐसी बातें बताएंगे जिनका यदि आप ध्यान रखते हो तो आप पर भी नाग देवता की असीम कृपा प्राप्त होगी तो ऐसी बातें जिनका आपको पूजा और व्रत करते समय ध्यान रखना है वो निम्न है : 

  • नाग पंचमी के दिन व्रत – उपवास करना शुभ माना जाता है | ऐसा कहा जाता है कि जो भी नाग पंचमी के दिन उपवास करता है | उसे कभी कभी  सांप द्वारा नहीं काँटा जाता है | इस बात का ख़ास ध्यान रखे कि यदि आप किसान है तो इस दिन खेती बिलकुल भी न करे |
  • नागपंचमी के दिन नाग देवता को दूध , मिठाई  और पुष्प जरूर अर्पित करें | इस दिन पेड़ो को काटना भी सख्त मना होता है | शास्त्रों में बताया गया है कि नाग पंचमी के दिन पेड़ो को काटने से सांपो को चोट लग सकती है क्यूंकि सांप अक्सर पेड़ो में रहते है |
  • जिस व्यक्ति की कुंडली में राहु और केतु भारी हो तो उसे नागपंचमी के दिन नाग देवता की पूजा अवश्य करनी चाहिए | इस दिन सुई – धागे का इस्तेमाल करना भी अशुभ माना जाता है |
  • नाग देवता को दूध चढ़ाते समय दूध पीतल के लोटे से नहीं बल्कि तांबे के लोटे से चढाना चाहिए और इस दिन धारदार व नुकीली चीजों का इस्तेमाल करने बचना चाहिए | 

नागपंचमी का महत्व 

हिन्दू ग्रंथों की मान्यता के अनुसार जब भगवान श्री कृष्ण छोटे थे तो वे यमुना नदी के तट पर खेल रहे थे | तब उनकी गेंद पेड़ की झाड़ियो में आकर फस गयी और जब उन्होंने इसे निकलने की कोशिश की तो वे फिसल कर नदी में गिर गये | तभी कालिया नाग ने उन पर हमला कर दिया किन्तु भगवान ने बहुत बहादुरी से उनका सामना किया |

99pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99pandit

यह जानने के बाद की कृष्ण कोई साधारण बालक नही है | कालिया नाग ने श्री कृष्ण से क्षमा मांगी और दोबारा किसी को भी परेशान ना करने का वचन दिया | इसलिए तभी से नागपंचमी के दिन नागो को पुजा जाता है | यह त्यौहार हर राज्य में अलग – अलग तरीके से मनाया जाता है | महाराष्ट्र  में  निंद्रा में पड़े कोबरे को घर लेकर दान और कपड़े मांगने के साथ छुट्टी मनाई जाती है |

केरल में भक्त खुद को और अपने परिवार के सदस्यों को सांप के काटे जाने से बचने के लिए लोग धातु और मिट्टी की मूर्तियों की पूजा कर रहे थे | लोग भगवान शंकर को प्रसन्न करने के लिए नागो की पूजा करते हैं | ऐसा इसलिए है क्यूंकि शिव जी भी नागो से प्रेम करते थे | इस दिन उपासको को मिट्टी खोदने से बचने के लिए कहा जाता है |

ये भी पढ़े – अखण्ड रामायण पाठ पूजन सामग्री

निष्कर्ष 

हमने इस आर्टिकल के माध्यम से नागपंचमी 2024 के बारे में आपको हर एक चीज़ पूर्ण रूप से बताने की कोशिश की है | नागपंचमी का इतिहास , शुभ मुहूर्त और दिनांक आदि के बारे में भी आपको बताया गया है | हमने इस आर्टिकल कुछ ऐसी बातों के बारे में भी बताया जिसका आपको नागपंचमी 2024 अखण्ड रामायण पाठ पूजन सामग्री वाले दिन ध्यान रखना होगा | इसके अलावा भी अगर आप किसी और पूजा के बारे में जानकारी लेना चाहते है। तो आप हमारी वेबसाइट पर जाकर सभी तरह की पूजा या त्योहारों के बारे में सम्पूर्ण ज्ञान ले सकते है।

इसके अलावा अगर आप ऑनलाइन किसी भी पूजा जैसे सुंदरकांड, अखंड रामायण, गृहप्रवेश और विवाह के लिए भी आप हमारी वेबसाइट 99Pandit की सहायता से ऑनलाइन पंडित  बहुत आसानी से बुक कर सकते है। आप कॉल के माध्यम से भी पंडित जी को किसी भी पूजा के लिए बुक कर सकते है जो कि वेबसाइट पर दिए गए है फिर चाहे आप किसी भी राज्य से हो।

Frequently Asked Question

Q. What is Nag Panchami Puja?

A.Nag panchami is celebrated in the Shravan month’s shukla paksha. On Nag panchami devotees feed milk to the snakes and snakes are worshipped on this day. The holy festival of Nag panchami represents the milk offered to snakes and women worship the serpent god.

Q. When is Nag panchami in 2024?

A.In 2024, Nag panchami will be observed on 09 August. The fifth day of the bright half of Shravan month is the day to celebrate Nag panchami.

Q. Which legend is associated with Nag panchami?

A. According to the Hindu myths surrounding Nag Panchami, one of them is told in the Mahabharata. In this myth, Lord Kashyapa, the son of Lord Brahma, marries Kadru and Vinata, the daughters of King Prajapati. Kadru is thought to have given birth to the Naga race, in whose memory the celebration of Nag Panchami subsequently developed. In contrast, Vinata gave birth to Aruna and Garuda, who later served as the Sun God’s charioteer.

Q. What things are prohibited on Nag panchami?

A. On Nag panchami puja day ploughing the earth and cutting shrubs are not allowed. Also to ensure that no snakes should be harmed or killed. As well it is advised to not use any iron utensils in the kitchen on Nag panchami.

Q. What items did women offer to God snakes on Nag panchami?

A. Kusha grass, milk, akshat, and sandalwood are served to the snake after prayer. Special options include ladoos, kheer, and boiled vermicelli (Sevai).

99Pandit

100% FREE CALL TO DECIDE DATE(MUHURAT)

99Pandit
Book A Astrologer